Latest News

Showing posts with label Health News. Show all posts
Showing posts with label Health News. Show all posts

Friday, May 24, 2024

नगर निगम में शुरू हुआ शक्ति रसोई, शुद्ध खाने की मिलेगी सुविधा

वाराणसी: नगर निगम के प्रधान कार्यालय, सिगरा के परिसर में कैन्टीन खोला गया है, जहाॅ पर हाइजनिक खाने के सुविधा प्राप्त होना शुरू हो गया है। नगर आयुक्त अक्षत वर्मा के द्वारा इस शक्ति रसोई का भ्रमण कर निरीक्षण किया गया। 


यह भी पढ़ें: नगर आयुक्त ने किया राजस्व एवं विधि विभाग का किया औचक निरीक्षण

नगर निगम के पूर्वी छोर पर परिसर के भीतर इसका निर्माण किया गया है, जिसे शक्ति रसोंई का नाम दिया गया है। यह रसोई प्रातः 9ः00 बजे से रात्रि 8ः00 बजे तक खुला रहेगा। इस रसोई में भारतीय/ दक्षिण भारतीय व्यंजन के साथ-साथ कई प्रकार के स्नैक्स एवं नाश्ता की सुविधा उपलब्ध है। नगर निगम परिसर में उच्च स्तर के कैन्टीन की मांग बहुत दिनों से की जा रही थी, जो अब पूर्ण हो गया है। 

यह भी पढ़ें: जागरूकता रैली में ग्राम रोजगार सेवकों ने बुलंद किया नारा, चुनाव नहीं मतदान करें नये भारत का निर्माण करें

आई0सी0आई0सी0आई0 बैंक के द्वारा सी0एस0आर0 के अन्तर्गत इस रसोई का निर्माण कराया गया है। इस कैन्टीन में विभिन्न प्रकार के नाश्ता एवं खाने का उत्तम प्रबन्ध किया गया है। इस रसोई में बनने वाले विभिन्न प्रकार के व्यंजन डूडा विभाग में पंजीकृत स्वंय सहायता समूह के महिलाओं के द्वारा किया जायेगा। 

नगर आयुक्त अक्षत वर्मा के द्वारा निरीक्षण में इस शक्ति रसोई के निर्धारित परिसर में उद्यान अधीक्षक को निर्देशित किया कि परिसर की साफ-सफाई कराकर अच्छे प्रकार के गमलों को सजाया जाय, तथा परिसर को आकर्षक विद्युत के झालरों से सजावट किया जाय। निरीक्षण के समय उपस्थित परियोजना अधिकारी डूडा निधि वाजपेयी को निर्देशित किया गया कि स्वंय सहायता समूह महिलाओं को व्यंजन के निर्माण एवं प्रोसेसिंग के सम्बन्ध में हाजनिक की ट्रेनिंग कराई जाय, जिससे गुणवत्ता उत्कृष्ट स्तर का हो। 

यह भी पढ़ें: नगर आयुक्त ने केबल ऑपरेटरों के साथ की बैठक, पोलो के तारों का होगा अलग डिजाइन

आई0सी0आई0सी0आई0 बैंक के रिजनल हेड को निर्देशित किया गया कि परिसर को आकर्षक ढंग से बनाने हेतु आर्किटेक्ट की मदद से आवश्यक कार्यवाही करायी जाय। निरीक्षण के समय परियोजना अधिकारी डूडा निधि वाजपेयी, उद्यान अधीक्षक के0एस0 पाण्डेय, सहायक अभियन्ता दिनेश प्रसाद, पी0आरओ0 संदीप श्रीवास्तव, डूडा विभाग के सुशील सिंह, अवर अभियन्ता, आलोक, आई0सी0आई0सी0आई0 बैंक के रिजनल हेड सौरभ श्रीवास्तव  एवं रिदीम श्याम आदि उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें: इस राशि सहित इन तीन जातकों को मिलेंगे नए मौके, पढ़ें मेष से लेकर मीन तक का हाल

