Latest News

Showing posts with label Varanasi News. Show all posts
Showing posts with label Varanasi News. Show all posts

Saturday, June 22, 2024

चिरईगांव के बीडीओ का एक और कमाल, सीडीपीओ ने पत्र लिखकर घटिया पोषाहार आपूर्ति की शिकायत की, फिर भी साहब हैं अनजान

वाराणसी: विकास खण्ड चिरईगांव के आंगनबाड़ी केन्द्रों पर पंजीकृत गर्भवती, मातृ महिलाओं के साथ ही बच्चों के स्वास्थ्य से किस प्रकार खिलवाड़ किया जा रहा है इसका खुलासा आखिरकार उस समय हो गया जब सीडीपीओ ने खण्ड विकास अधिकारी को पत्र लिखकर पोषाहार में कीड़े व फफूंद होने की जानकारी दी। सीडीपीओ ने बीडीओ से जांच कराने की भी मांग की। विभागीय सूत्रों की मानें तो वितरित होने वाला खाद्यान्न घटिया रख रखाव के चलते उत्पादन प्लान्ट में ही खराब हो गया था इसके बावजूद उसे बच्चों व गर्भवती महिलाओं को बांटने के लिए भेज दिया गया।


शनिदेव की कृपा से इन राशियों का चमकेगा भाग्य, पढ़ें आज का राशिफल

उल्लेखनीय है कि चिरईगांव विकास खण्ड के आंगनबाड़ी केन्द्रों से गर्भवती, मातृ महिलाओं व बच्चों में वितरित किए जाने वाले खाद्यान्न का उत्पादन ग्राम पंचायत नेवादा पोष्ट कमौली में एक स्वयं सहायता समूह की महिलाओं द्वारा किये जाने की बात सामने आयी है। महिलाएं ड्राइ फ्रूट्स खाद्यान्न का उत्पादन और पैकैजिंग करती है इसके बाद उसे ब्लाक स्थित सीडीपीओ कार्यालय में सप्लाई किया जाता है। वहां से उठाकर गांवों में स्वयं सहायता समूह की महिलाएं ले जाती है और आंगनबाड़ी कार्यकत्रियां उस खाद्यान्न को अपने अपने केन्द्रों से पंजीकृत लाभार्थियों में वितरित करती है। 

यह भी पढ़े: अयोध्या और प्रयागराज में बनेगा वीवीआईपी गेस्ट हाउस,क्या होगी खासियत

पोषाहार पैकेटों में मिले कीड़े व फफूंद

इस बीच एनआरएलएम प्लांट से मिले  खाद्यान्न के घटिया होने की शिकायत लाभार्थियों की ओर से सीडीपीओ कार्यालय पर की जा रही थी । शुक्रवार को कुछ ग्रामीण शिकायत लेकर पहुंचे तो सीडीपीओ विजय कृष्ण उपाध्याय ने खाद्यान्न के पैकेटों को बारीकी से निरीक्षण किया तो पैकेट पर उत्पादन व उपभोग तिथि अंकित नहीं थी। सीडीपीओ ने बताया कि अधिकांश पोषाहार पैकेटों का वजन भी निर्धारित वजन से से कम मिला। कुछ खाद्यान्न के पैकेटों में अन्दर कीड़े व फफूंद भी मिले। सीडीपीओ ने ब्लाक के विभागीय एडीओ को फोन कर प्रकरण की जानकारी दी। थोड़ी ही देर में ब्लाक मिशन मैनेजर सीडीपीओ कार्यालय पहुंचे उन्होंने गर्भवती महिलाओं व बच्चों को खिलाने वाले ड्राई  फ्रूट्स के पैकेटों का हाल देखा लेकिन कोई जवाब नहीं दे सके।

यह भी पढ़े: हृदय में स्पष्टता है तो मन में भी स्पष्टता होगी - हार्टफुलनेस

बीडीओ बोले मामला मेरे संज्ञान में नही

उक्त प्रकरण के सम्बंध में ब्लाक के बीडीओ विमल प्रकाश पाण्डेय से बात की गई तो हर बार की तरह उनका रटा रटाया बयान ही सामने आया उन्होंने बताया कि यह प्रकरण अभी मेरे संज्ञान में नहीं है। जबकि सीडीपीओ ने बीडीओ को पत्र लिखकर अवगत कराया है ऐसे में बीडीओ का यह कहकर पल्ला झाड़ा कि प्रकरण मेरे संज्ञान में नहीं है यह समझ के परे है। बीडीओ कहना था कि शनिवार को मैं स्वयं इसकी जांच करके स्थिति की जानकारी लूंगा।

यह भी पढ़े: सीएम केजरीवाल को हाईकोर्ट ने जारी किया नोटिस, जमानत तो दूर की बात, अभी तो स्टेम मिलेगा या नहीं, इस पर आएगा फैसला

Friday, June 21, 2024

हृदय में स्पष्टता है तो मन में भी स्पष्टता होगी - हार्टफुलनेस

चिरईगांव: अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर विकास खंड के ग्रामसभा उमरहां के पंचायत भवन पर ग्राम प्रधान उदल पटेल के सहयोग से हार्टफुलनेस प्रशिक्षक सुनील कुमार "योगी" द्वारा एक दिवसीय योग शिविर का आयोजन किया गया। प्रशिक्षक द्वारा आसन, प्राणायाम के साथ हार्टफुलनेस ध्यान कराया। 


यह भी पढ़े: सीएम केजरीवाल को हाईकोर्ट ने जारी किया नोटिस, जमानत तो दूर की बात, अभी तो स्टेम मिलेगा या नहीं, इस पर आएगा फैसला

प्रशिक्षक सुनील कुमार ने बताया की हार्टफुलनेस हृदय पर केन्द्रित होकर जीने की एक जीवनशैली है जिसमे हम हर पल अपने हृदय का अनुसरण करते है। इस आध्यात्मिक अभ्यास के द्वारा आप हर क्षण जागृत और परिष्कृत हो चुके हृदय के गुणों और भावो के साथ स्वाभाविक रूप से जीना सीखते है। इसके गुण है सरलता, विनम्रता, पवित्रता, करुणा, ईमानदारी, संतोष, सच्चाई, क्षमा, उदारता, स्वीकार्यता और हृदय का मौलिक गुण प्रेम। पहले दिन से ही हार्टफुलनेस के इन अभ्यासो से हमारे भीतर ये गुण प्रकट होने लगते है।

यह भी पढ़े: डीपीआरओ ने सरैया बिशुनपुरा ग्राम सभा का किया औचक निरीक्षण, तत्कालीन सचिव को लगाई फटकार

उन्होंने बताया कि हार्टफुलनेस जीवनशैली चार मूलभूत अभ्यासों पर आधारित है - रिलेक्सेशन, ध्यान, सफाई और प्रार्थना जिन्हे सीख कर हम अपने जीवन में शामिल कर सकते है । ये अभ्यास अपने आप में अनोखा है जिसमे यौगिक प्राणाहुति की सहायता से क्रमिक विकास के प्रति हमारा दृष्टिकोण अत्यंत जीवंत हो उठता है। हमारा ह्रदय हमारा जमीर है। यह हर क्षण हमारा मार्गदर्शन करता है। हमारे विचारों और भावनाओं की जड़े हृदय में होती है और उसी प्रकार हमारे हृदय की दशा हमारी मानसिक,भावनात्मक और आध्यात्मिक अवस्थाओं का निर्धारण करती है। यदि हृदय में स्पष्टता है तो मन में भी स्पष्टता होगी। जब हृदय में शांति होगी तो मन भी स्थिर रहेगा।

यह भी पढ़े: दुष्कर्म के मुकदमे मे वांछित अभियुक्त राकेश कुमार को चौबेपुर पुलिस ने गिरफ्तार कर भेजा जेल

कार्यक्रम में संगीता सिंह (प्रधान अध्यापिका प्राथमिक विद्यालय उमरहा), नवनीत श्रीवास्तव (पूर्व सांसद प्रतिनिधि), राकेश (बुनकर विभाग क्लस्टर चिरईगांव), रविन्द्र कुमार (सहायक अध्यापक प्राथमिक विद्यालय), रमेश राम, सानिया बानो, तरन्नुम, सरवरे आलम, रुकसाना बेगम, सायदा, ग़नेश प्रसाद इत्यादि उपस्थित रहे।

यह भी पढ़े: पाँच साल की रुही को मिला नया जीवन, दिल में छेद का हुआ सफल ऑपरेशन 

डीपीआरओ ने सरैया बिशुनपुरा ग्राम सभा का किया औचक निरीक्षण, तत्कालीन सचिव को लगाई फटकार

चिरईगांव: विकास खण्ड के सरैया बिशुनपुरा ग्रामसभा का डीपीआरओ ने शुक्रवार को किया औचक निरिक्षण जिसमे उनके साथ विकास खण्ड से सहायक विकास अधिकारी (पंचायत) कमलेश सिंह, तत्कालीन सचीव आशुतोष और वर्तमान सचिव राजेश मौके पर उपस्थित थे.


यह भी पढ़े: दुष्कर्म के मुकदमे मे वांछित अभियुक्त राकेश कुमार को चौबेपुर पुलिस ने गिरफ्तार कर भेजा जेल

आपको बता दें कि डीपीआरओ कार्यालय में किसी के द्वारा SBM के हुए कार्यों को लेकर शिकायत किया गया था. शिकायतकर्ता ने यह आरोप लगाया था कि SBM में जितने भी गड्डे बनवाये गए है किसी का भी जेई के द्वारा ना ही MB कराया गया और ना ही एस्टीमेट बनवाया गया है और एक निजी संस्था (अमन इंटरप्राइजेज) को भुगतान कर दिया गया है.

