Latest News

Showing posts with label Lucknow News. Show all posts
Showing posts with label Lucknow News. Show all posts

Tuesday, June 18, 2024

विगत 10 वर्षों में बदलते काशी को दुनिया के लोगों ने देखा है- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

वाराणसी: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कार्यक्रम में दुनिया के सबसे लोकप्रिय राजनेता, भारत के प्रधानमंत्री तथा वाराणसी के लोकप्रिय सांसद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मां गंगा का यशस्वी पुत्र बताते हुए काशी एवं उत्तर प्रदेश के अन्नदाता किसानों एवं काशीवासियों की ओर से उनका अभिनंदन किया। उन्होंने कहा कि देश की आजादी के 62 वर्ष बाद यह अवसर पहली बार आया है कि अपनी लोकप्रियता के आधार पर तीसरी बार नरेंद्र मोदी ने देश के प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली है। इनके नेतृत्व में एक नए भारत का दर्शन लोग कर रहे हैं। भारत दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनाने की ओर अग्रसर है। 


यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री ने वाराणसी से पीएम-किसान की 17वीं किस्त किया जारी, मतदाताओं का लोकतंत्र के उत्सव को सफल बनाने के लिए जताया आभार

उन्होंने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि वर्ष 2014 में देश के अन्नदाता किसान राजनीतिक एजेंडा का हिस्सा बने और किसानों के उत्थान के लिए किये जा रहे कार्यों का परिणाम अब लोग देख रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि विगत 10 वर्षों में बदलते काशी को दुनिया के लोगों ने देखा है। हजारों करोड़ रुपए के विकास कार्य यहां कराए गए हैं। दुनिया के लोग काशी को नये कलेवर में बदलता हुआ देख रहे हैं। मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को उन्हीं के काशी में अन्नदाता किसानों एवं काशीवासियों के ओर से बधाई दी। उन्होंने कहा कि जब तीसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ मोदी जी ने ली, तो उन्होंने सबसे पहला कार्य और सबसे पहले किसी एक फाइल पर हस्ताक्षर किया तो किसानों के लिए किया। किसानों के लिए समर्पित और आज देश के करोड़ों किसानों को प्रधानमंत्री मोदी द्वारा प्रधानमंत्री किसान सम्मन निधि की नई सौगात के साथ अभियान का शुभारंभ होने जा रहा है। 

यह भी पढ़ें: यूपी के साथ-साथ दिल्ली, पंजाब, हरियाणा के लोगों को इस तारीख को मिलेगी तपन से मुक्ति

मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने भीषण आग बरसाती गर्मी की चर्चा करते हुए कहा कि प्रकृति व परमात्मा का संगम आज काशी में देखने को मिला है। जब गत दिनों की भीषण गर्मी के बावजूद आज काशी में प्रधानमंत्री की किसान सम्मान सम्मेलन कार्यक्रम के दौरान अचानक मौसम परिवर्तन के रूप में देखने को मिला है। इससे पूर्व केंद्रीय कृषि मंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने भी प्रधानमंत्री का स्वागत करते हुए सम्मेलन में आए किसानों को संबोधित किया।

यह भी पढ़ें: वायनाड छोड़ रायबरेली के हुए राहुल, अब प्रियंका गांधी लड़ेंगी उपचुनाव

बताते चले कि विकसित भारत का संकल्प पूरा करने के लिए कृषि सबसे महत्वपूर्ण आधार है और कृषि भारतीय अर्थव्यवस्था की नींव है। रोजगार के सबसे ज्यादा अवसर कृषि के माध्यम से ही सृजित होते हैं। कृषि और किसान पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सर्वोच्च प्राथमिकता रहे हैं, जिसके चलते किसानों के कल्याण के लिए अनेकों कदम उठाए गये और अभी भी प्रधानमंत्री ने पद ग्रहण करने के बाद सबसे पहले किसान सम्मान निधि की 17वीं किस्त किसानों को जारी करने को लेकर हस्ताक्षर किए। 

गौरतलब है कि किसान सम्मान निधि 24 फरवरी 2019 को शुरू की गई एक केंद्रीय क्षेत्र की योजना है।लाभार्थियों के पंजीकरण और सत्यापन में पूर्ण पारदर्शिता बनाए रखते हुए केंद्र सरकार ने देश भर में लगभग 11 करोड़ से अधिक किसानों को 3.04 लाख करोड़ रुपये से अधिक का वितरण किया है और इसके साथ ही, योजना की शुरुआत से लाभार्थियों को हस्तांतरित कुल राशि 3.24 लाख करोड़ रुपये से अधिक हो जाएगी। आज अन्नदाताओं की खुशहाली के साथ विकसित भारत के संकल्प की सिद्धि का भी श्री गणेश हुआ। 

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में हुए सड़क हादसे पर सीएम योगी ने जताया शोक, सीएम के निर्देश पर अधिकारियों की टीम रुद्रप्रयाग रवाना

इससे पूर्व प्रधानमंत्री का जनसभा स्थल पर भव्य स्वागत किया गया। केन्द्रीय कृषि मंत्री शिवराज सिंह चौहान व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अंग वस्त्र भेटकर प्रधानमंत्री को सम्मानित किया। वहीं तीन किसानों ने भी उनका सम्मानित किया। कार्यक्रम में 732 कृषि विज्ञान केंद्रों (केवीके), 1 लाख से अधिक प्राथमिक कृषि सहकारी समितियों और देश भर के 5 लाख कॉमन सर्विस सेंटरों के 2.5 करोड़ से अधिक किसान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ऑनलाइन शामिल रहे।

मेहंदी गंज में इनकी भी रही उपस्थिति

भाजपा क्षेत्रीय अध्यक्ष दिलीप पटेल, एमएलसी अश्वनी त्यागी, पूर्व विधायक जगदीश पटेल, पूर्व विधायक सुरेंद्र नारायण सिंह, अशोक चौरसिया, सुशील त्रिपाठी, राजेश राजभर, क्षेत्रीय मीडिया प्रभारी नवरतन राठी, सह मीडिया प्रभारी संतोष सोलापुरकर, प्रवीण सिंह गौतम, संजय सोनकर, जेपी दूबे, सुरेंद्र पटेल, सुरेश सिंह, विपिन सिंह, अनिल श्रीवास्तव, श्रीप्रकाश शुक्ला, देवेंद्र मोर्या, विनय मोर्या, विनिता सिंह, वंश नारायण पटेल, पवन सिंह, संजय सिंह, अरविंद प्रधान, अरविंद पाण्डेय, अमित पाठक, कुशाग्र श्रीवास्तव आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें: सावधान रहें सुरक्षित रहें इस बार टूटेगा गर्मी का सारा रिकॉर्ड