Tuesday, May 21, 2024

नगर आयुक्त अक्षत वर्मा ने किया सफाई व्यवस्था का निरीक्षण

वाराणसी: दिनांक 21.05.2024 को नगर आयुक्त अक्षत वर्मा के द्वारा नगरीय क्षेत्र के साफ सफाई, स्ट्रीट स्विपिंग मशीन के कार्य एवम् कूड़ा घर पर कूड़ा विलोपित किए जाने के संदर्भ में निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने निम्न निर्देश दिए गए।


यह भी पढ़ें: लोकसभा सामान्य निर्वाचन-2024 के संबंध में प्रत्याशियों के साथ प्रेक्षकों की बैठक संपन्न

1- तरना फ्लाई ओवर के नीचे एवम् सेंट्रल जेल रोड पर स्ट्रीट स्विपिंग मशीन के चल रहे कार्यों का मौके पर निरीक्षण किया  गया। इसे लगातार शहर के सभी मार्गो पर चलाए जाने के निर्देश दिए गए। जिससे सड़को पर धूल ना उड़े।

2- शिवपुर स्वास्थ्य केंद्र स्थित कूड़ा घर का मौके पर निरीक्षण किया गया निरीक्षण के दौरान उक्त कूड़ा घर का टूटे फूटे पिलर, फर्स का मरम्मत कराए जाने एवम् उक्त स्थल पर एक बोरिंग कराए जाने के साथ उक्त कूड़ा घर में कूड़े के निस्तारण के समय धूल ना उड़े इस हेतु कूड़ा घर के टीन शेड के ऊपर आगे की तरफ एवम् आवश्यकतानुसार तीन शेड के अंदर वाटर स्पिंकलर (मिस्टगन) लगाए जाने के निर्देश दिए गए ।

3- उक्त कूड़ा घर पर कंपैक्टर मशीन लगाए जाने हेतु स्मार्ट सिटी के अकील मोबाइल नंबर 9648297222 से समन्वय स्थापित करते हुए लगाए जाने के निर्देश दिए गए।

यह भी पढ़ें: इन तीन राशि के जातकों के लिए टेंशन भरा रहेगा मंगलवार, जानें क्या कहते हैं सभी राशियों के सितारे

4- बिलवैरो से उठाए जाने हेतु आने वाले संसाधन जैसे:- ग्रीन नेट कितने फिट की आवश्यकता है आदि के संदर्भ में क्रय किए जाने हेतु प्रपोजल बनाकर प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए ।

5- निरीक्षण के दौरान यह देखने को मिला कि उक्त कूड़ा घर पर आने वाले कूड़े के साथ C&D West भी लाया जाता है  इस संदर्भ में डोर टू डोर वेस्ट सॉल्यूशन के अनुज भाटी, प्रोजेक्ट हेड द्वारा अवगत कराया गया कि इसे C&D West वालो द्वारा मलवे को नहीं लेजाते हैं। इस संदर्भ में अधोहस्ताक्षरी द्वारा निर्देश दिए गए कि shri. Vipin Kumar Manager C&D Waste मोबाइल नंबर 096508 92193, इन्डो इंवायरो इंट्रीग्रेटेड सॉल्यूशन द्वारा नगरीय क्षेत्र के सभी कूड़ा घर से संबंधित सफाई एवम् खाद्य निरीक्षक से समन्वय स्थापित करते हुए कूड़े से C&D West को अलग कर उठाए जाने हेतु किए गए एग्रीमेंट के आधार पर पर उठाए जाने के निर्देश दिए गए।

6- शत्रुंजय श्रीवास्तव, सफाई एवम् खाद्य निरीक्षक द्वारा अवगत कराया गया कि हमारे वार्ड में सफाई कर्मचारी की कमी है इस पर अधोहस्ताक्षरी द्वारा निर्देश दिए गए कि विस्तारित एरिया /वार्ड  का सभी जोनल अधिकारियों द्वारा अपने अपने वार्ड का सफाई व्यवस्था हेतु सफाई कर्मचारियों की यदि कमी वास्तव में हो तो वार्ड जोनल अधिकारी में माध्यम से सत्यापन के आधार पर प्रस्ताव प्रस्तुत किए जाने के निर्देश दिए गए।