यह भी पढ़े: पाँच साल की रुही को मिला नया जीवन, दिल में छेद का हुआ सफल ऑपरेशन 

मौके पर पहुचे डीपीआरओ ने जब तत्कालीन सचिव आशुतोष से इसके बारे में जानकारी मांगी तो सचिव ने सही जानकारी नही दिया जिससे नाराज होकर डीपीआरओ ने तत्कालीन सचिव को कड़ी फटकार लगते हुए एक दिन के अन्दर इस के से जुड़े अभिलेख को माँगा है साथ ही उन्होंने जिस निजी फर्म (अमन इंटरप्राइजेज) को भुगतान किया है उसके बारे में भी जानकारी मांगी तो सचीव आशुतोष द्वारा यह बताया गया कि इसी फार्म को मटेरियल के साथ साथ मजदूरों की मजदूरी भी दी गयी है.

यह भी पढ़े: मातृशक्ति अमृता श्रीवास्तव के साथ सैकड़ो कार्यकर्ताओं ने गौ रक्षा का लिया संकल्प 

इस बात की जानकारी तत्कालीन सचिव के द्वारा होने पर डीपीआरओ ने और भी ज्यादा नाराजगी जाहिर किया और एक दिन के अन्दर अभिलेख लेकर विकास भवन आने का आदेश जारी कर दिया. जब हमारी टीम ने इस बारे में डीपीआरओ से बात किया तो उन्होंने बताया कि अभी अभिलेख मिलने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है साथ ही उन्होंने यह भी कहा की दो से तीन दिन के अंदर जाँच आख्या आप लोगों को मिल जाएगी. अब देखना यह है कि सभी जांचों की तरह ही इस जाँच की भी आख्या आती है या फिर यह भी ठन्डे बस्ते में चला जाता है.   

यह भी पढ़े: तन-मन दोनों को स्वस्थ रखने का माध्यम है योग: डॉ मनोज तिवारी

दुष्कर्म के मुकदमे मे वांछित अभियुक्त राकेश कुमार को चौबेपुर पुलिस ने गिरफ्तार कर भेजा जेल

 वाराणसी: पुलिस आयुक्त के अपराधों की रोकथाम एवं वांछित/फरार अभियुक्तों की गिरफ़्तारी हेतु चलाये जा रहे अभियान के क्रम में पुलिस उपायुक्त वरुणा ज़ोन के निर्देशन मे अपर पुलिस उपायुक्त वरुणा जोन के पर्यवेक्षण में एवं  सहायक पुलिस आयुक्त सारनाथ के नेतृत्व मे थाना चौबेपुर पुलिस टीम द्वारा मु0अ0सं0-363/2024 धारा 376,323,504,506 भा0द0वि0 थाना चौबेपुर कमिश्नरेट वाराणसी से संबंधित नामजद वांछित अभियुक्त राकेश कुमार पुत्र राजेन्द्र निवासी हडियाडीह थाना चौबेपुर कमिश्नरेट वाराणसी को दिनांक-19.06.2024 को समय करीब 12.50 बजे ग्राम हडियाडीह थाना चौबेपुर कमिश्नरेट वाराणसी से गिरफ्तार किया गया। उक्त सम्बन्ध में थाना चौबेपुर पुलिस द्वारा आवश्यक विधिक कार्यवाही की जा रही है।


यह भी पढ़े: पाँच साल की रुही को मिला नया जीवन, दिल में छेद का हुआ सफल ऑपरेशन

दिनांक-18.06.2024 को वादिनी मुकदमा/पीड़िता ने लिखित प्रार्थना पत्र दिया कि प्रतिवादी राकेश कुमार प्रार्थिनी/पीड़िता की विडियो बनाकर वायरल करने की धमकी देते हुए प्रार्थिनी/पीड़िता से पिछले 01 वर्ष से डरा धमका कर यौन सम्बन्ध बना रहा है और इस दौरान विपक्षी राकेश कुमार डरा धमका कर प्रार्थिनी/पीड़िता से लगभग 50,000/- रु0 भी ले चुका है । दिनांक-25/05/2024 को विपक्षी ने प्रार्थिनी से संबंधित विडियो को वायरल कर दिया और विरोध करने पर प्रार्थिनी के दरवाजे पर आकर गाली-गलौज करते हुए प्रार्थिनी के पति के साथ मारपीट भी किया। दिनांक 13-06-2024 को प्रार्थिनी रात करीब 09.00 बजे खेत गयी थी तो विपक्षी राकेश कुमार पीछा करते हुए वहाँ पहुंचा तथा जबरन प्रार्थिनी के हाथ से मोबाइल छीनकर घटना से सम्बन्धित ऑडियो, विडिओ एवं मैसेज सब फॉर्मैट कर दिया और विरोध करने पर जोर जबरदस्ती करते हुए प्रार्थिनी के साथ दुष्कर्म किया, जिसके आधार पर थाना चौबेपुर मे मु0अ0सं0-363/2024 धारा 376/323/504/506 भा0द0वि0 पंजीकृत किया गया, जिसकी विवेचना प्र0नि0 विद्याशंकर शुक्ल द्वारा संपादित की जा रही है। 

यह भी पढ़े: मातृशक्ति अमृता श्रीवास्तव के साथ सैकड़ो कार्यकर्ताओं ने गौ रक्षा का लिया संकल्प

गिरफ्तारी करने वाली पुलिस टीम में प्र0नि0 विद्याशंकर शुक्ल थाना चौबेपुर कमिश्नरेट वाराणसी, का0 सचिन गोस्वमी थाना चौबेपुर कमिश्नरेट वाराणसी शामिल थे।

यह भी पढ़े: तन-मन दोनों को स्वस्थ रखने का माध्यम है योग: डॉ मनोज तिवारी

Wednesday, June 19, 2024

“विशेष संचारी रोग नियंत्रण माह में किसी विभाग की शिथिलता क्षम्य नहीं होगी” – जिलाधिकारी

वाराणसी: वेक्टर जनित बीमारियों जैसे डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया, फाइलेरिया, कालाजार आदि की रोकथाम के लिए राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत एक जुलाई से 31 जुलाई तक विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान संचालित किया जाएगा। इसके साथ ही 11 से 31 जुलाई तक घर-घर दस्तक अभियान (दरवाजा खटखटाना) चलाया जाएगा। अभियान की तैयारियों को लेकर बुधवार को विकास भवन सभागार में जिलाधिकारी एस राजलिंगम की अध्यक्षता एवं मुख्य विकास अधिकारी हिमांशु नागपाल की उपस्थिती में जनपद स्तरीय अंतर्विभागीय टास्क फोर्स बैठक आयोजित की गई। 


यह भी पढ़े: देर रात प्रधानमंत्री ने सिगरा स्टेडियम का किया औचक निरीक्षण

जिलाधिकारी एस राजलिंगम ने अभियान की तैयारियों को लेकर स्वास्थ्य विभाग समेत सभी 13 सहयोगी विभागों से विस्तृत जानकारी ली और जल्द से जल्द माइक्रोप्लान तैयार करने के लिए निर्देश दिया। कहा कि इस अभियान में किसी भी विभाग के अधिकारी की शिथिलता को क्षमा नहीं किया जाएगा। माइक्रोप्लान के अनुसार शत-प्रतिशत कार्य का सम्पादन करें। इसी साल अप्रैल में चलाये गए संचारी रोग नियंत्रण अभियान में बड़ागांव एवं हरहुआ ब्लॉक में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के द्वारा संतोषजनक कार्य न करने पर दोनों ब्लॉक के सीडीपीओ का वेतन अवरुद्ध करने का निर्देश दिया। सभी विभाग डाटा फीडिंग और मॉनिटरिंग पर ध्यान दें।     

जिलाधिकारी एस राजलिंगम ने निर्देशित किया कि जनपद के नगर या ग्रामीण क्षेत्रों में कहीं भी जल जमाव, गंदगी, आदि की स्थिति पैदा न हो। नगर में कहीं भी जल भराव, नाली जामव आदि की स्थिति होने नगर निगम इस पर तुरंत कार्रवाई करें। इसी तरह की स्थिति ग्रामीण क्षेत्रों में होने पर पंचायती राज व ग्राम विकास विभाग की ओर से तत्काल प्रभाव से कार्रवाई की जाए। हॉट स्पॉट क्षेत्रों, घनी आबादी व अन्य मलिन बस्तियों में एंटी लार्वा छिड़काव, फोगिंग आदि का कार्य किया जाए। उन्होंने कहा कि सभी विभागों के आपसी सामंजस्य से ही संचारी रोग नियंत्रण व दस्तक अभियान को सफल बनाया जा सकता है। यह तभी संभव है जब इस संदर्भ में जिन विभागों को जो भी जिम्मेदारियां दी गयी हैं, उसका पूरी जिम्मेदारी के साथ पालन किया जाए। दस्तक अभियान में विभिन्न विभागों के फ्रंटलाइन वर्कर्स वेक्टर जनित एवं संक्रामक रोगों से बचाव की जानकारी घर-घर जाकर देंगे तथा व्यवहार परिवर्तन के लिए लोगों को प्रेरित करें। अधिक से अधिक लोगों को मच्छरों के माध्यम से फैलने वाली बीमारियों बारे में बतायें और इन रोगों से बचाव के बारे में जानकारी भी दें। अभियान में आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता माइक्रोप्लान के तहत कार्य करें। सभी विभाग अगले सप्ताह माइक्रोप्लान भेजना सुनिश्चित करें, जिससे अभियान का सफलतापूर्वक संचालन किया जा सके। 