प्रधानमंत्री ने वाराणसी से पीएम-किसान की 17वीं किस्त किया जारी, मतदाताओं का लोकतंत्र के उत्सव को सफल बनाने के लिए जताया आभार

वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने दो दिवसीय वाराणसी दौरे के दौरान मंगलवार को राजातालाब के मेहदीगंज में आयोजित किसान सम्मान सम्मेलन में पीएम- किसान के अंतर्गत 20 हजार करोड़ रुपए की 17 वीं किस्त जारी किया. साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने कृषि सखियों के रूप में 30,000 से अधिक स्वयं सहायता समूहों को प्रमाण पत्र प्रदान किया। इस प्रकार तीसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद अपने सबसे पहले कार्यक्रम में पीएम किसान की बहुप्रतीक्षित 17वीं किस्त, 20,000 करोड़ रुपये से अधिक की राशि, 9.26 करोड़ से अधिक लाभार्थी किसानों को प्रधानमंत्री ने मंगलवार को वाराणसी से बटन के एक क्लिक से वितरित किया। जैसे ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने डिजिटल बटन को क्लिक किया, किसानों के बैंक खातों में खटाखट- खटाखट, दनादन-दनादन उनकी सम्मान राशि पहुंच गई। जिससे कार्यक्रम में शामिल किसानों के चेहरे खुशी से खिल उठे।


यह भी पढ़ें: यूपी के साथ-साथ दिल्ली, पंजाब, हरियाणा के लोगों को इस तारीख को मिलेगी तपन से मुक्ति

इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विशाल किसान सम्मेलन में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि भोजपुरी में कहा कि "चुनाव के बाद आज हम पहली बार बनारस आयल हईं। काशी के जनता जनार्दन के हमार प्रणाम"। बाबा विश्वनाथ और मां गंगा के आशीर्वाद से काशीवासियों के असीम प्यार से मुझे तीसरी बार देश का प्रधान सेवक बनने का सौभाग्य मिला है। उन्होने कहा कि काशी के लोगों ने मुझे लगातार तीसरी बार अपना प्रतिनिधि चुनकर धन्य कर दिया है। जैसे माँ गंगा ने मुझे गोद ले लिया है। मैं यहीं का हो गया। 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत के मतदाताओं की संख्या सबसे ज्यादा जी 7 के सारे मतदाताओं को मिला दें, तो भी भारत के वोटर की संख्या उनसे डेढ़ गुना ज्यादा है। यूरोप के तमाम देशों को जोड़ दें, यूरोपीय यूनियन के सारे मतदाताओं को जोड़ दें तो भी भारत के वोटर की संख्या उनसे ढाई गुना ज्यादा है। मैं आपका ऋणी हूं। उन्होंने कहा कि भारत में 18वीं लोकसभा के लिए हुआ यह चुनाव भारत के लोकतंत्र की विशालता को, भारत के लोकतंत्र के समर्थक को, भारत के लोकतंत्र की व्यापकता को, भारत के लोकतंत्र की जड़ों की गहराई को दुनिया के सामने पूरे समर्थ के साथ प्रस्तुत करता है। इस चुनाव में देश के 64 करोड़ से ज्यादा लोगों ने मतदान किया। पूरी दुनिया में इससे बड़ा चुनाव कहीं और नहीं होता है, जहां इतनी बड़ी संख्या में लोग वोटिंग में हिस्सा लेते।  

यह भी पढ़ें: वायनाड छोड़ रायबरेली के हुए राहुल, अब प्रियंका गांधी लड़ेंगी उपचुनाव

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि इस चुनाव में 31 करोड़ से ज्यादा महिलाओं ने हिस्सा लिया है। यह एक देश में महिला वोटर की संख्या के हिसाब से पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा है। यह संख्या अमेरिका के पूरे आबादी के आसपास है। भारत के लोकतंत्र की यही खूबसूरती यही ताकत पूरी दुनिया को आकर्षित भी करती है। प्रभावित भी करती है। उन्होने बनारस के हर मतदाता का भी लोकतंत्र के उत्सव को सफल बनाने के लिए आभार जताते हुए कहा कि यह बनारस के लोगों के लिए भी गर्व की बात है, काशी के लोगों ने तो सिर्फ एमपी नहीं बल्कि तीसरी बार पीएम भी चुना है। इसलिए काशीवासियों को प्रधानमंत्री ने डबल बधाई दी। उन्होने कहा कि इस चुनाव में देश के लोगों ने जो जनादेश दिया है, वह वाकई अभूतपूर्व है। एक नया इतिहास रचा। दुनिया के लोकतांत्रिक देश में ऐसा बहुत कम ही देखा गया है कि कोई चुनी हुई सरकार लगातार तीसरी बार वापसी करें। जनता ने यह भी करके दिखाया है। ऐसा भारत में 60 साल पहले हुआ था, तब से भारत में किसी सरकार ने इस तरह हैट्रिक नहीं लगाई। 

उन्होने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि लोगों ने यह सौभाग्य हमें, अपने सेवक मोदी को दिया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि भारत जैसे देश में जहां युवा आकांक्षा इतनी बड़ी है, जहां जनता के आधार सपने हैं, वहां लोग अगर किसी सरकार को 10 साल के काम के बाद फिर सेवा का अवसर देते हैं, तो यह बहुत बड़ा विश्वास है। उन्होने कहा कि नौजवान, नारी शक्ति और गरीब सभी को भारत का मजबूत स्तंभ माना है। अपने तीसरे कार्यकाल की शुरुआत मैंने सरकार बनते ही सबसे पहले फैसला किसान और गरीब परिवारों से जुड़ा फैसला लिया। देश भर में गरीब परिवारों के लिए तीन करोड़ घर बनाने हों या फिर पीएम किसान सम्मन निधि को आगे बढ़ाना हो यह फैसला करोड़ों लोगों की मदद करेंगा। किसान सम्मान सम्मेलन कार्यक्रम भी विकसित भारत के इसी रास्ते को सशक्त करने वाला है। 

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में हुए सड़क हादसे पर सीएम योगी ने जताया शोक, सीएम के निर्देश पर अधिकारियों की टीम रुद्रप्रयाग रवाना