यह भी पढ़ें: Rajasthan Board 12th Result 2024: राजस्थान बोर्ड 12वीं रिजल्ट में किसने किया टॉप? यहां देखें लेटेस्ट अपडेट

7- इसी क्रम में सभी कूड़ा घर के कंपाउंड में पौध रोपड़ (जैसे:- कदम का पेड़, बोगन बेलिया) कराए जाने के निर्देश दिए गए।

8- इसके उपरान्त निरीक्षण के दौरान उक्त क्षेत्र के कादीपुर एवम् कुन्दन नगर कॉलोनी शिवपुर का मार्ग  क्षतिग्रस्त हैं एवम् उक्त कॉलोनी के दो पार्क के सौंदयीकरण 15वां वित्त से कराए जाने के निर्देश दिए गए।

9- इसी क्रम में दीनदयाल हॉस्पिटल पाण्डेयपुर के पास के कूड़ा निस्तारण केंद्र का निरीक्षण किया गया निरीक्षण के दौरान 2 कंपैक्टर मशीन बेतरतीब तरीके से रखे गए हैं इस मशीन में लाइट लगवाकर इसे चालू किए जाने के निर्देश दिए गए।

यह भी पढ़ें: पुलिस आयुक्त मोहित अग्रवाल ने किया पहड़िया मंडी स्थित स्ट्रांग रूम 

10- दीनदयाल कूड़ा निस्तारण केंद्र भवन का मरम्मत एवम् टीन शेड का कार्य कराए जाने साथ ही उक्त स्थल के पास स्टॉफ रूम को भी ठीक कराए जाने के निर्देश दिए गए।

11- इसी क्रम में काशी विद्यापीठ मलदहिया फूल मंडी के पास के कूड़ा घर का निरीक्षण किया गया निरीक्षण के दौरान कूड़े को समय समय पर निस्तार करते रहें कूड़ा किसी भी अभाव में डंप ना हो।

निरीक्षण के दौरान मुख्य अभियन्ता मोइनुद्दीन, वाराणसी वेस्ट मैनेजमेंट के प्रबंधक अनुज भाटी उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें: आगरा में आग उगल रहा सूरज, कानपुर बना प्रदेश का सबसे गर्म शहर, जानिए आज कैसा रहेगा उत्तर प्रदेश का मौसम

Sunday, May 19, 2024

आगरा में आग उगल रहा सूरज, कानपुर बना प्रदेश का सबसे गर्म शहर, जानिए आज कैसा रहेगा उत्तर प्रदेश का मौसम

लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश में मौसम ने एक बार फिर करवट बदली है। बीते कई दिनों से तापमान में कमी देखी जा रही थी लेकिन अब फ‍िर से तापमान ने अपने तेवर दिखाने शुरू कर दिए हैं। आने वाले चार-पांच दिनों में तापमान 45 पार जा सकता है। आइए जानते हैं कि आज रविवार को यूपी का मौसम कैसा रहेगा।


यह भी पढ़ें: सीएम केजरीवाल आज बड़े नेताओं, विधायकों और सांसदों के साथ बीजेपी दफ्तर पहुंचेंगे

आग उगल रहा सूरज, न दिन में चैन न रात में आराम

आगरा में सूरज के तेवरों ने जिले में लोगों को बेहाल कर दिया है। अधिकतम तापमान शनिवार को 46.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो शुक्रवार के 46.9 डिग्री सेल्सियस से थोड़ा ही कम था। सूरज के लगातार आग बरसाने से लोगों को न तो दिन में चैन मिल रहा है और न रात में आराम। दोपहर में लू चलने से शहरवासी बेहाल रहे।

मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि 21 मई तक लू का प्रकोप शहरवासियों को झेलना होगा। आगामी सप्ताह में गर्मी से राहत मिलने के आसार नजर नहीं आ रहे हैं। शनिवार को सुबह से ही सूरज के तेवर तीखे नजर आए। दिन चढ़ने के साथ धूप भी तेज होती गई। सुबह का तापमान 27.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्य तापमान से 1.9 डिग्री सेल्सियस अधिक था।

यह भी पढ़ें: ई-रिक्शा, टैम्पो का अवैध पर्ची काटते नगर आयुक्त ने पकड़ा रंगे हांथ, दो स्टैंडो की जांच में पायी गई अनियमितता