यह भी पढ़े: पत्नी के गम में आईपीएस अधिकारी ने की आत्महत्या

खाद्य विभाग को निर्देशित किया कि जनपद के रेस्टोरेन्ट, मिठाई की दुकानों और स्ट्रीट फूड के खाद्य सामग्रियों के गुणवत्ता की नियमित जांच करें, जिससे लोगों को फूड पोइजनिंग से बचाया जा सके। शिक्षा विभाग के द्वारा समस्त स्कूलों और विद्यालयों में जन जागरूकता गतिविधियों का आयोजन किया जाए। नगर विकास, ग्राम्य विकास एवं पंचायती राज विभागों के द्वारा मच्छरों के घनत्व को न्यून करने के लिए सभी आवश्यक गतिविधियाँ निरंतर संपादित की जाएं। समस्त ग्राम प्रधान, सचिव और पंचायत सहायक का संवेदीकरण और प्रशिक्षण दिया जाए। ब्लॉक स्तर पर होने वाली सभी बैठकों और प्रशिक्षण में सभी अधिकारी व कर्मी उपस्थित रहें। दस्तक अभियान में आशा व आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के द्वारा काउन्सलिन्ग पर ज़ोर दिया जाए। सीएचसी व पीएचसी स्तर पर ही डेंगू आदि के मरीजों को तत्काल प्रभाव से उपचार प्रदान किया जाए।    

यह भी पढ़ें: विगत 10 वर्षों में बदलते काशी को दुनिया के लोगों ने देखा है- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डॉ संदीप चौधरी ने बताया कि अभियान के सफलतापूर्वक संचालन के लिए विभाग ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। सभी विभागों को शासन से प्राप्त निर्देशों के बारे में अवगत कराया गया। समस्त रिपोर्ट को ई-कवच पोर्टल पर फीड किया जाएगा और परिवार के सभी सदस्यों की आभा आईडी जेनरेट की जाएगी। इसकी नियमित समीक्षा और मॉनिटरिंग भी की जाएगी। सीएमओ ने संचारी रोग नियंत्रण माह अभियान के साथ ही एक जुलाई से शुरू होने वाले ‘स्टॉप डायरिया नियंत्रण अभियान’ के बारे में अवगत कराया। यह अभियान दो माह तक चलेगा।  

बैठक में एसीएमओ व नोडल अधिकारी डॉ एसएस कनौजिया, जिला मलेरिया अधिकारी एससी पाण्डेय, अपर व उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी, चिकित्सा अधीक्षक, विभिन्न विभागों के मुख्य अधिकारी व कर्मी, समस्त ब्लॉक के अधीक्षक व एमओआईसी, सीडीपीओ, बायोलोजिस्ट, अन्य अधिकारी व स्वास्थ्यकर्मी सहित सहयोगी संस्था यूनिसेफ व डब्ल्यूएचओ के प्रतिनिधि उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री ने वाराणसी से पीएम-किसान की 17वीं किस्त किया जारी, मतदाताओं का लोकतंत्र के उत्सव को सफल बनाने के लिए जताया आभार

देर रात प्रधानमंत्री ने सिगरा स्टेडियम का किया औचक निरीक्षण

वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने संसदीय क्षेत्र में मंगलवार रात औचक निरीक्षण पर निकल गए। वे देर रात सिगरा स्टेडियम पहुंचे। वहां इनडोर स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स का निरीक्षण किया। इसके बाद उन्होंने बरेका गेस्ट हाउस में रात्रि विश्राम किया। निरीक्षण के दौरान प्रधानमंत्री के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहे। 


यह भी पढ़े: पत्नी के गम में आईपीएस अधिकारी ने की आत्महत्या

डबल इंजन की सरकार पूर्वांचल के खिलाड़ियों को निखारने के लिए काशी में नेशनल सेंटर ऑफ एक्सीलेंस स्टेडियम का निर्माण करा रही है। स्टेडियम में लगभग सभी स्पोर्ट्स होंगे और सभी खेलों के खिलाड़ी तैयार किये जाएंगे। अब पूर्वांचल के खिलाड़ियों को खेलने के लिए दूर नही जाना पड़ेगा। खेल प्रेमियों को वाराणसी में ही अंतरराष्ट्रीय स्तर के मैच देखने को मिलेगा। डॉ. सम्पूर्णानन्द स्पोर्ट्स स्टेडियम का पुनर्विकास किया जा रहा है। स्टेडियम की इमारते ग्रीन बिल्डिंग होगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पहल पर खेलो इंडिया और स्मार्ट सिटी के सहयोग से टू बिल्ड पद्धति पर ईपीसी मोड पर एमएचपीएल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड कानपुर ने रिकॉर्ड समय में इसे पहले तैयार किया। 

यह भी पढ़ें: विगत 10 वर्षों में बदलते काशी को दुनिया के लोगों ने देखा है- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

इसमें बैडमिंटन, हैंडबॉल, बास्केटबॉल, वॉलीबॉल, टेबल टेनिस, वेटलिफ्टिंग, स्क्वैश जैसे 20 से अधिक इनडोर खेल खेलने की सुविधा होगी। ओलंपिक स्तर का स्विमिंग पूल, वार्म अप पूल के  साथ होगा। जिम, स्पा, योगा सेंटर, पूल बिलियर्ड्स और कैफेटेरिया के साथ बैंक्वेट हॉल भी बनेगा। साथ ही मल्टी स्पोर्ट्स ,मल्टी लेवल आधुनिक इनडोर स्टेडियम को पैरा स्पोर्ट्स के मानकों को भी ध्यान में रखकर बनाया जा रहा है, जिससे यहाँ पैरा स्पोर्ट्स प्रतियोगिता भी हो सकें। स्टेडियम के पहले  चरण का काम पूरा हो चुका है। दूसरे और तीसरे चरण का काम जुलाई तक पूरा होना प्रस्तावित है।

यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री ने वाराणसी से पीएम-किसान की 17वीं किस्त किया जारी, मतदाताओं का लोकतंत्र के उत्सव को सफल बनाने के लिए जताया आभार

Tuesday, June 18, 2024

विगत 10 वर्षों में बदलते काशी को दुनिया के लोगों ने देखा है- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

वाराणसी: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कार्यक्रम में दुनिया के सबसे लोकप्रिय राजनेता, भारत के प्रधानमंत्री तथा वाराणसी के लोकप्रिय सांसद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मां गंगा का यशस्वी पुत्र बताते हुए काशी एवं उत्तर प्रदेश के अन्नदाता किसानों एवं काशीवासियों की ओर से उनका अभिनंदन किया। उन्होंने कहा कि देश की आजादी के 62 वर्ष बाद यह अवसर पहली बार आया है कि अपनी लोकप्रियता के आधार पर तीसरी बार नरेंद्र मोदी ने देश के प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली है। इनके नेतृत्व में एक नए भारत का दर्शन लोग कर रहे हैं। भारत दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनाने की ओर अग्रसर है। 


यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री ने वाराणसी से पीएम-किसान की 17वीं किस्त किया जारी, मतदाताओं का लोकतंत्र के उत्सव को सफल बनाने के लिए जताया आभार

उन्होंने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि वर्ष 2014 में देश के अन्नदाता किसान राजनीतिक एजेंडा का हिस्सा बने और किसानों के उत्थान के लिए किये जा रहे कार्यों का परिणाम अब लोग देख रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि विगत 10 वर्षों में बदलते काशी को दुनिया के लोगों ने देखा है। हजारों करोड़ रुपए के विकास कार्य यहां कराए गए हैं। दुनिया के लोग काशी को नये कलेवर में बदलता हुआ देख रहे हैं। मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को उन्हीं के काशी में अन्नदाता किसानों एवं काशीवासियों के ओर से बधाई दी। उन्होंने कहा कि जब तीसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ मोदी जी ने ली, तो उन्होंने सबसे पहला कार्य और सबसे पहले किसी एक फाइल पर हस्ताक्षर किया तो किसानों के लिए किया। किसानों के लिए समर्पित और आज देश के करोड़ों किसानों को प्रधानमंत्री मोदी द्वारा प्रधानमंत्री किसान सम्मन निधि की नई सौगात के साथ अभियान का शुभारंभ होने जा रहा है। 

यह भी पढ़ें: यूपी के साथ-साथ दिल्ली, पंजाब, हरियाणा के लोगों को इस तारीख को मिलेगी तपन से मुक्ति

मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने भीषण आग बरसाती गर्मी की चर्चा करते हुए कहा कि प्रकृति व परमात्मा का संगम आज काशी में देखने को मिला है। जब गत दिनों की भीषण गर्मी के बावजूद आज काशी में प्रधानमंत्री की किसान सम्मान सम्मेलन कार्यक्रम के दौरान अचानक मौसम परिवर्तन के रूप में देखने को मिला है। इससे पूर्व केंद्रीय कृषि मंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने भी प्रधानमंत्री का स्वागत करते हुए सम्मेलन में आए किसानों को संबोधित किया।

यह भी पढ़ें: वायनाड छोड़ रायबरेली के हुए राहुल, अब प्रियंका गांधी लड़ेंगी उपचुनाव

बताते चले कि विकसित भारत का संकल्प पूरा करने के लिए कृषि सबसे महत्वपूर्ण आधार है और कृषि भारतीय अर्थव्यवस्था की नींव है। रोजगार के सबसे ज्यादा अवसर कृषि के माध्यम से ही सृजित होते हैं। कृषि और किसान पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सर्वोच्च प्राथमिकता रहे हैं, जिसके चलते किसानों के कल्याण के लिए अनेकों कदम उठाए गये और अभी भी प्रधानमंत्री ने पद ग्रहण करने के बाद सबसे पहले किसान सम्मान निधि की 17वीं किस्त किसानों को जारी करने को लेकर हस्ताक्षर किए। 