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि काशी के साथ-साथ काशी से ही देश के गांव से जुड़े करोड़ों किसान हमारे साथ जुड़े हुए हैं और यह सारे हमारे किसान माताएं, भाई-बहन की शोभा बढ़ा रहे हैं। उन्होने अपनी काशी से हिंदुस्तान के कोने-कोने में गांव-गांव में आज टेक्नोलॉजी से जुड़े हुए सभी किसान भाई बहनों का अभिवादन किया। उन्होने कहा कि देश भर के करोड़ों किसानों के बैंक खाते में पीएम किसान सम्मन निधि के 20,000 करोड़ रुपए पहुंचे हैं। आज 3 करोड़ बहनों को लखपति दीदी बनाने की तरफ भी बहुत बड़ा कदम उठाया गया है। उन्हें सम्मान और आय के नए साधन दोनों सुनिश्चित करेंगे। उन्होने सभी किसान परिवारों को, माता बहनों को बहुत-बहुत शुभकामनाएं देते हुए कहा कि पीएम किसान सम्मान निधि आज दुनिया की सबसे बड़ी डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर स्कीम बन चुका है। अभी तक देश के करोड़ों किसान परिवारों की बैंक खाते में 3:15 लाख करोड़ रुपये जमा हो चुके हैं। यहां वाराणसी जिले के किसानों के खाते में भी 700 करोड़ रुपये जमा हुए। प्रसन्नता व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि पीएम किसान सम्मान निधि में सभी लाभार्थी तक लाभ पहुंचाने के लिए टेक्नोलॉजी का बेहतर इस्तेमाल हुआ है। कुछ महीने पहले ही भारत संकल्प यात्रा के दौरान भी एक करोड़ से अधिक किसान इस योजना से जुड़े। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि किसान आत्मनिर्भर बन रहा है और कृषि निर्यात में अग्रणी बना है। इसके लिए उन्होने बनारस का लंगड़ा आम, जौनपुर की मूली, गाजीपुर की भिंडी की चर्चा करते हुए कहा कि ऐसे अनेक उत्पाद आज विदेशी मार्केट में पहुंच रहे हैं। वन जिला वन प्रोडक्ट और जिला स्तर पर एक्सपोर्ट हब बनने से एक्सपर्ट बढ़ रहा है और उत्पादन भी एक्सपोर्ट क्वालिटी का होने लगा। उन्होंने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि अब हमें ग्लोबल मार्केट में देश को नई ऊंचाई पर ले जाना और मेरा तो सपना है कि दुनिया की हर डाइनिंग टेबल पर भारत का कोई न कोई खजाना डिफेक्ट वाले मंत्र को बढ़ावा देना। मोटे अनाज श्री अन्न का उत्पादन हो, औषधीय गुण वाली फसल हो या फिर प्राकृतिक खेती की तरफ बढ़ना। पीएम किसान समृद्धि के माध्यम से किसानों के लिए एक बड़ा सपोर्ट सिस्टम विकसित किया जा रहा है। 

यह भी पढ़ें: सावधान रहें सुरक्षित रहें इस बार टूटेगा गर्मी का सारा रिकॉर्ड

उन्होने कार्यक्रम में बड़ी संख्या में उपस्थित महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा कि इनके बिना खेती की कल्पना भी नहीं संभव है। इसलिए अब खेती को नई दिशा देने में भी माता बहनों की भूमिका का विस्तार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हमने आशा कार्यकर्ता के रूप में बहनों का काम देखा। डिजिटल इंडिया बनाने में बहनों की भूमिका अच्छी है। अब हम कृषि सखी के रूप में खेती को नई ताकत मिलते हुए देखेंगे। आज कार्यक्रम के दौरान 30,000 सहायता समूह को कृषि सखी के रूप में प्रमाण पत्र दिए गए। अभी 12 राज्यों में यह योजना शुरू हुई है। आने वाले समय में पूरे देश में हजारों समूह को इससे जोड़ा जाएगा। यह अभियान तीन करोड़ लखपति दीदी बनाने में भी मदद करेगा।  

इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उप मुख्यमंत्री द्वय केशव प्रसाद मोर्या, ब्रजेश पाठक, केंद्रीय मंत्री शिवराज सिंह चौहान, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह चौधरी, प्रदेश के कैबिनेट मंत्री सुर्य प्रताप शाही, जयवीर सिंह अनिल राजभर, राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार रविन्द्र जायसवाल, डॉ दयाशंकर मिश्र दयालु, विधायक डॉ अवधेश सिंह, विधायक टी.राम, विधायक सुनील पटेल, भाजपा जिलाध्यक्ष एवं एमएलसी हंसराज विश्वकर्मा, जिला पंचायत अध्यक्ष पूनम मोर्या, मंचासिंन रहे।

यह भी पढ़ें: मेरठ के मदरशो में छात्रवृत्ति वितरण में 3 करोड़ रुपये गबन के मामले में तत्कालीन जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी को मिली अग्रिम जमानत

Saturday, June 15, 2024

उत्तराखंड में हुए सड़क हादसे पर सीएम योगी ने जताया शोक, सीएम के निर्देश पर अधिकारियों की टीम रुद्रप्रयाग रवाना

लखनऊ: उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग में शनिवार को तीर्थयात्रियों को ले जा रहा वाहन सड़क दुर्घटना का शिकार हो गया। इसमें देर शाम तक 14 लोगों के मारे जाने की सूचना है, जिसमें उत्तर प्रदेश के भी यात्री शामिल हैं। 5 गंभीर रूप से घायल हैं तो 7 सामान्य घायल बताए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस हादसे पर दुख जताते हुए शोकाकुल परिजनों के प्रति अपनी संवेदनाएं व्यक्त की हैं। साथ ही मुख्यमंत्री योगी ने मुख्यमंत्री कार्यालय और राहत आयुक्त कार्यालय को तत्काल स्थानीय प्रशासन से संपर्क कर घायलों के समुचित उपचार और आवश्यक सुरक्षा सुनिश्चित कराने के निर्देश भी दिए हैं। मुख्यमंत्री के निर्देश पर जनपद सहारनपुर से वरिष्ठ अधिकारियों की टीम रुद्रप्रयाग के लिए रवाना हो गई है। उल्लेखनीय है कि दुर्घटनाग्रस्त वाहन में दिल्ली-एनसीआर (नोएडा) के तीर्थयात्री सवार थे। उत्तराखंड के सीएम पुष्कर धामी ने दुर्घटना की जांच के आदेश दिए हैं। 