आगरा प्रदेश के जिलों में दूसरे नंबर पर रहा। सर्वाधिक गरम शहर कानपुर (46.9 डिग्री सेल्सियस) रहा। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि आगामी सप्ताह में शहरवासियों को गर्मी से राहत मिलने की उम्मीद बहुत कम है। 21 मई तक दोपहर में लू का सामना शहरवासियों को करना पड़ेगा। अधिकतम तापमान 44 से 46 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 28 से 29 डिग्री सेल्सियस के बीच रहेगा।

पारा पहुंचा 42 डिग्री सेल्सियस के पार

बरेली में शनिवार को जिले का तापमान 42.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जो सामान्य से चार डिग्री अधिक था। ऐसा सिर्फ शनिवार को नहीं बल्कि इससे ज्यादा तापमान आगामी दिनों में होने की पूरी संभावना है। यह बात मौसम विभाग के आंकड़े बता रहे हैं।

यह भी पढ़ें: कार्डियोलॉजिस्ट प्रो ओमशंकर के अनशन को ऑल इंडिया प्रोफेशनल कांग्रेस और एनएसयूआइ ने दिया समर्थन

इतने अधिक तापमान में लोगों को लू लगना, डिहाइड्रेशन जैसी तमाम समस्याएं हो सकती है। कई बार लोगों की जान भी इससे चली जाती है। इससे बचने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है कि लोगों को अपना सिर को धूप से बचाकर रखना चाहिए। अगर सिर धूप से बचा रहा तो लू लगने की संभावना काफी कम हो जाएगी।

जिला अस्पताल के वरिष्ठ फिजिशियन डा. अजय मोहन अग्रवाल बताते हैं कि हमारे शरीर का तापमान 37 डिग्री सेल्सियस होता है। यदि यह इससे ज्यादा होता है तो समस्या शुरू हो जाती है। पूरे शरीर के अंग अधिक तापमान की वजह से प्रभावित होना शुरू हो जाते है। समय पर तापमान को कम नहीं किया गया तो मनुष्य की मृत्यु भी हो सकती है।

गर्मियों में धूप की वजह से शरीर का तापमान का बढ़ने लगता है। जिस वजह से चक्कर आना, बेहोशी होना जैसी समस्याएं होती है। इसी को लू लगना कहा जाता है। लू क्यों लगती है सवाल पर डाक्टर अजय मोहन बताते हैं कि हमारे दिमाग में हाइपोथैलेमस होता है। इसे दिमाग का ही एक पार्ट कहा जाता है। इसका काम होता है शरीर के तापमान को नियंत्रित करना।

चाहें कितनी भी सर्दी हो या कितनी भी गर्मी जब तक हमारा हाइपोथैलेमस सही से काम करता रहेगा तब तक शरीर का तापमान 37 डिग्री सेल्सियस बना रहेगा। सिर पर अधिक लगने की वजह से कई बार हाइपोथैलेमस गड़बड़ा जाता है। दिमाग से उसका नियंत्रण हटने लगता है और फिर शरीर का तापमान बढ़ना शुरू हो जाता है। जब शरीर का तापमान बढ़ता है तो लू लगती है।

इसलिए कहा जाता है कि तेज धूप में बाहर निकलने से पहले सिर को ढक कर चलें। क्योंकि अगर तेज धूप लगने से हाइपोथैलेमस में दिक्कत आई तो लू लगना लगभग तय है।

लू से बचने के लिए क्या करें

  • तेज धूप में घर से बाहर न निकलें, खासकर दोपहर 12 बजे से दोपहर तीन बजे तक
  • बिना प्यास लगने पर भी पानी पीते रहें
  • हल्के रंग के ढीले और सूती कपड़े पहने
  • धूप का चश्मा जूते चप्पल पहनकर निकले
  • शराब, चाय, काफी जैसे पेय पदार्थाें का इस्तेमाल न करें
  • बाहर निकले तो टोपी, गमझा या छाते का इस्तेमाल करें
  • गीले कपड़े को अपने सिर, गदर्न और चेहरे पर रखें
  • तबीयत ठीक नहीं लगने या फिर चक्कर आने पर डाक्टर से संपर्क करें