गौरतलब है कि किसान सम्मान निधि 24 फरवरी 2019 को शुरू की गई एक केंद्रीय क्षेत्र की योजना है।लाभार्थियों के पंजीकरण और सत्यापन में पूर्ण पारदर्शिता बनाए रखते हुए केंद्र सरकार ने देश भर में लगभग 11 करोड़ से अधिक किसानों को 3.04 लाख करोड़ रुपये से अधिक का वितरण किया है और इसके साथ ही, योजना की शुरुआत से लाभार्थियों को हस्तांतरित कुल राशि 3.24 लाख करोड़ रुपये से अधिक हो जाएगी। आज अन्नदाताओं की खुशहाली के साथ विकसित भारत के संकल्प की सिद्धि का भी श्री गणेश हुआ। 

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में हुए सड़क हादसे पर सीएम योगी ने जताया शोक, सीएम के निर्देश पर अधिकारियों की टीम रुद्रप्रयाग रवाना

इससे पूर्व प्रधानमंत्री का जनसभा स्थल पर भव्य स्वागत किया गया। केन्द्रीय कृषि मंत्री शिवराज सिंह चौहान व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अंग वस्त्र भेटकर प्रधानमंत्री को सम्मानित किया। वहीं तीन किसानों ने भी उनका सम्मानित किया। कार्यक्रम में 732 कृषि विज्ञान केंद्रों (केवीके), 1 लाख से अधिक प्राथमिक कृषि सहकारी समितियों और देश भर के 5 लाख कॉमन सर्विस सेंटरों के 2.5 करोड़ से अधिक किसान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ऑनलाइन शामिल रहे।

मेहंदी गंज में इनकी भी रही उपस्थिति

भाजपा क्षेत्रीय अध्यक्ष दिलीप पटेल, एमएलसी अश्वनी त्यागी, पूर्व विधायक जगदीश पटेल, पूर्व विधायक सुरेंद्र नारायण सिंह, अशोक चौरसिया, सुशील त्रिपाठी, राजेश राजभर, क्षेत्रीय मीडिया प्रभारी नवरतन राठी, सह मीडिया प्रभारी संतोष सोलापुरकर, प्रवीण सिंह गौतम, संजय सोनकर, जेपी दूबे, सुरेंद्र पटेल, सुरेश सिंह, विपिन सिंह, अनिल श्रीवास्तव, श्रीप्रकाश शुक्ला, देवेंद्र मोर्या, विनय मोर्या, विनिता सिंह, वंश नारायण पटेल, पवन सिंह, संजय सिंह, अरविंद प्रधान, अरविंद पाण्डेय, अमित पाठक, कुशाग्र श्रीवास्तव आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें: सावधान रहें सुरक्षित रहें इस बार टूटेगा गर्मी का सारा रिकॉर्ड

प्रधानमंत्री ने वाराणसी से पीएम-किसान की 17वीं किस्त किया जारी, मतदाताओं का लोकतंत्र के उत्सव को सफल बनाने के लिए जताया आभार

वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने दो दिवसीय वाराणसी दौरे के दौरान मंगलवार को राजातालाब के मेहदीगंज में आयोजित किसान सम्मान सम्मेलन में पीएम- किसान के अंतर्गत 20 हजार करोड़ रुपए की 17 वीं किस्त जारी किया. साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने कृषि सखियों के रूप में 30,000 से अधिक स्वयं सहायता समूहों को प्रमाण पत्र प्रदान किया। इस प्रकार तीसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद अपने सबसे पहले कार्यक्रम में पीएम किसान की बहुप्रतीक्षित 17वीं किस्त, 20,000 करोड़ रुपये से अधिक की राशि, 9.26 करोड़ से अधिक लाभार्थी किसानों को प्रधानमंत्री ने मंगलवार को वाराणसी से बटन के एक क्लिक से वितरित किया। जैसे ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने डिजिटल बटन को क्लिक किया, किसानों के बैंक खातों में खटाखट- खटाखट, दनादन-दनादन उनकी सम्मान राशि पहुंच गई। जिससे कार्यक्रम में शामिल किसानों के चेहरे खुशी से खिल उठे।


यह भी पढ़ें: यूपी के साथ-साथ दिल्ली, पंजाब, हरियाणा के लोगों को इस तारीख को मिलेगी तपन से मुक्ति

इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विशाल किसान सम्मेलन में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि भोजपुरी में कहा कि "चुनाव के बाद आज हम पहली बार बनारस आयल हईं। काशी के जनता जनार्दन के हमार प्रणाम"। बाबा विश्वनाथ और मां गंगा के आशीर्वाद से काशीवासियों के असीम प्यार से मुझे तीसरी बार देश का प्रधान सेवक बनने का सौभाग्य मिला है। उन्होने कहा कि काशी के लोगों ने मुझे लगातार तीसरी बार अपना प्रतिनिधि चुनकर धन्य कर दिया है। जैसे माँ गंगा ने मुझे गोद ले लिया है। मैं यहीं का हो गया। 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत के मतदाताओं की संख्या सबसे ज्यादा जी 7 के सारे मतदाताओं को मिला दें, तो भी भारत के वोटर की संख्या उनसे डेढ़ गुना ज्यादा है। यूरोप के तमाम देशों को जोड़ दें, यूरोपीय यूनियन के सारे मतदाताओं को जोड़ दें तो भी भारत के वोटर की संख्या उनसे ढाई गुना ज्यादा है। मैं आपका ऋणी हूं। उन्होंने कहा कि भारत में 18वीं लोकसभा के लिए हुआ यह चुनाव भारत के लोकतंत्र की विशालता को, भारत के लोकतंत्र के समर्थक को, भारत के लोकतंत्र की व्यापकता को, भारत के लोकतंत्र की जड़ों की गहराई को दुनिया के सामने पूरे समर्थ के साथ प्रस्तुत करता है। इस चुनाव में देश के 64 करोड़ से ज्यादा लोगों ने मतदान किया। पूरी दुनिया में इससे बड़ा चुनाव कहीं और नहीं होता है, जहां इतनी बड़ी संख्या में लोग वोटिंग में हिस्सा लेते।  

यह भी पढ़ें: वायनाड छोड़ रायबरेली के हुए राहुल, अब प्रियंका गांधी लड़ेंगी उपचुनाव

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि इस चुनाव में 31 करोड़ से ज्यादा महिलाओं ने हिस्सा लिया है। यह एक देश में महिला वोटर की संख्या के हिसाब से पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा है। यह संख्या अमेरिका के पूरे आबादी के आसपास है। भारत के लोकतंत्र की यही खूबसूरती यही ताकत पूरी दुनिया को आकर्षित भी करती है। प्रभावित भी करती है। उन्होने बनारस के हर मतदाता का भी लोकतंत्र के उत्सव को सफल बनाने के लिए आभार जताते हुए कहा कि यह बनारस के लोगों के लिए भी गर्व की बात है, काशी के लोगों ने तो सिर्फ एमपी नहीं बल्कि तीसरी बार पीएम भी चुना है। इसलिए काशीवासियों को प्रधानमंत्री ने डबल बधाई दी। उन्होने कहा कि इस चुनाव में देश के लोगों ने जो जनादेश दिया है, वह वाकई अभूतपूर्व है। एक नया इतिहास रचा। दुनिया के लोकतांत्रिक देश में ऐसा बहुत कम ही देखा गया है कि कोई चुनी हुई सरकार लगातार तीसरी बार वापसी करें। जनता ने यह भी करके दिखाया है। ऐसा भारत में 60 साल पहले हुआ था, तब से भारत में किसी सरकार ने इस तरह हैट्रिक नहीं लगाई। 

उन्होने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि लोगों ने यह सौभाग्य हमें, अपने सेवक मोदी को दिया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि भारत जैसे देश में जहां युवा आकांक्षा इतनी बड़ी है, जहां जनता के आधार सपने हैं, वहां लोग अगर किसी सरकार को 10 साल के काम के बाद फिर सेवा का अवसर देते हैं, तो यह बहुत बड़ा विश्वास है। उन्होने कहा कि नौजवान, नारी शक्ति और गरीब सभी को भारत का मजबूत स्तंभ माना है। अपने तीसरे कार्यकाल की शुरुआत मैंने सरकार बनते ही सबसे पहले फैसला किसान और गरीब परिवारों से जुड़ा फैसला लिया। देश भर में गरीब परिवारों के लिए तीन करोड़ घर बनाने हों या फिर पीएम किसान सम्मन निधि को आगे बढ़ाना हो यह फैसला करोड़ों लोगों की मदद करेंगा। किसान सम्मान सम्मेलन कार्यक्रम भी विकसित भारत के इसी रास्ते को सशक्त करने वाला है। 

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में हुए सड़क हादसे पर सीएम योगी ने जताया शोक, सीएम के निर्देश पर अधिकारियों की टीम रुद्रप्रयाग रवाना