यह भी पढ़ें: सावधान रहें सुरक्षित रहें इस बार टूटेगा गर्मी का सारा रिकॉर्ड

सीएम ने लिया हादसे का संज्ञान, दिए निर्देश

सीएम योगी ने दुर्घटना पर शोक जताते हुए एक्स पर लिखा, "उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग में एक सड़क दुर्घटना में हुई जनहानि अत्यंत दुःखद व दुर्भाग्यपूर्ण है। मेरी संवेदनाएं शोकाकुल परिजनों के साथ हैं। प्रभु श्री राम से प्रार्थना है कि दिवंगत पुण्यात्माओं को सद्गति और घायलों को शीघ्र स्वास्थ्य लाभ प्रदान करें।" सीएम योगी ने हादसे का संज्ञान लेते हुए वरिष्ठ अधिकारियों को घायल यात्रियों के समुचित उपचार और आवश्यक सुरक्षा सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए अधिकारियों को स्थानीय प्रशासन के संपर्क में रहने को कहा गया है और पल पल की रिपोर्ट मुख्यमंत्री के संज्ञान में लाने के निर्देश दिए गए हैं।

यह भी पढ़ें: मेरठ के मदरशो में छात्रवृत्ति वितरण में 3 करोड़ रुपये गबन के मामले में तत्कालीन जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी को मिली अग्रिम जमानत

गुरुग्राम से तुंगनाथ जा रहे थे तीर्थयात्री, यूपी के यात्री भी थे सवार 

प्राप्त जानकारी के अनुसार,वाहन गुरुग्राम से तुंगनाथ जा रहा था। इसमें कुल 26 लोग सवार थे। वाहन शनिवार को रुद्रप्रयाग मुख्यालय के समीप रैंतोली के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया। वाहन हाईवे से करीब 200 मीटर गहरी खाई में जा गिरा, जिसके चलते 10 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि 14 लोगों को रेस्क्यू कर जिला अस्पताल रुद्रप्रयाग लाया गया। अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टर्स ने एक व्यक्ति को मृत घोषित कर दिया, जबकि एक व्यक्ति की मृत्यु इलाज के दौरान हो गई। 2 मृतकों की शिनाख्त नहीं हो पाई है।  7 घायलों की स्थिति की गंभीरता को देखते हुए उन्हें एयर लिफ्ट किया गया है। स्टेट इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर द्वारा अवगत कराया गया है कि गाड़ी का नंबर हरियाणा राज्य का था।

यह भी पढ़ें: डाक विभाग के इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक में मात्र ₹549 में होगा 10 लाख का दुर्घटना बीमा

Thursday, June 13, 2024

डाक विभाग के इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक में मात्र ₹549 में होगा 10 लाख का दुर्घटना बीमा

वाराणसी: महंगे प्रीमियम पर बीमा करवाने में असमर्थ लोगों के लिए डाक विभाग का इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक एक विशेष दुर्घटना सुरक्षा बीमा लेकर आया है, जिसमें वर्ष में महज 549 और 749 रुपए के प्रीमियम के साथ लाभार्थी का क्रमशः 10 और 15 लाख रुपए का बीमा होगा। एक साल खत्म होने के बाद अगले साल यह बीमा रिन्यू करवाना होगा। इसके लिए इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक में लाभार्थी का खाता होना अनिवार्य है। उक्त जानकारी वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने दी। डाक विभाग इसके लिए 13 जून को वाराणसी परिक्षेत्र के अधीन वाराणसी, भदोही, चंदौली, जौनपुर, गाज़ीपुर, बलिया ज़िलों में विशेष अभियान चलायेगा।


यह भी पढ़ें: स्वास्थ्य विभाग ने पंचायत घर के लिए आरक्षित जमीन पर कब्जा कर बना दिया स्वास्थ्य उपकेंद्र, पूर्व प्रधान व सचिव ने नहीं जताई कोई आपत्ति

पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक और आदित्य बिरला हेल्थ इंश्योरंस ग्रुप पर्सनल एक्सीडेंट के मध्य हुए एक एग्रीमेंट के तहत 18 से 65 वर्ष आयु  के लोगों को यह निजी दुर्घटना बीमा सुरक्षा मिलेगी। इसके तहत, दोनों प्रकार के बीमा कवर में दुर्घटना से मृत्यु, स्थाई या आंशिक पूर्ण अपंगता, अंग विच्छेद या पैरालाइज्ड होने पर क्रमशः 10 और 15 लाख रुपए का कवर मिलेगा। साथ ही साथ इस बीमा में दुर्घटना से हॉस्पिटल में भर्ती रहने के दौरान इलाज हेतु 60,000 रुपए तक का आई.पी.डी खर्च और ओ.पी.डी में 30,000 रुपए तक का क्लेम मिलेगा। इस बीमा में डॉक्टर से पोषण संबंधी सलाह एवं मानसिक स्वास्थ्य के लिए 4 परामर्श की सुविधा होगी| वहीं, दोनों प्रीमियम बीमा में उपरोक्त सभी लाभों के अलावा दो बच्चों की पढ़ाई के लिए एक लाख तक का खर्च, दस दिन अस्पताल में रोजाना का एक हजार खर्च, किसी अन्य शहर में रह रहे परिवार हेतु ट्रांसपोर्ट का 25,000 रूपए तक का खर्च और मृत्यु होने पर अंतिम संस्कार के लिए 5,000 तक का खर्च मिलेगा।

यह भी पढ़ें: यूपी बिहार के लोगों को मानसून के लिए करना होगा इतने दिनों तक इंतजार, IMD ने बताया समय

पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि इसके लिए इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक में लाभार्थी का खाता होना अनिवार्य है। प्रीमियम खाता मात्र रु200/- में प्राप्त किया जा सकता है। इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए ग्राहक का आधार नंबर एवम मोबाइल नंबर होना अनिवार्य है। ग्राहक का खाता बिना किसी दस्तावेज के दिए केवल बायोमेट्रिक के आधार पर तुरंत खुल जाता है एवं साथ ही साथ दुर्घटना बीमा का भी लाभ बिना किसी दस्तावेज जमा कराए लिया जा सकता है। प्रीमियम खाता में किसी भी प्रकार का डोर स्टेप चार्ज नहीं देना होगा, तथा इसके साथ ही बिजली बिल भुगतान और कैशबैक भी प्राप्त किया जा सकता है। घर बैठे आईपीपीबी एप के माध्यम से सुकन्या, पीपीएफ, आर डी, पीएलआई आदि का ऑनलाइन भुगतना भी संभव है। वाराणसी पूर्वी मंडल के प्रवर डाक अधीक्षक राजीव कुमार ने बताया कि इस दुर्घटना बीमा सुविधा में पंजीकरण के लिए लोग अपने इलाक़े के डाकिया या नजदीकी डाकघर में संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: गुरुवार को क्या कहते हैं आपके सितारे, पढ़ें मेष से लेकर मीन तक का हाल