गोरखपुर में 21 से छाएंगे बादल

गोरखपुर में बीते चार दिन से पड़ रही भीषण गर्मी ने गोरखपुर और आसपास के क्षेत्र में रहने वाले लोगों का जीवन दूभर कर दिया है। पर इस बीच राहत की खबर यह है कि 21 मई से बादलों के छाने और कुछ स्थानों पर गरज-चमक के साथ वर्षा होने की वायुमंडलीय परिस्थितियां बन गई हैं। इसके लिए जम्मू-कश्मीर के ऊपर पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो गया है।

गोरखपुर में रविवार को मौसम पूरी तरह साफ रहेगा। तापमान में बढ़ोतरी दर्ज की जाएगी। देवरिया और बस्ती में छिटपुट बादल छाए रहने के बावजूद भीषण गर्मी पड़ने का पूर्वानुमान है। मेरठ में मौसम विभाग के अनुसार गर्मी का प्रकोप बना रहेगा। इसके अलावा आर्द्रता 24 प्रतिशत रहेगी।

कानपुर में 29 साल बाद प्रचंड गर्मी का रिकार्ड

कानपुर में बढ़ती गर्मी ने शनिवार को 29 साल का रिकार्ड तोड़ दिया। 1995 के बाद पहली बार 18 मई को दिन का तापमान 44.8 डिग्री पर पहुंचा है। एयरफोर्स स्टेशन पर तो तापमान 46.9 डिग्री दर्ज किया गया है। तापमान में पिछले पांच दिन से हो रही अप्रत्याशित वृद्धि से मौसम विज्ञानी भी हैरत में हैं। 25 मई से शुरू हो रहे नौतपा तक तापमान में राहत की उम्मीद भी नहीं दिख रही है।

सीजन का सबसे गर्म दिन, 45.4 डिग्री पहुंचा पारा

प्रयागराज में लू के थपेड़ों ने प्रयागराज का पारा सातवें आसमान पर चढ़ा दिया। धधकते सूरज के कारण आसमान से ऐसी आग बरसी की लोगों का चेहरा झुलसने लगा। सड़कों पर पैदल चलने वालों के जूते गर्म हो गए और डामर की सड़कें नर्म पड़ गईं।

सड़कों पर सन्नाटा पसर गया और बाइक सवारों ने गर्मी से बचने के लिए रेड लाइट तक की परवाह नहीं की। शनिवार को सीजन का सबसे गर्म दिन रहा तो रात भी सीजन में सबसे ज्यादा तपी। अधिकतम तापमान 45 डिग्री सेल्सियस के पार पहुंच गया।

यह भी पढ़ें: कैंसर की बीमारी से बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील मोदी का निधन, लंबे समय से थे बीमार

प्रचंड गर्मी का अलर्ट, तापमान 44 के निकट पहुंचा

वाराणसी में सूरज की तल्खी लोगों का पसीना छुड़ा रही है। धूप में बाहर निकलना मुश्किल हो गया है। शनिवार को गर्मी अधिक बढ़ गई। अधिकतम तापमान 43.8 डिग्री जबकि न्यूनतम तापमान 27.5 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। गर्मी के चलते हर कोई परेशान हो उठा।

मौसम विभाग की मानें तो अगले कुछ दिनों में गर्मी और बढ़ेगी। 18, 19 20 मई को प्रचंड गर्मी का अलर्ट जारी हुआ है। तीन हीट वेव के चलते लोगों को परेशानी होगी। तापमान 45 डिग्री से पार होने की संभावना है। 25 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से हवा चलेगी।

मौसम विज्ञानी और बीएचयू जीओ फिजिक्स विभाग के पूर्व प्रोफेसर सुरेन्द्र नाथ पांडेय ने बताया कि गर्मी में हर दिन वृद्धि होगी। मौसम साफ रहेगा लेकिन गर्म हवा से लोगोें को परेशानी होगी।