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि काशी के साथ-साथ काशी से ही देश के गांव से जुड़े करोड़ों किसान हमारे साथ जुड़े हुए हैं और यह सारे हमारे किसान माताएं, भाई-बहन की शोभा बढ़ा रहे हैं। उन्होने अपनी काशी से हिंदुस्तान के कोने-कोने में गांव-गांव में आज टेक्नोलॉजी से जुड़े हुए सभी किसान भाई बहनों का अभिवादन किया। उन्होने कहा कि देश भर के करोड़ों किसानों के बैंक खाते में पीएम किसान सम्मन निधि के 20,000 करोड़ रुपए पहुंचे हैं। आज 3 करोड़ बहनों को लखपति दीदी बनाने की तरफ भी बहुत बड़ा कदम उठाया गया है। उन्हें सम्मान और आय के नए साधन दोनों सुनिश्चित करेंगे। उन्होने सभी किसान परिवारों को, माता बहनों को बहुत-बहुत शुभकामनाएं देते हुए कहा कि पीएम किसान सम्मान निधि आज दुनिया की सबसे बड़ी डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर स्कीम बन चुका है। अभी तक देश के करोड़ों किसान परिवारों की बैंक खाते में 3:15 लाख करोड़ रुपये जमा हो चुके हैं। यहां वाराणसी जिले के किसानों के खाते में भी 700 करोड़ रुपये जमा हुए। प्रसन्नता व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि पीएम किसान सम्मान निधि में सभी लाभार्थी तक लाभ पहुंचाने के लिए टेक्नोलॉजी का बेहतर इस्तेमाल हुआ है। कुछ महीने पहले ही भारत संकल्प यात्रा के दौरान भी एक करोड़ से अधिक किसान इस योजना से जुड़े। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि किसान आत्मनिर्भर बन रहा है और कृषि निर्यात में अग्रणी बना है। इसके लिए उन्होने बनारस का लंगड़ा आम, जौनपुर की मूली, गाजीपुर की भिंडी की चर्चा करते हुए कहा कि ऐसे अनेक उत्पाद आज विदेशी मार्केट में पहुंच रहे हैं। वन जिला वन प्रोडक्ट और जिला स्तर पर एक्सपोर्ट हब बनने से एक्सपर्ट बढ़ रहा है और उत्पादन भी एक्सपोर्ट क्वालिटी का होने लगा। उन्होंने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि अब हमें ग्लोबल मार्केट में देश को नई ऊंचाई पर ले जाना और मेरा तो सपना है कि दुनिया की हर डाइनिंग टेबल पर भारत का कोई न कोई खजाना डिफेक्ट वाले मंत्र को बढ़ावा देना। मोटे अनाज श्री अन्न का उत्पादन हो, औषधीय गुण वाली फसल हो या फिर प्राकृतिक खेती की तरफ बढ़ना। पीएम किसान समृद्धि के माध्यम से किसानों के लिए एक बड़ा सपोर्ट सिस्टम विकसित किया जा रहा है। 

यह भी पढ़ें: सावधान रहें सुरक्षित रहें इस बार टूटेगा गर्मी का सारा रिकॉर्ड

उन्होने कार्यक्रम में बड़ी संख्या में उपस्थित महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा कि इनके बिना खेती की कल्पना भी नहीं संभव है। इसलिए अब खेती को नई दिशा देने में भी माता बहनों की भूमिका का विस्तार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हमने आशा कार्यकर्ता के रूप में बहनों का काम देखा। डिजिटल इंडिया बनाने में बहनों की भूमिका अच्छी है। अब हम कृषि सखी के रूप में खेती को नई ताकत मिलते हुए देखेंगे। आज कार्यक्रम के दौरान 30,000 सहायता समूह को कृषि सखी के रूप में प्रमाण पत्र दिए गए। अभी 12 राज्यों में यह योजना शुरू हुई है। आने वाले समय में पूरे देश में हजारों समूह को इससे जोड़ा जाएगा। यह अभियान तीन करोड़ लखपति दीदी बनाने में भी मदद करेगा।  

इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उप मुख्यमंत्री द्वय केशव प्रसाद मोर्या, ब्रजेश पाठक, केंद्रीय मंत्री शिवराज सिंह चौहान, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह चौधरी, प्रदेश के कैबिनेट मंत्री सुर्य प्रताप शाही, जयवीर सिंह अनिल राजभर, राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार रविन्द्र जायसवाल, डॉ दयाशंकर मिश्र दयालु, विधायक डॉ अवधेश सिंह, विधायक टी.राम, विधायक सुनील पटेल, भाजपा जिलाध्यक्ष एवं एमएलसी हंसराज विश्वकर्मा, जिला पंचायत अध्यक्ष पूनम मोर्या, मंचासिंन रहे।

यह भी पढ़ें: मेरठ के मदरशो में छात्रवृत्ति वितरण में 3 करोड़ रुपये गबन के मामले में तत्कालीन जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी को मिली अग्रिम जमानत

Saturday, June 15, 2024

उत्तराखंड में हुए सड़क हादसे पर सीएम योगी ने जताया शोक, सीएम के निर्देश पर अधिकारियों की टीम रुद्रप्रयाग रवाना

लखनऊ: उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग में शनिवार को तीर्थयात्रियों को ले जा रहा वाहन सड़क दुर्घटना का शिकार हो गया। इसमें देर शाम तक 14 लोगों के मारे जाने की सूचना है, जिसमें उत्तर प्रदेश के भी यात्री शामिल हैं। 5 गंभीर रूप से घायल हैं तो 7 सामान्य घायल बताए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस हादसे पर दुख जताते हुए शोकाकुल परिजनों के प्रति अपनी संवेदनाएं व्यक्त की हैं। साथ ही मुख्यमंत्री योगी ने मुख्यमंत्री कार्यालय और राहत आयुक्त कार्यालय को तत्काल स्थानीय प्रशासन से संपर्क कर घायलों के समुचित उपचार और आवश्यक सुरक्षा सुनिश्चित कराने के निर्देश भी दिए हैं। मुख्यमंत्री के निर्देश पर जनपद सहारनपुर से वरिष्ठ अधिकारियों की टीम रुद्रप्रयाग के लिए रवाना हो गई है। उल्लेखनीय है कि दुर्घटनाग्रस्त वाहन में दिल्ली-एनसीआर (नोएडा) के तीर्थयात्री सवार थे। उत्तराखंड के सीएम पुष्कर धामी ने दुर्घटना की जांच के आदेश दिए हैं। 


यह भी पढ़ें: सावधान रहें सुरक्षित रहें इस बार टूटेगा गर्मी का सारा रिकॉर्ड

सीएम ने लिया हादसे का संज्ञान, दिए निर्देश

सीएम योगी ने दुर्घटना पर शोक जताते हुए एक्स पर लिखा, "उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग में एक सड़क दुर्घटना में हुई जनहानि अत्यंत दुःखद व दुर्भाग्यपूर्ण है। मेरी संवेदनाएं शोकाकुल परिजनों के साथ हैं। प्रभु श्री राम से प्रार्थना है कि दिवंगत पुण्यात्माओं को सद्गति और घायलों को शीघ्र स्वास्थ्य लाभ प्रदान करें।" सीएम योगी ने हादसे का संज्ञान लेते हुए वरिष्ठ अधिकारियों को घायल यात्रियों के समुचित उपचार और आवश्यक सुरक्षा सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए अधिकारियों को स्थानीय प्रशासन के संपर्क में रहने को कहा गया है और पल पल की रिपोर्ट मुख्यमंत्री के संज्ञान में लाने के निर्देश दिए गए हैं।

यह भी पढ़ें: मेरठ के मदरशो में छात्रवृत्ति वितरण में 3 करोड़ रुपये गबन के मामले में तत्कालीन जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी को मिली अग्रिम जमानत

गुरुग्राम से तुंगनाथ जा रहे थे तीर्थयात्री, यूपी के यात्री भी थे सवार 

प्राप्त जानकारी के अनुसार,वाहन गुरुग्राम से तुंगनाथ जा रहा था। इसमें कुल 26 लोग सवार थे। वाहन शनिवार को रुद्रप्रयाग मुख्यालय के समीप रैंतोली के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया। वाहन हाईवे से करीब 200 मीटर गहरी खाई में जा गिरा, जिसके चलते 10 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि 14 लोगों को रेस्क्यू कर जिला अस्पताल रुद्रप्रयाग लाया गया। अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टर्स ने एक व्यक्ति को मृत घोषित कर दिया, जबकि एक व्यक्ति की मृत्यु इलाज के दौरान हो गई। 2 मृतकों की शिनाख्त नहीं हो पाई है।  7 घायलों की स्थिति की गंभीरता को देखते हुए उन्हें एयर लिफ्ट किया गया है। स्टेट इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर द्वारा अवगत कराया गया है कि गाड़ी का नंबर हरियाणा राज्य का था।

यह भी पढ़ें: डाक विभाग के इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक में मात्र ₹549 में होगा 10 लाख का दुर्घटना बीमा

सावधान रहें सुरक्षित रहें इस बार टूटेगा गर्मी का सारा रिकॉर्ड

वाराणसी: पुरे उत्तर प्रदेश सहित बिहार भी इस समय भीषण गर्मी और तपिश झेल रहा है. अचानक चलते चलते लोग गिरकर मर रहें है. अगर मौसम विभाग की माने तो अगले 48 घंटे में हीट वेव से तड़प उठेगा पश्चिमी उत्तर प्रदेश सहित पूर्वी उत्तर प्रदेश भी.


यह भी पढ़ें: मेरठ के मदरशो में छात्रवृत्ति वितरण में 3 करोड़ रुपये गबन के मामले में तत्कालीन जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी को मिली अग्रिम जमानत

वाराणसी में होगी भीषड़ तपिश वहीँ प्रयागराज मिर्ज़ापुर सोनभद्र सहित औरैईया इत्यादि शहर रिकॉर्ड तोड़ तपिश का सामना करेंगे. अगले 48घंटे अनावश्यक ना निकले घर से बाहर छोटे बच्चों एवं बुज़ुर्ग लोगों का रखे ख्याल. 

यह भी पढ़ें: डाक विभाग के इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक में मात्र ₹549 में होगा 10 लाख का दुर्घटना बीमा

पानी का अत्यधिक सेवन करें यदि घर से बाहर निकले तो सूती कपड़े से मुँह ढक कर फुल शर्ट पहने महिलाएं सूती सूट का प्रयोग करें नशा की वस्तुओं से दूर रहें शीतल पेय इस्तेमाल करें.