स्वास्थ्य विभाग ने पंचायत घर के लिए आरक्षित जमीन पर कब्जा कर बना दिया स्वास्थ्य उपकेंद्र, पूर्व प्रधान व सचिव ने नहीं जताई कोई आपत्ति

वाराणसी: विकास खण्ड चिरईगांव के ग्रामपंचायत बराई में पंचायत घर के लिए आरक्षित आराजी नंबर 538 रकबा 0.80 एयर पर स्वास्थ्य उपकेंद्र बराई का भवन बन गया है। ग्राम पंचायत बराई में पंचायत भवन बनाने हेतु के चिन्हांकन एवं सीमांकन हेतु बुधवार को गांव में पहुंचे लेखपाल श्यामनंद सागर ने पैमाईश के दौरान बताया।


यह भी पढ़ें: यूपी बिहार के लोगों को मानसून के लिए करना होगा इतने दिनों तक इंतजार, IMD ने बताया समय

सहायक विकास अधिकारी पंचायत चिरईगांव कमलेश कुमार सिंह, पंचायत सचिव अलका शर्मा एवं ग्राम प्रधान बराई पंकज गिरी गांव में पंचायत भवन बनाने के लिए लेखपाल को आवंटित जमीन के चिन्हांकन एवं सीमांकन के लिए बुलवाया था। 

यह भी पढ़ें: गुरुवार को क्या कहते हैं आपके सितारे, पढ़ें मेष से लेकर मीन तक का हाल

लेखपाल ने जमीन को चिन्हित कर बता दिया। उक्त जमीन पर पहले से स्वास्थ्य उपकेंद्र बना है। लगभग तीन बिस्वा जमीन खाली है। उसी पर पंचायत भवन बनाने की बात सहायक विकास अधिकारी पंचायत ने ग्राम प्रधान और सचिव से कहा।

यह भी पढ़ें: VDA द्वारा भेलखा अठगावाँ वार्ड शिवपुर में स्वीकृत किया गया प्राइम सिटी का आवासीय लेआउट मानचित्र

उल्लेखनीय है कि स्वास्थ्य उपकेंद्र के लिए जमीन आवंटित हुए बिना स्वास्थ्य उपकेंद्र बन गया। इस पर तत्कालीन ग्राम प्रधान द्वारा कोई आपत्ति तक नही की गयी। अब पंचायत भवन बनाने हेतु जमीन की तलाश की जा रही है। गांव में पूरब तरफ स्वास्थ्य उपकेंद्र का भवन पूर्व में ही बना है। जो जर्जर स्थिति में पड़ा है।

यह भी पढ़ें: कुवैत अग्निकांड के बाद PM मोदी ऐक्शन में, भारतीयों की सहायता के लिए भेजा मंत्री को विदेश

यूपी बिहार के लोगों को मानसून के लिए करना होगा इतने दिनों तक इंतजार, IMD ने बताया समय

नई दिल्ली. देश में मानसून अब तेजी से आगे बढ़ रहा है. मानसून गुजरात के कुछ हिस्सों, महाराष्ट्र और तेलंगाना के कुछ और हिस्सों में आगे बढ़ गया है. मानसून की उत्तरी सीमा इस वक्त नवसारी, जलगांव, अकोला, पुसाद, रामागुंडम, सुकमा, मलकानगिरी, विजयनगरम और इस्लामपुर से होकर गुजर रही है. अगले 48 घंटों के दौरान तेलंगाना और छत्तीसगढ़ के कुछ और हिस्सों में मानसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां अनुकूल हैं. भारत मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक एक चक्रवाती परिसंचरण पूर्वोत्तर असम और पड़ोस पर स्थित है. बंगाल की खाड़ी से पूर्वोत्तर राज्यों तक तेज दक्षिण-पश्चिमी/दक्षिणी हवाएं चल रही हैं.




यह भी पढ़ें: गुरुवार को क्या कहते हैं आपके सितारे, पढ़ें मेष से लेकर मीन तक का हाल


भारत मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक इसके कारण अगले 7 दिनों के दौरान अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम में गरज, बिजली और तेज हवाओं (30-40 किमी प्रति घंटे) के साथ हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है. अगले 5 दिनों के दौरान गंगीय पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड, ओडिशा में गरज, बिजली और तेज हवाओं (30-40 किमी प्रति घंटे) के साथ छिटपुट से लेकर हल्की से मध्यम वर्षा होने की संभावना है और उसके बाद इसमें वृद्धि होगी. अगले 5 दिनों के दौरान मध्य प्रदेश, विदर्भ, छत्तीसगढ़ में गरज, बिजली और तेज हवाओं (40-60 किमी प्रति घंटे) के साथ छिटपुट से लेकर हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है.

यह भी पढ़ें: VDA द्वारा भेलखा अठगावाँ वार्ड शिवपुर में स्वीकृत किया गया प्राइम सिटी का आवासीय लेआउट मानचित्र

दिल्ली-पंजाब का मौसम
भारत मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक अगले 3 दिनों के दौरान कोंकण और गोवा, मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा, कर्नाटक, तेलंगाना, केरल और माहे, लक्षद्वीप में गरज, बिजली और तेज हवाओं (40-50 किमी प्रति घंटे) के साथ छिटपुट से लेकर काफी हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है. अगले 5 दिनों के दौरान तटीय आंध्र प्रदेश और यनम, रायलसीमा, तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है. आईएमडी के मुताबिक अगले 5 दिनों के दौरान उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा-चंडीगढ़-दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, जम्मू संभाग, पूर्वी मध्य प्रदेश, राजस्थान और ओडिशा के कुछ इलाकों में लू चलने की संभावना है.

यह भी पढ़ें: कुवैत अग्निकांड के बाद PM मोदी ऐक्शन में, भारतीयों की सहायता के लिए भेजा मंत्री को विदेश 

यूपी-बिहार का मौसम

11 से 14 जून के दौरान पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड के गंगा के मैदानी इलाकों के कुछ हिस्सों में लू से लेकर गंभीर लू की स्थिति और 15 जून को छिटपुट लू की स्थिति रहने की संभावना है. 12 से 15 जून के दौरान यूपी के कुछ हिस्सों में लू से लेकर गंभीर लू की स्थिति रहने की संभावना है. 