यह भी पढ़ें: कालभैरव का आशीर्वाद लेकर पुष्य नक्षत्र में नामांकन करेंगे पीएम 

Tuesday, May 7, 2024

वीडीए कार्यालय में लगा स्वास्थ्य शिविर, सौ से अधिक कर्मियों की हुई स्क्रीनिंग

वाराणसी: कचहरी स्थित वाराणसी विकास प्राधिकरण (वीडीए) कार्यालय में सोमवार को स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया। 


यह भी पढ़ें: प्रमुख सचिव स्वास्थ्य ने एनक्वास सर्टिफाइड सीएचसी चोलापुर के अधीक्षक डॉ आरबी यादव को किया सम्मानित

शिविर में करीब 118 कर्मियों का पंजीकरण हुआ, जिसमें 102 लोगों की जांच हुई। इसमें 30 कर्मियों का ईसीजी किया गया। इस दौरान गंभीर रोगियों को निराकरण किया गया साथ ही आवश्यक दवाएं व परामर्श भी दिया गया। 

यह भी पढ़ें: रायबरेली से 'नकली' गांधी परिवार की विदाई तय- दिनेश प्रताप सिंह

इसके अलावा शिविर में उच्च रक्तचाप समेत पैथोलॉजी जांच जैसे शुगर, आरबीएस, एलएफ़टी, केएफ़टी आदि की भी सेवाएं प्रदान की गईं। शिविर में तम्बाकू रोकथाम, हीटवेव से बचाव आदि संक्रमित बीमारियों के लिए आवश्यक परामर्श व दवाएं भी दी गईं। 

यह भी पढ़ें: इन चार राशियों के लिए बेहतरीन रहेगा सोमवार, बरसेगी भोले नाथ की कृपा

इस दौरान सीएमओ डॉ संदीप चौधरी, अधीक्षक डॉ मनोज कुमार दुबे व उनकी समस्त टीम, नगरीय स्वास्थ्य समन्वयक आशीष सिंह, गैर संचारी रोग (एनसीडी) टीम, तम्बाकू नियंत्रण काउंसलर अजय श्रीवास्तव एवं सोशल वर्कर संगीता सिंह उपस्थित रहीं।

यह भी पढ़ें: BHU सर सुंदरलाल अस्पताल में बैग ले जाने पर रोक, चोरी हो रहे मेडिकल उपकरण

Monday, May 6, 2024

प्रमुख सचिव स्वास्थ्य ने एनक्वास सर्टिफाइड सीएचसी चोलापुर के अधीक्षक डॉ आरबी यादव को किया सम्मानित

वाराणसी: पार्थ सारथी सेन शर्मा (आईएएस), प्रमुख सचिव स्वास्थ्य (उत्तर प्रदेश) ने सोमवार को जनपद के मिनी सरकारी चिकित्सालय एवं नेशनल क्वालिटी एश्योरेंस स्टैंडर्ड (एनक्वास) सर्टिफाइड सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चोलापुर के अधीक्षक डॉ आर बी यादव को पत्र भेजकर सम्मानित किया। 


यह भी पढ़ें: रायबरेली से 'नकली' गांधी परिवार की विदाई तय- दिनेश प्रताप सिंह

प्रमुख सचिव ने अपने पत्र में जिक्र किया है कि यह अत्यन्त हर्ष का विषय है कि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार के 'नेशनल क्वालिटी एश्योरेंस स्टैंडर्ड (एनक्वास) कार्यक्रम के अन्तर्गत 'सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र चोलापुर ने वर्ष 2023-24 में 82.7 प्रतिशत अंक प्राप्त कर 'नेशनल क्वालिटी एश्योरेंस एवं मुस्कान सर्टिफिकेशन’ प्राप्त करने का गौरव प्राप्त किया है, जिससे स्पष्ट है कि हमारा स्वास्थ्य विभाग नित नई उपलब्धियां प्राप्त करने के लिए अग्रसर है। इस सर्टिफिकेशन के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र चोलापुर के अधीक्षक डॉ आरबी यादव एवं समस्त स्टॉफ के अग्रणी प्रयासों की बेहद प्रशंसा की जाती है। साथ ही आशा की है कि आप एवं आपकी टीम भविष्य में भी कार्यों में और अधिक नवीनता लाने का प्रयास करेंगे, जिससे प्रदेश एवं देश में स्वास्थ्य विभाग की छवि और निखरेगी। उन्होंने पूर्ण विश्वास जताया कि अधीक्षक के सतत् प्रयास से आपकी टीम भविष्य में उच्चकोटि की गुणवत्तापूर्ण चिकित्सा सेवायें प्रदान करने में निरन्तरता बनाये रखेगी। इस उपलब्धि के लिए उन्होंने अधीक्षक एवं समस्त टीम को बधाई और हार्दिक शुभकामनायें दी।