यह भी पढ़ें: स्वास्थ्य विभाग ने पंचायत घर के लिए आरक्षित जमीन पर कब्जा कर बना दिया स्वास्थ्य उपकेंद्र, पूर्व प्रधान व सचिव ने नहीं जताई कोई आपत्ति

Thursday, June 13, 2024

डाक विभाग के इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक में मात्र ₹549 में होगा 10 लाख का दुर्घटना बीमा

वाराणसी: महंगे प्रीमियम पर बीमा करवाने में असमर्थ लोगों के लिए डाक विभाग का इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक एक विशेष दुर्घटना सुरक्षा बीमा लेकर आया है, जिसमें वर्ष में महज 549 और 749 रुपए के प्रीमियम के साथ लाभार्थी का क्रमशः 10 और 15 लाख रुपए का बीमा होगा। एक साल खत्म होने के बाद अगले साल यह बीमा रिन्यू करवाना होगा। इसके लिए इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक में लाभार्थी का खाता होना अनिवार्य है। उक्त जानकारी वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने दी। डाक विभाग इसके लिए 13 जून को वाराणसी परिक्षेत्र के अधीन वाराणसी, भदोही, चंदौली, जौनपुर, गाज़ीपुर, बलिया ज़िलों में विशेष अभियान चलायेगा।


यह भी पढ़ें: स्वास्थ्य विभाग ने पंचायत घर के लिए आरक्षित जमीन पर कब्जा कर बना दिया स्वास्थ्य उपकेंद्र, पूर्व प्रधान व सचिव ने नहीं जताई कोई आपत्ति

पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक और आदित्य बिरला हेल्थ इंश्योरंस ग्रुप पर्सनल एक्सीडेंट के मध्य हुए एक एग्रीमेंट के तहत 18 से 65 वर्ष आयु  के लोगों को यह निजी दुर्घटना बीमा सुरक्षा मिलेगी। इसके तहत, दोनों प्रकार के बीमा कवर में दुर्घटना से मृत्यु, स्थाई या आंशिक पूर्ण अपंगता, अंग विच्छेद या पैरालाइज्ड होने पर क्रमशः 10 और 15 लाख रुपए का कवर मिलेगा। साथ ही साथ इस बीमा में दुर्घटना से हॉस्पिटल में भर्ती रहने के दौरान इलाज हेतु 60,000 रुपए तक का आई.पी.डी खर्च और ओ.पी.डी में 30,000 रुपए तक का क्लेम मिलेगा। इस बीमा में डॉक्टर से पोषण संबंधी सलाह एवं मानसिक स्वास्थ्य के लिए 4 परामर्श की सुविधा होगी| वहीं, दोनों प्रीमियम बीमा में उपरोक्त सभी लाभों के अलावा दो बच्चों की पढ़ाई के लिए एक लाख तक का खर्च, दस दिन अस्पताल में रोजाना का एक हजार खर्च, किसी अन्य शहर में रह रहे परिवार हेतु ट्रांसपोर्ट का 25,000 रूपए तक का खर्च और मृत्यु होने पर अंतिम संस्कार के लिए 5,000 तक का खर्च मिलेगा।

यह भी पढ़ें: यूपी बिहार के लोगों को मानसून के लिए करना होगा इतने दिनों तक इंतजार, IMD ने बताया समय

पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि इसके लिए इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक में लाभार्थी का खाता होना अनिवार्य है। प्रीमियम खाता मात्र रु200/- में प्राप्त किया जा सकता है। इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए ग्राहक का आधार नंबर एवम मोबाइल नंबर होना अनिवार्य है। ग्राहक का खाता बिना किसी दस्तावेज के दिए केवल बायोमेट्रिक के आधार पर तुरंत खुल जाता है एवं साथ ही साथ दुर्घटना बीमा का भी लाभ बिना किसी दस्तावेज जमा कराए लिया जा सकता है। प्रीमियम खाता में किसी भी प्रकार का डोर स्टेप चार्ज नहीं देना होगा, तथा इसके साथ ही बिजली बिल भुगतान और कैशबैक भी प्राप्त किया जा सकता है। घर बैठे आईपीपीबी एप के माध्यम से सुकन्या, पीपीएफ, आर डी, पीएलआई आदि का ऑनलाइन भुगतना भी संभव है। वाराणसी पूर्वी मंडल के प्रवर डाक अधीक्षक राजीव कुमार ने बताया कि इस दुर्घटना बीमा सुविधा में पंजीकरण के लिए लोग अपने इलाक़े के डाकिया या नजदीकी डाकघर में संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: गुरुवार को क्या कहते हैं आपके सितारे, पढ़ें मेष से लेकर मीन तक का हाल

स्वास्थ्य विभाग ने पंचायत घर के लिए आरक्षित जमीन पर कब्जा कर बना दिया स्वास्थ्य उपकेंद्र, पूर्व प्रधान व सचिव ने नहीं जताई कोई आपत्ति

वाराणसी: विकास खण्ड चिरईगांव के ग्रामपंचायत बराई में पंचायत घर के लिए आरक्षित आराजी नंबर 538 रकबा 0.80 एयर पर स्वास्थ्य उपकेंद्र बराई का भवन बन गया है। ग्राम पंचायत बराई में पंचायत भवन बनाने हेतु के चिन्हांकन एवं सीमांकन हेतु बुधवार को गांव में पहुंचे लेखपाल श्यामनंद सागर ने पैमाईश के दौरान बताया।


यह भी पढ़ें: यूपी बिहार के लोगों को मानसून के लिए करना होगा इतने दिनों तक इंतजार, IMD ने बताया समय

सहायक विकास अधिकारी पंचायत चिरईगांव कमलेश कुमार सिंह, पंचायत सचिव अलका शर्मा एवं ग्राम प्रधान बराई पंकज गिरी गांव में पंचायत भवन बनाने के लिए लेखपाल को आवंटित जमीन के चिन्हांकन एवं सीमांकन के लिए बुलवाया था। 

यह भी पढ़ें: गुरुवार को क्या कहते हैं आपके सितारे, पढ़ें मेष से लेकर मीन तक का हाल

लेखपाल ने जमीन को चिन्हित कर बता दिया। उक्त जमीन पर पहले से स्वास्थ्य उपकेंद्र बना है। लगभग तीन बिस्वा जमीन खाली है। उसी पर पंचायत भवन बनाने की बात सहायक विकास अधिकारी पंचायत ने ग्राम प्रधान और सचिव से कहा।

यह भी पढ़ें: VDA द्वारा भेलखा अठगावाँ वार्ड शिवपुर में स्वीकृत किया गया प्राइम सिटी का आवासीय लेआउट मानचित्र

उल्लेखनीय है कि स्वास्थ्य उपकेंद्र के लिए जमीन आवंटित हुए बिना स्वास्थ्य उपकेंद्र बन गया। इस पर तत्कालीन ग्राम प्रधान द्वारा कोई आपत्ति तक नही की गयी। अब पंचायत भवन बनाने हेतु जमीन की तलाश की जा रही है। गांव में पूरब तरफ स्वास्थ्य उपकेंद्र का भवन पूर्व में ही बना है। जो जर्जर स्थिति में पड़ा है।

यह भी पढ़ें: कुवैत अग्निकांड के बाद PM मोदी ऐक्शन में, भारतीयों की सहायता के लिए भेजा मंत्री को विदेश

यूपी बिहार के लोगों को मानसून के लिए करना होगा इतने दिनों तक इंतजार, IMD ने बताया समय

नई दिल्ली. देश में मानसून अब तेजी से आगे बढ़ रहा है. मानसून गुजरात के कुछ हिस्सों, महाराष्ट्र और तेलंगाना के कुछ और हिस्सों में आगे बढ़ गया है. मानसून की उत्तरी सीमा इस वक्त नवसारी, जलगांव, अकोला, पुसाद, रामागुंडम, सुकमा, मलकानगिरी, विजयनगरम और इस्लामपुर से होकर गुजर रही है. अगले 48 घंटों के दौरान तेलंगाना और छत्तीसगढ़ के कुछ और हिस्सों में मानसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां अनुकूल हैं. भारत मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक एक चक्रवाती परिसंचरण पूर्वोत्तर असम और पड़ोस पर स्थित है. बंगाल की खाड़ी से पूर्वोत्तर राज्यों तक तेज दक्षिण-पश्चिमी/दक्षिणी हवाएं चल रही हैं.




यह भी पढ़ें: गुरुवार को क्या कहते हैं आपके सितारे, पढ़ें मेष से लेकर मीन तक का हाल


भारत मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक इसके कारण अगले 7 दिनों के दौरान अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम में गरज, बिजली और तेज हवाओं (30-40 किमी प्रति घंटे) के साथ हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है. अगले 5 दिनों के दौरान गंगीय पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड, ओडिशा में गरज, बिजली और तेज हवाओं (30-40 किमी प्रति घंटे) के साथ छिटपुट से लेकर हल्की से मध्यम वर्षा होने की संभावना है और उसके बाद इसमें वृद्धि होगी. अगले 5 दिनों के दौरान मध्य प्रदेश, विदर्भ, छत्तीसगढ़ में गरज, बिजली और तेज हवाओं (40-60 किमी प्रति घंटे) के साथ छिटपुट से लेकर हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है.