यह भी पढ़ें: नवीन पटनायक की जगह लेने वाले मोहन माझी पर BJP ने क्यों खेला दांव?

Tuesday, June 11, 2024

सड़क पर अतिक्रमण करने वालों की अब खैर नहीं, कमिश्नरेट पुलिस ने बनाई पुख्ता रणनीति, जानिये क्या है प्लान

वाराणसी: शहर में यातायात व्यवस्था को सुचारू करने पर पुलिस पूरा ध्यान दे रही है। इसी क्रम में थानों में तैनात 200 कांस्टेबल, हेड कांस्टेबल, दरोगा और इंस्पेक्टर को ट्रैफिक पुलिस में शिफ्ट करने का प्लान बनाया गया है। इसके लिए पुलिस कमिश्नर ने नाम मांगा है। यदि निर्धारित संख्या में नाम न आए तो पुलिस आयुक्त खुद पुलिसकर्मियों को चयनित कर ट्रैफिक पुलिस में शिफ्ट करेंगे। यह व्यवस्था जल्द अमल में लाई जाएगी। 


यह भी पढ़ें: जे एन तिवारी के नेतृत्व में मुख्यमंत्री से मिला राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद का प्रतिनिधिमंडल

पुलिस आयुक्त मोहित अग्रवाल का निर्देश है कि प्रत्येक थाने के 25 प्रतिशत पुलिस कर्मी रोजाना ट्रैफिक पुलिस के साथ समन्वय बनाकर यातायात व्यवस्था को बेहतर बनाएं। जाम की सूचना मिलने पर थानाध्यक्ष और चौकी प्रभारी भी मौके पर जाकर समस्या का समाधान कराएं। हालांकि ऐसा नहीं हो रहा है। ऐसे में पुलिस आयुक्त ने 200 पुलिसकर्मियों को ट्रैफिक पुलिस में शिफ्ट करने का निर्णय लिया है। 

यह भी पढ़ें: अर्शदीप सिंह पर विवादित बयान देने वाले पाकिस्तानी क्रिकेटर की हरभजन सिंह ने उतारी इज्जत, क्रिकेटर ने मांगी माफ़ी

पुलिस का मुख्य फोकस सड़क पर अतिक्रमण पर रहेगा। अतिक्रमण की वजह से अक्सर जाम की स्थिति पैदा होती है। ऐसे में यह सुनिश्चित किया जाएगा कि चौराहों-तिराहों और मुख्य मार्गों पर अतिक्रमण न हो। ठेला-पटरी दुकानदार, ऑटो व ई-रिक्शा अपनी निर्धारित जगह पर ही रहें। सड़क पर बेतरतीब तरीके से वाहन खड़े न होने पाएं। ताकि जाम की समस्या से निजात मिल सके।

यह भी पढ़ें: इन चार राशियों पर मेहरबान रहेंगे बजरंगबली, पढ़ें क्या कहते हैं आपके सितारे?

जे एन तिवारी के नेतृत्व में मुख्यमंत्री से मिला राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद का प्रतिनिधिमंडल

लखनऊ: राज्यकर्मचारी संयुक्त परिषद के चार सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने आज संयुक्त परिषद के अध्यक्ष जे एन  तिवारी के नेतृत्व में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ से पांच कालिदास मार्ग स्थित उनके आवास पर मुलाकात कर कर्मचारियों की प्रमुख मांगों से अवगत कराया। संयुक्त परिषद के प्रतिनिधि मंडल में अध्यक्ष  जे एन तिवारी, वरिष्ठ उपाध्यक्ष नारायण दुबे  के अलावा संयुक्त परिषद के उपाध्यक्ष त्रिलोकीनाथ चौरसिया भी थे। 


यह भी पढ़ें: अर्शदीप सिंह पर विवादित बयान देने वाले पाकिस्तानी क्रिकेटर की हरभजन सिंह ने उतारी इज्जत, क्रिकेटर ने मांगी माफ़ी

मुख्यमंत्री से मुलाकात के बाद संयुक्त परिषद की महामंत्री अरुणा शुक्ला ने एक प्रेस विज्ञप्ति में अवगत कराया है कि संयुक्त परिषद के अध्यक्ष ने कर्मचारियों की प्रमुख मांगों पर मुख्यमंत्री के साथ विस्तृत चर्चा किया। आउट सोर्स कर्मचारियों की न्यूनतम मजदूरी  निर्धारित करने की प्रक्रिया में बिलंब पर नाराजगी जाहिर करते हुए मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव से बात कर तत्काल कार्यवाही करने का आश्वासन दिया। 

उन संविदा कर्मचारियों को जिनकी नियुक्ति राज्य सरकार के अधीन विभिन्न कार्यालयों में विज्ञापित पद के सापेक्ष नियमानुसार चयन समिति गठन करके की गई है, उनके नियमितीकरण पर भी कार्यवाही के लिए मुख्यमंत्री से अनुरोध किया गया। नई पेंशन योजना में केंद्र सरकार द्वारा किए गए संशोधनों को उत्तर प्रदेश में लागू किए जाने पर भी अधिकारियों से बात करके कार्यवाही की जाएगी। 

यह भी पढ़ें: इन चार राशियों पर मेहरबान रहेंगे बजरंगबली, पढ़ें क्या कहते हैं आपके सितारे?