यह भी पढ़ें: इन चार राशियों के लिए बेहतरीन रहेगा सोमवार, बरसेगी भोले नाथ की कृपा

इसके अलावा मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ संदीप चौधरी समेत सभी डिप्टी सीएमओ, एसीएमओ, जिला कार्यक्रम प्रबन्धक एवं अन्य अधिकारियों ने सीएचसी चोलापुर के अधीक्षक और उनकी टीम को शुभकमनाएं दी। सीएचसी के डॉ संतोष सिंह यादव, डॉ आकांक्षा सिंह, डॉ गायत्री, डॉ अमित जैन, फार्मासिस्ट जितेंद्र यादव एवं अन्य स्टाफ ने भी अधीक्षक को शुभकामनाएं दी। 

यह भी पढ़ें: BHU सर सुंदरलाल अस्पताल में बैग ले जाने पर रोक, चोरी हो रहे मेडिकल उपकरण

अधीक्षक डॉ आर बी यादव ने प्रशस्ति पत्र पाकर प्रसन्नता जाहिर करते हुए कहा कि चिकित्सालय में आने वाले सभी मरीजों को उच्च स्तर की सभी सुविधाएं दी जा रही हैं और भविष्य में भी इसी प्रकार की बेहतर सुविधाएं प्रदान की जाएंगी, जिसके लिए हम सभी लोग कटिबद्ध हैं। उन्होंने बताया कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चोलापुर में 24 घंटे सातों दिन प्रसव की सुविधा, मरीज को भर्ती कर इलाज की सुविधा, इमरजेंसी, ब्लड बैंक, पैथोलॉजी, टेली-मेडिसिन, फार्मेसी, एक्स-रे, ऑपरेशन एवं वरिष्ठ चिकित्सकों के द्वारा ओपीडी की सुविधा प्रतिदिन दी जाती है। ओपीडी में आने वाले मरीजों की पैथोलॉजी की सभी जांचों की रिपोर्ट ‘लैब मित्रा’ एप के माध्यम से मोबाइल पर ही एसएमएस के जरिये भेजी जा रही है जिसका फायदा उन्हें मिल रहा है। रिपोर्ट के लिए बार-बार चिकित्सालय का चक्कर नहीं लगाना पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें: मंडलीय हॉस्पिटल के मरीजों को भी काशी विश्वनाथ मंदिर न्यास के ओर से कराया जाएगा भोजन

Wednesday, May 1, 2024

एम्बुलेंस अधिकारियों ने एम्बुलेंस किया अकास्मिक निरीक्षण

वाराणसी: जिले में चल रहे 108/102 एम्बुलेंस सेवा के आर. एम. सुमीत कुमार दुबे तथा तथा जिला प्रभारी विकास तिवारी ने सीएचसी चिरईगांव और दीन दयाल अस्पताल के एंबुलेंस का रात में अकास्मिक निरीक्षण किया। जिसमे 108 का हॉटस्पॉट चेक किया जिसमे सभी एंबुलेंस हॉट स्पॉट पर मिली।


  
साथ ही एंबुलेंस में उपलब्ध दवा और उपकरण को भी चेक किया गया जिसमे सभी उपलब्ध पाए गए. उत्तर प्रदेश की मुहिम सड़क सुरक्षा के लिए जो भी ब्लॉक स्पॉट निर्धारित किए गए हैं वहा पर सभी एंबुलेंस का हॉट स्पॉट बन गया है जिससे कोई भी इमरजेंसी होने पर एंबुलेंस वहा जल्दी जल्दी पहुंच सके।