यह भी पढ़ें: VDA द्वारा भेलखा अठगावाँ वार्ड शिवपुर में स्वीकृत किया गया प्राइम सिटी का आवासीय लेआउट मानचित्र

दिल्ली-पंजाब का मौसम
भारत मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक अगले 3 दिनों के दौरान कोंकण और गोवा, मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा, कर्नाटक, तेलंगाना, केरल और माहे, लक्षद्वीप में गरज, बिजली और तेज हवाओं (40-50 किमी प्रति घंटे) के साथ छिटपुट से लेकर काफी हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है. अगले 5 दिनों के दौरान तटीय आंध्र प्रदेश और यनम, रायलसीमा, तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है. आईएमडी के मुताबिक अगले 5 दिनों के दौरान उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा-चंडीगढ़-दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, जम्मू संभाग, पूर्वी मध्य प्रदेश, राजस्थान और ओडिशा के कुछ इलाकों में लू चलने की संभावना है.

यह भी पढ़ें: कुवैत अग्निकांड के बाद PM मोदी ऐक्शन में, भारतीयों की सहायता के लिए भेजा मंत्री को विदेश 

यूपी-बिहार का मौसम

11 से 14 जून के दौरान पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड के गंगा के मैदानी इलाकों के कुछ हिस्सों में लू से लेकर गंभीर लू की स्थिति और 15 जून को छिटपुट लू की स्थिति रहने की संभावना है. 12 से 15 जून के दौरान यूपी के कुछ हिस्सों में लू से लेकर गंभीर लू की स्थिति रहने की संभावना है. 

यह भी पढ़ें: नवीन पटनायक की जगह लेने वाले मोहन माझी पर BJP ने क्यों खेला दांव?

गुरुवार को क्या कहते हैं आपके सितारे, पढ़ें मेष से लेकर मीन तक का हाल

वाराणसी: वैदिक ज्योतिष शास्त्र में कुल 12 राशियों का वर्णन किया गया है. एक राशि करीब एक महीने चलती है इस प्रकार से एक साल में 12 राशियों का चक्र पूरा होता है. हर राशि का स्वामी ग्रह होता है. ग्रह-नक्षत्रों की चाल से राशिफल का आकंलन किया जाता है. आज 13 June 2024, गुरुवार है. ये दिन विष्णु जी को समर्पित माना जाता है. इस दिन इनकी विधि-विधान से पूजा-अर्चना की जाती है. ऐसे में आइये जानते हैं कि आज किन राशि वालों को होगा लाभ और किन राशि वालों को रहना होगा सावधान. 


यह भी पढ़ें: VDA द्वारा भेलखा अठगावाँ वार्ड शिवपुर में स्वीकृत किया गया प्राइम सिटी का आवासीय लेआउट मानचित्र

मेष राशि: इस राशि के जातकों के लिए दिन मिला जुला रहेगा.  कहीं बाहर घूमने जाने का प्लान बना सकते हैं. युवा जातकों को करियर के लिए बहुत अधिक मेहनत करनी पड़ सकती है. घर में किसी मांगलिक कार्यक्रम का आयोजन हो सकता है. 

वृषभ राशि: इस राशि के जातकों के लिए दिन ठीक रहेगा. युवा और छात्र अपनी पढ़ाई पर ध्यान दें. खानपान का ध्यान रखें.  युवा जातकों का आज बहुत अधिक खर्च हो सकता है, जिसके कारण उनका मन परेशान भी हो सकता है.

मिथुन राशि: इस राशि के जातकों के लिए दिन साधारण रहेगा.  नौकरी में तरक्की के मौके मिल सकते हैं.  सेहत नरम रहेगी. बिजनेस से संबंधित कोई प्रोजेक्ट हाथ से निकल सकता है. अटके काम पूरे हो सकते हैं.

यह भी पढ़ें: कुवैत अग्निकांड के बाद PM मोदी ऐक्शन में, भारतीयों की सहायता के लिए भेजा मंत्री को विदेश

कर्क राशि: इस राशि के जातकों के लिए दिन मध्यम रहेगा. युवा जातकों की बात करें तो युवा जातक आज अपने मित्रों के साथ कही बाहर घूमने जाने का प्लान बना सकते हैं. घर में कोई पुराना दोस्त आएगा.

सिंह राशि: इस राशि के जातकों के लिए गुरुवार का दिन परेशानी वाला हो सकता है. आज गाड़ी चलाते समय थोड़ा सा सावधान रहें, नहीं तो आपसे कोई दुर्घटना हो सकती है. छात्र पढ़ाई पर ध्यान दें. युवा अपने ध्यान से नहीं भटकें.

कन्या राशि: इस राशि के जातकों के लिए दिन मिला जुला रहेगा. काम के सिलसिले में बाहर जाना हो सकता है. विद्यार्थी अपनी पढ़ाई में मन लगाएं. बिजनेस में  कोई जल्दबाजी में न करें, नुकसान की आशंका है. 

यह भी पढ़ें: नवीन पटनायक की जगह लेने वाले मोहन माझी पर BJP ने क्यों खेला दांव?

तुला राशि: इस राशि के जातकों के लिए दिन साधारण रहेगा.बिजनेस वालों के लिए दिन अच्छा रहेगा. अटके काम पूरे हो सकते हैं. लव लाइफ में किसी बात पर तनाव हो सकता है. अटके काम पूरे होंगे.

वृश्चिक राशि: इस राशि के जातकों के लिए दिन साधारण रहेगा. आज परिवार में किसी रिश्तेदार का आना हो सकता है. नौकरी में आपका प्रमोशन हो सकता है. छात्र पढ़ाई के लिए बाहर जा सकते हैं. लव लाइफ में कुछ गड़बड़ के आसार हैं.

धनु राशि: इस राशि के जातकों के लिए बुधवार का दिन हल्का रहेगा.  आज सेहत का ध्यान रखें, खराब हो सकती है. युवा गुस्से पर काबू रखें, विवाद हो सकता है. कामकाज मध्यम रहेगा. महिलाएं आज थकान महसूस करेंगी.

यह भी पढ़ें: “यू-विन एप ने आसान बनाया गर्भवती माताओं और बच्चों का टीकाकरण” - सीएमओ

मकर राशि: इस राशि के जातकों के लिए दिन ठीक ठाक रहेगा. घऱ में कोई मांगलिक काम हो सकता है.. शाम को मानसिक थकान महसूस करेंगे. काम के सिलसिले में बाहर जाना हो सकता है. 

कुंभ राशि: इस राशि के जातकों के लिए गुरुवार का दिन अच्छा रहेगा. संतान की तरफ से सुखी रहेंगे. दोस्तों के साथ बाहर घूमने का प्लान बना सकते हैं. जीवनसाथी के साथ किसी बात पर नोंकझोंक हो सकती है. 

मीन राशि: इस राशि के जातकों के लिए दिन मिला जुला रहेगा.  छात्र और युवा अपनी पढ़ाई पर ध्यान दें. लव लाइफ ठीक चलेगी. युवा अपने काम पर ध्यान दें. शादी शुदा जीवन ठीक रहेगा. घर में बड़ों का ध्यान रखें.

यह भी पढ़ें: सड़क पर अतिक्रमण करने वालों की अब खैर नहीं, कमिश्नरेट पुलिस ने बनाई पुख्ता रणनीति, जानिये क्या है प्लान

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है.  सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक पहुंचाई गई हैं. हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है. इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी. पूर्वांचल खबर इसकी जिम्मेदारी नहीं लेगा.

Wednesday, June 12, 2024

VDA द्वारा भेलखा अठगावाँ वार्ड शिवपुर में स्वीकृत किया गया प्राइम सिटी का आवासीय लेआउट मानचित्र

वाराणसी: विकास क्षेत्र (महायोजना -2031) के अंदर प्राधिकरण से ले-आऊट (मानचित्र) स्वीकृत कराये बिना भूमि का उप-विभाजन (प्लाटिंग) करके बेचने पर पूर्णतः प्रतिबंध है तथा यह कार्य अवैध है। प्राधिकरण से अनुमति प्राप्त किए बिना अवैध रूप से विकसित की जा रही कालोनियों के विरुद्ध प्राधिकरण द्वारा समय समय पर ध्वस्तिकरण एवं अन्य विधिक कार्यवाही संपादित की जाती है। 


यह भी पढ़ें: कुवैत अग्निकांड के बाद PM मोदी ऐक्शन में, भारतीयों की सहायता के लिए भेजा मंत्री को विदेश

आमजनमानस द्वारा जानकारी के अभाव में इस प्रकार से अवैध रूप से विकसित की जा रही अवैध कालोनियों में संपत्ति क्रय कर ली जाती है।  इन अवैध कालोनियों में मूलभूत सुविधायें (यथा सीवर, स्वच्छ पेयजल, मानक रोड, पार्क  इत्यादि) का अभाव होता है तथा ये सुविधाएं क्रेताओं को नहीं मिल पाती है तथा भविष्य में आमजनमानस को अत्यंत कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। वीडीए द्वारा मानकों के अनूरूप प्रस्तुत मानचित्र आवेदनों को न्यूनतम समय सीमा में निस्तारण करने के कारण विकासकर्ता तलपट मानचित्र स्वीकृत कराते हुये नियोजित विकास करने हेतु अब तेजी से इच्छुक हो रहे है। 

यह भी पढ़ें: नवीन पटनायक की जगह लेने वाले मोहन माझी पर BJP ने क्यों खेला दांव?