मुख्यमंत्री ने कहा विभिन्न विभागों में रिक्त पदों को भरने के लिए प्रत्येक माह समीक्षा कर समयबद्ध  कार्यवाही की जाएगी। महिलाओं की समस्याओं के बारे में भी विचार किया गया। महिला कल्याण एवं एनआरएचएम में कार्यरत संविदा कर्मियों के बारे में भी विभागीय अधिकारियों से वार्ता कर  कार्यवाही की जाएगी। आशा बहुओं को फिक्स मानदेय दिए जाने पर मुख्यमंत्री ने केंद्र सरकार के निर्देशों के अनुरूप कार्यवाही करने को कहा। महिलाओं के स्थानांतरण के संबंध में मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि गंभीर बीमारी से ग्रसित शिक्षकों के बच्चों एवं अन्य विशेष परिस्थितियों मे स्थानांतरण पर विचारकिया जाएगा। 

यह भी पढ़ें: 'द ट्रायल' फेम नूर मालाबिका दास ने पंखे से लटककर किया खुदखुशी 

मुख्यमंत्री ने अपेक्षा किया कि कर्मचारी मेहनत और लगन के साथ काम करेंगे। कर्मचारियों की समस्याओं का निदान सरकार समय-समय पर करती रहेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि कार्य के प्रति लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। कर्मचारियों की समस्याओं के समाधान में विलंब भी नहीं होगा। मुलाकात अत्यंत सौहार्द्य पूर्ण वातावरण में हुई। संयुक्त परिषद के अध्यक्ष जे एन तिवारी ने राज्यकर्मचारी संयुक्त परिषद द्वारा प्रकाशित पत्रिका "कहां आ गए हम" की एक प्रति मुख्यमंत्री को भेंट किया। 

यह भी पढ़ें: रामनगर पुलिस ने ट्रक चालक से 55 हजार रुपये लूटने वाले दो अभियुक्तों को किया गिरफ्तार

अर्शदीप सिंह पर विवादित बयान देने वाले पाकिस्तानी क्रिकेटर की हरभजन सिंह ने उतारी इज्जत, क्रिकेटर ने मांगी माफ़ी

नई दिल्ली: पाकिस्तानी क्रिकेटर कब किसे क्या बोल जाएंगे इसका उन्हें खुद पता नहीं होता है। अब पूर्व क्रिकेटर कामरान अकमल को ही ले लीजिए। उन्होंने भारतीय तेज गेंदबाज अर्शदीप सिंह के बारे में विवादास्पद टिप्पणी कर दी। इसके बाद हरभजन सिंह ने एक्स डॉट कॉम पर जब लताड़ लगाई और ट्रोलिंग शुरू हुई तो अकमल को सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी पड़ी है। यह वाकया तब हुआ जब भारतीय टीम ने पाकिस्तान को टी20 विश्व कप 2024 के एक अहम मुकाबले में 6 रनों से हरा दिया।


यह भी पढ़ें: इन चार राशियों पर मेहरबान रहेंगे बजरंगबली, पढ़ें क्या कहते हैं आपके सितारे?

कामरान अकमल ने अर्शदीप सिंह पर किया था विवादास्पद कॉमेंट
दरअसल, एक न्यूज़ चैनल पर एक पैनल के चर्चा के दौरान की गई अकमल के कॉमेंट अपमानजनक और अनुचित माना गया, जिसके कारण कड़ी प्रतिक्रियाएं मिलीं, खासकर भारत के पूर्व स्पिनर हरभजन सिंह की ओर से। भारत और पाकिस्तान के बीच खेले गए मैच के दौरान अर्शदीप के धर्म के बारे में अकमल ने विवादास्पद टिप्पणी की। अर्शदीप ने भारतीय पारी का अंतिम ओवर फेंका था, जिसमें उन्होंने 18 रन को डिफेंड किया था। इस पर हरभजन सिंह द्वारा रीपोस्ट किए गए एक वीडियो में अकमल ने कहते दिखे रहे हैं- कुछ भी हो सकता है... 12 बज गए हैं। ऐसा कहने के बाद वह तेज से ठहाका लगाने लगते हैं।

यह भी पढ़ें: 'द ट्रायल' फेम नूर मालाबिका दास ने पंखे से लटककर किया खुदखुशी 

माफी मांगते हुए कामरान अकमल ने ये लिखा
इस टिप्पणी को सिख समुदाय के प्रति अपमानजनक माना गया। इस प्रतिक्रिया के जवाब में अकमल ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर माफी मांगी। अकमल ने पोस्ट किया- मुझे अपनी हालिया टिप्पणियों पर गहरा खेद है और मैं हरभजन सिंह और सिख समुदाय से से माफी मांगता हूं। मेरे शब्द अनुचित और अपमानजनक थे। मैं दुनिया भर के सिखों का बहुत सम्मान करता हूं और मेरा कभी किसी को ठेस पहुंचाने का इरादा नहीं था। मैं सच में माफी चाहता हूं।

यह भी पढ़ें: रामनगर पुलिस ने ट्रक चालक से 55 हजार रुपये लूटने वाले दो अभियुक्तों को किया गिरफ्तार

Monday, June 10, 2024

रामनगर पुलिस ने ट्रक चालक से 55 हजार रुपये लूटने वाले दो अभियुक्तों को किया गिरफ्तार

वाराणसी: पुलिस आयुक्त द्वारा अपराधों की रोकथाम के मद्देनजर चोरी/लूट की घटनाओ के सफल अनावरण एवं वांछित/फरार अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु चलाये जा रहे अभियान के क्रम में पुलिस उपायुक्त काशी ज़ोन के निर्देशन मे अपर पुलिस उपायुक्त काशी ज़ोन के पर्यवेक्षण मे एवं सहायक पुलिस आयुक्त कोतवाली व प्रभारी निरीक्षक रामनगर के नेतृत्व में थाना रामनगर पुलिस टीम द्वारा मुखबिर की सूचना पर मु0अ0सं0- 97/2024, धारा 34, 395  भा0द0वि0 थाना रामनगर कमिश्नरेट वाराणसी से संबंधित वांछित अभियुक्तों हर्ष उर्फ गोलू यादव पुत्र बब्बू यादव निवासी जाल्हूपुर थाना चौबेपुर कमिश्नरेट वाराणसी उम्र 20 वर्ष तथा विकास यादव पुत्र स्व0 रामप्रकाश यादव निवासी ग्राम बरियासनपुर थाना चौबेपुर कमिश्नरेट वाराणसी उम्र 27 वर्ष को एक देशी तमंचा व 01 जिन्दा कारतूस के साथ उसके अपराध का बोध कराकर गिरफ्तारी बताकर दिनांक 10,06,2024स्थान- ढुंण्ढ़राज पुलिया के पास भीटी रामनगर वाराणसी से गिरफ्तार कर हिरासत पुलिस में लिया गया । अभियुक्त विकास यादव उपरोक्त के कब्जे से बरामद अवैध देशी तमंचा व कारतूस के सम्बन्ध में थाना रामनगर पर मु0अ0सं0- 0102/2024, धारा- 3/25 आर्म्स एक्ट बनाम विकास यादव पंजीकृत कर आवश्यक विधिक कार्यवाही की जा रही है।


यह भी पढ़ें: लखनऊ में 1100 घरों को तोड़ रहा बुलडोजर

दिनांक 29/05/2024 को वादी मुकदमा विरेन्द्र प्रताप यादव पुत्र धर्मदेव यादव निवासी ग्राम निहालापुर थाना केराकत जनपद जौनपुर के लिखित तहरीर जिसमें वादी मुकदमा द्वारा अंकित 28/29-05-24 की रात्रि में मेरा भान्जा जय सिंह यादव पुत्र इन्दल यादव निवासी भुडकी, थाना देवगाँव, जि0 आजमगढ़ मेरी ट्रक नं0 UP65DT2338 को लेकर घर से गिट्टी लाने के लिये सोनभद्र जा रहा था विश्वसुन्दरी पुल से उतरकर टेंगरा मोड़ के तरफ मिर्जापुर रोड़ पर मेरी गाड़ी को मोटर साइकिल सवार बदमाशो ने रोककर गाडी मे चढ़कर मेरे भान्जे जो गाड़ी चला रहा था पैन्ट के पाकेट में रखा हुआ 55000/रु ( पचपन हजार रु) जबरी छीन कर मिर्जापुर की तरफ भाग गये जिस गाड़ी से वे लोग आये थे उसका नं0 UP63K3036, स्पेलेन्डर प्लस था तथा एक बिना नं0 प्लेट की पल्सर गाड़ी थी  मेरा भान्जा गाड़ी लेकर सोनभद्र चला गया है । सूचना मिलने पर मेरे द्वारा थाना रामनगर वाराणसी पर उक्त घटना के सम्बन्ध में अभियोग पंजीकृत कराया गया।

यह भी पढ़ें: इस राशि के जातकों को मिल सकती है प्रेम में सफलता, पढ़ें दैनिक राशिफल

पूछताछ में अभियुक्त हर्ष उर्फ गोलू यादव पुत्र बब्बू यादव निवासी जाल्हूपुर थाना चौबेपुर कमिश्नरेट वाराणसी उम्र 20 वर्ष  पूछने पर बता रहा है कि साहब हम लोगों का 7 – 8 लोगों का एक ग्रुप है । शहर के विभिन्न् थाना क्षेत्र के हाईवे पर ट्रक रोककर व ट्रक सड़क के किनारे लगाकर सो रहे ट्रक चालकों से डरा धमकाकर रूपया आदि वस्तुओं को छीना / चुरा लिया जाता है। 

पूछताछ में दुसरे अभियुक्त विकास यादव पुत्र स्व0 रामप्रकाश यादव निवासी ग्राम बरियासनपुर थाना चौबेपुर कमिश्नरेट वाराणसी उम्र 27 वर्ष पूछने पर बताया कि साहब हम लोगों का 7 – 8 लोगों का एक ग्रुप है । शहर के विभिन्न् थाना क्षेत्र के हाईवे पर ट्रक रोककर व ट्रक सड़क के किनारे लगाकर सो रहे ट्रक चालकों को तमंचा के बल पर डरा धमकाकर रूपया आदि वस्तुओं को छीन लिया जाता है। उस घटना में जिस तमंचा से ट्रक चालक को डराया गया था यह वही तमंचा है।

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार 3.0 में 10 मंत्रियों के साथ टॉप पर यूपी

गिरफ्तारी करने वाली पुलिस टीम में उ0नि0 जय प्रकाश सिंह चौकी प्रभारी भीटी थाना रामनगर कमिश्नरेट वाराणसी, उ0नि0 अमित कुमार त्रिपाठी थाना रामनगर कमिश्नरेट वाराणसी, उ0नि0 रामवृक्ष थाना रामनगर कमिश्नरेट वाराणसी, हे0का0 महेन्द्र कुमार पाल थाना रामनगर कमिश्नरेट वाराणसी, हे0का0 रविन्द्र सिंह थाना रामनगर कमिश्नरेट वाराणसी, का0 अश्वनी सिंह सर्विलांस सेल कमिश्नरेट वाराणसी, का0 गौरव भारती थाना रामनगर कमिश्नरेट वाराणसी, का0 विष्णु प्रताप सिंह थाना रामनगर कमिश्नरेट वाराणसी शामिल थे।

यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश के सभी स्कूलों में होने जा रहा है यह नियम लागू, योगी सरकार ने कर ली पूरी तैयारी

लखनऊ में 1100 घरों को तोड़ रहा बुलडोजर

लखनऊ: अकबरनगर में 1100 घरों पर बुलडोजर चल रहा है। 6 पोकलैंड और 16 बुलडोजर से घर तोड़े जा रहे हैं। बैरिकेडिंग कर इलाके को सील कर दिया गया है। किसी तरह का हंगामा न हो, इसलिए PAC-RAF की 8 कंपनियां मौके पर तैनात हैं। दोपहर करीब साढ़े 12 बजे पहले शिफ्ट का अभियान रोक दिया गया। अब दोपहर 3 बजे से दोबारा शुरू किया जाएगा।


यह भी पढ़ें: इस राशि के जातकों को मिल सकती है प्रेम में सफलता, पढ़ें दैनिक राशिफल

लखनऊ विकास प्राधिकरण के अफसर सुबह 10 बजे अकबरनगर बुलडोजर और फोर्स लेकर पहुंचे। बुलडोजर को देखते ही लोग घरों का सामान समेटने लगे। प्रशासन ने सामान शिफ्ट करने के लिए फ्री में गाड़ियों की व्यवस्था की है। अफसरों का कहना है- इस बार अभियान दो शिफ्ट में चलेगा। इसमें 1100 से ज्यादा अवैध निर्माण ढहाए जाएंगे। लोगों को घर खाली करने के लिए चेतावनी दी गई थी, लेकिन कुछ लोगों ने खाली नहीं किया।

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार 3.0 में 10 मंत्रियों के साथ टॉप पर यूपी

क्यों हो रही कार्रवाई?

लखनऊ में कुकरैल नदी के किनारे अवैध तरीके से मकान बना लिए गए हैं। यहां पर कुकरैल रिवर फ्रंट विकसित किया जाना है। इसलिए लखनऊ विकास प्राधिकरण की तरफ से अवैध मकानों, दुकानों को तोड़ने की कार्रवाई की जा रही है। अकबरपुर एरिया में कुल 13 क्लस्टर बनाए गए हैं। एक-एक क्लस्टर को समतल कर यह कार्रवाई की जाएगी। अब तक 1700 लोगों को LDA ने आवास दिए हैं।

यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश के सभी स्कूलों में होने जा रहा है यह नियम लागू, योगी सरकार ने कर ली पूरी तैयारी