विकासकर्ता जयशंकर, जय गोविंद सिंह, चंद्रभान सिंह, बनारसी लाल, उमाकांत पुत्र सत्यनारायण, रमाकांत पुत्र सत्यनारायण, प्रियंका देवी पुत्री सत्यनारायण सिंह, संजय कुमार पुत्र प्रभुनारायण, प्रकाश पुत्र प्रभुनारायण, अशोक कुमार पुत्र प्रभुनारायण द्वारा आराजी संख्या 60 का,61, 69, 71, 181, 182, 183, 184, 210, 211, 212, 213, 215, 224 मौजा-भेलखा (अठगावा) तहसील-पिंडरा, परगना-शिवपुर, जिला-वाराणसी पर "प्राइम सिटी" के नाम से 14654.64 वर्गमीटर क्षेत्रफल की भूमि पर 26 प्लाटयुक्त आवासीय तलपट मानचित्र स्वीकृति हेतु प्रस्तुत किया गया था, जिसे दिनांक 12.06.2024 को उपाध्यक्ष द्वारा स्वीकृति प्रदान की गयी है। 

यह भी पढ़ें: “यू-विन एप ने आसान बनाया गर्भवती माताओं और बच्चों का टीकाकरण” - सीएमओ

प्राधिकरण को इस मानचित्र स्वीकृति से रु. 17384550/-(एक करोड़ तिहत्तर लाख चौरासी हजार पाँच सौ पचास) के राजस्व की प्राप्ति होगी। स्वीकृत परियोजना के अंतर्गत विकासकर्ता द्वारा कुल 26 प्लाटों का विकास किया जायेगा। परियोजना में विकासकर्ता द्वारा मुख्य पंचकोशी मार्ग से परियोजना तक 12 मीटर के अप्रोच मार्ग तथा 9 मीटर के आंतरिक मार्गों के विकास की प्रस्तावना की गयी है। परियोजना में 2278 वर्गमीटर का हरित एवं खुला क्षेत्र, आंतरिक्त विद्युत एवं सीवर लाइन के साथ सीवर निस्तारण हेतु 40 केएलडी क्षमता के एसटीपी की स्थापना प्रस्तावित है। इसके अतिरिक्त कचरा संग्रहण, जलापूर्ति, शॉपिंग सेंटर, कन्वीनियंस स्टोर और कियॉस्क, स्ट्रीट लाइट इत्यादि सुविधाओं का विकास किया जाना प्रस्तावित है, जिससे परियोजना में रहवासियों एवं आस पास के जनमानस को लाभ प्राप्त होगा।

यह भी पढ़ें: सड़क पर अतिक्रमण करने वालों की अब खैर नहीं, कमिश्नरेट पुलिस ने बनाई पुख्ता रणनीति, जानिये क्या है प्लान

Tuesday, June 11, 2024

“यू-विन एप ने आसान बनाया गर्भवती माताओं और बच्चों का टीकाकरण” - सीएमओ

वाराणसी: स्वास्थ्य सेवाओं का डिजिटलीकरण लगातार बढ़ रहा है, जिससे जनमानस के लिए सुविधाओं का लाभ उठाना आसान हो रहा है। इसी कड़ी में राष्ट्रीय नियमित टीकाकरण कार्यक्रम के अंतर्गत को-विन एप्लीकेशन की तर्ज पर यू-विन एप को शुरू किया गया है, जिसका परिणाम काफी सकारात्मक दिख रहा है। यू-विन एप के माध्यम से जनपद में गर्भवती माताओं और बच्चों के टीकाकरण प्रक्रिया बेहद आसान हो गई है। इस एप पर पंजीकृत समस्त गर्भवती माताओं और जन्म से लेकर पाँच साल तक के बच्चों का टीकाकरण शत-प्रतिशत सुनिश्चित किया जा रहा है। इसके अलावा एप में बच्चों की आभा आईडी भी बनाई जा रही है। प्रसव केन्द्रों पर भी जन्म के 24 घंटे के अंदर लगने वाले टीकाकरण (बर्थ डोज़) की प्रक्रिया को सुदृढ़ किया जा रहा है। जल्द ही सामुदायिक सर्वेक्षण को भी शामिल किया गया है, जिससे लोगों की सेहत का ख्याल रखा जा सके। 


यह भी पढ़ें: सड़क पर अतिक्रमण करने वालों की अब खैर नहीं, कमिश्नरेट पुलिस ने बनाई पुख्ता रणनीति, जानिये क्या है प्लान

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ संदीप चौधरी ने बताया कि धीरे-धीरे स्वास्थ्य सेवाएं ऑनलाइन होती जा रही हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने को-विन की तर्ज पर ही यू-विन पोर्टल और एप शुरू कर गर्भवती माताओं व जन्म से लेकर पांच वर्ष तक के बच्चों के टीकाकरण को भी आसान बना दिया है। इस एप में गर्भवती महिलाओं और बच्चों को पंजीकृत कर टीकाकरण व अन्य सेवाओं का लाभ दिलाने के लिए जोड़ा जा रहा है। सीएमओ ने कहा कि यू-विन एप पर पंजीकृत गर्भवती महिलाएं और बच्चे टीकाकरण के लिए हर बुधवार व शनिवार को आयोजित होने वाले नियमित टीकाकरण सत्र दिवस पर स्लॉट बुक कर सकते हैं। स्लॉट बुक हो जाने से लाभार्थी उसी दिन दिए गए समय पर पहुँचकर अपना टीकाकरण आसानी से करा सकता है। इससे उनके समय की बचत हो रही है। नजदीकी टीकाकरण केंद्र की जानकारी हो जा रही है और प्रशिक्षित स्टाफ द्वारा टीका लगवाने की संतुष्टि भी मिल रही है। सीएमओ ने कहा कि यू-विन पोर्टल न सिर्फ स्वास्थ्य प्रणाली को टीकाकरण की योजना को बेहतर बनाने मे मदद कर रहा है बल्कि लाभार्थियों को टीकाकरण करवाने के लिए भी प्रोत्साहित कर रहा है। 

यह भी पढ़ें: जे एन तिवारी के नेतृत्व में मुख्यमंत्री से मिला राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद का प्रतिनिधिमंडल

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ एके मौर्या ने बताया कि गर्भवती माताओं और बच्चों को अगला टीका कब लगना है और पिछला टीका कब लगा था। कितने दिनों के अंतराल में कौन सा टीका परिवार के किस सदस्य को लेना है, आदि जानकारियां यू-विन पोर्टल व एप्लीकेशन पर तो दर्ज की ही जा रही हैं। साथ ही लाभार्थी के मोबाइल पर भी इसका अपडेट और अलर्ट आ रहा है। लाभार्थी के पंजीकृत मोबाइल नंबर पर टीका लगने के एक दिन पहले मैसेज जा रहा है। इतना ही नहीं, गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद एप पर पंजीकृत लाभार्थी देश के किसी भी हिस्से में कभी भी टीके की कोई भी डोज ले सकते हैं और कोविड वैक्सीन की ही तरह नियमित टीकाकरण के सभी तरह के टीकों के लिए ऑनलाइन स्लाट बुक कर सकते हैं। एप से टीके का प्रमाण पत्र भी हासिल कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: अर्शदीप सिंह पर विवादित बयान देने वाले पाकिस्तानी क्रिकेटर की हरभजन सिंह ने उतारी इज्जत, क्रिकेटर ने मांगी माफ़ी

एक नजर आंकड़ों पर - डॉ एके मौर्य ने बताया कि इसी साल से 15 मार्च से यू-विन की सुविधा शुरू की गई थी। तब से लेकर मई तक जनपद में लक्षित 10,675 सत्र के सापेक्ष 10241 सत्र आयोजित किए जा चुके हैं। इन सत्रों में 14,938 गर्भवती माताओं और 63,625 बच्चों का पंजीकरण कर टीका लगाया जा चुका है। इसमें जन्म से लेकर एक वर्ष तक के 44007 और एक से पाँच वर्ष तक के 19,618 बच्चे शामिल हैं। इसके अलावा पिछले वित्तीय वर्ष में जन्म से लेकर एक वर्ष तक के 85,987 (117%) बच्चों, एक से दो वर्ष तक के 83,165 (120%) बच्चों को एमआर सेकेंड डोज़ व 83,140 (120%) बच्चों को डीपीटी फर्स्ट बूस्टर से आच्छादित किया गया। इसके साथ ही पाँच वर्ष के 74,485 बच्चों (120%) को डीपीटी सेकेंड बूस्टर डोज़ लगाई गई।

यह भी पढ़ें: इन चार राशियों पर मेहरबान रहेंगे बजरंगबली, पढ़ें क्या कहते हैं आपके सितारे?

लाभार्थियों के बोल – अशफाक़ नगर निवासी अतुल कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि 15 मार्च को सरकारी अस्पताल में मेरी बेटी पैदा हुई। इस दौरान स्टाफ नर्स ने मुझे सभी टीकों और उसके फायदे के बारे में जानकारी दी। 24 घंटे के अंदर मैंने अपनी बच्ची को जन्म पर लगने वाले तीनों टीके पीएचसी पर लगवाए। इसके बाद डेढ़ माह पर पेंटा की पहली खुराक लगवाई। बीते बुधवार को ढाई माह (10वें सप्ताह) होने पर उसको तीनों टीके लगवाए। हर बार मुझे टीकाकरण का प्रमाण पत्र भी मिला है। अशफाक़ नगर निवासी ही अल्तमश सूफियाना ने बताया कि बीते बुधवार को मैंने अपने ढाई माह के बेटे को तीनों टीके पीएचसी पर लगवाए। इससे पहले उन्होंने समस्त टीके समय पर लगवाएं हैं। टीके का प्रमाण पत्र मिलने से बच्चे के अगले टीकाकरण की तारीख भी पता चल जाती है। स्लॉट बुक हो जाने की यह सुविधा काफी बेहतर है और इससे समय की भी बचत हो रही है।

यह भी पढ़ें: अर्शदीप सिंह पर विवादित बयान देने वाले पाकिस्तानी क्रिकेटर की हरभजन सिंह ने उतारी इज्जत, क्रिकेटर ने मांगी माफ़ी