गर्मी के दिन में आम जनमानस के लिए जीवन रक्षक साबित हो रही है 102 और 108 एम्बुलेंस आम जनमानस की देखभाल करते हुए सुरक्षित हॉस्पिटल पहुंचा रहे हैं एंबुलेंस कर्मचारी जिला प्रभारी विकास तिवारी ने सभी ईएमटी पायलटों को निर्देश दिया है कि आम जनमानस को आप लोग बेहतर से बेहतर सेवा दें।

Monday, April 29, 2024

सीएचओ ने फाइलेरिया ग्रसित रोगियों को साफ-सफाई व देखभाल के तरीके बताए

वाराणसी: फाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम के तहत सोमवार को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) चोलापुर के आयुष्मान आरोग्य मंदिर धरसौना में फाइलेरिया (हाथी पांव) से ग्रसित 15 रोगियों को रुग्णता प्रबंधन व दिव्यांग्ता रोकथाम (एमएमडीपी) किट और आवश्यक दवा प्रदान की गई। सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी (सीएचओ) अंकित सरन ने सभी रोगियों को घाव की नियमित सफाई के तरीके, योगा व सामान्य व्यायाम के बारे में बताया। यह कार्यक्रम स्वास्थ्य विभाग तत्वावधान में सीफार संस्था के सहयोग से आयोजित किया गया। 


यह भी पढ़ें: अधिवक्ता ने दुकानदार पर मारपीट कर छ हजार रुपए लूटने के बाबत दी तहरीर

सीएचओ अंकित सरन ने सभी रोगियों को एमएमडीपी किट के बारे में प्रशिक्षित किया। उन्होंने बताया कि फाइलेरिया ग्रस्त अंगों मुख्यतः पैर की साफ-सफाई रखने से संक्रमण का डर नहीं रहता है और सूजन में भी कमी रहती है। इसके प्रति लापरवाही बरतने पर अंग खराब होने लगते हैं। इससे समस्या बढ़ जाती है। संक्रमण को बढ़ने से रोकने के लिए दवा भी दी जा रही है। उन्होंने बताया कि जिनके हाथ-पैर में सूजन आ गई है या फिर उनके फाइलेरिया ग्रस्त अंगों से पानी का रिसाव होता है। इस स्थिति में उनके प्रभावित अंगों की साफ-सफाई बेहद आवश्यक है। इसलिए एमएमडीपी किट प्रदान की जा रही है। इस किट में एक-एक टब, मग, बाल्टी तौलिया, साबुन, एंटी फंगल क्रीम आदि शामिल हैं। पेशेंट प्लेटफॉर्म के सदस्य समुदाय को फाइलेरिया के प्रति जागरूक कर रहे हैं। साथ ही बीमारी से जुड़े मिथक को भी दूर कर रहे हैं। 

यह भी पढ़ें: कुकी उग्रवादियों ने किया CRPF बटालियन पर हमला, दो जवान शहीद

वरिष्ठ मलेरिया निरीक्षक अजय कुमार सिंह ने सभी आशा कार्यकर्ताओं और संगिनी को फाइलेरिया (हाथ-पैरों में सूजन और अंडकोषों में सूजन) के कारण, लक्षण, पहचान, जांच, उपचार व बचाव आदि के बारे में विस्तार से बताया। फाइलेरिया की सभी ग्रेडिंग (हाथ-पैरों में सूजन व घाव की स्थिति) के बारे में जानकारी दी। एमएमडीपी किट को हाथीपांव ग्रसित रोगियों के उपयोग के बारे में बताया।

यह भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव में राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के माध्यम से चलाया जा रहा है मतदाता जागरूकता अभियान

ग्राम धरसौना में बने पेशेंट प्लेटफॉर्म की सदस्य गुलाबी देवी (48) ने बताया कि वह लगभग 15 वर्ष से हाथीपांव बीमारी से ग्रसित हैं। उन्होंने कई वर्षों तक इलाज कराया, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। अब प्लेटफॉर्म के साथ जुड़कर डॉक्टर से इसकी देखभाल के लिये सम्पूर्ण जानकारी मिली, जिससे वह अपने सूजे हुये पैरों की नियमित देखभाल कर रही हैं। अन्य सदस्य छीन्नु (62) ने बताया कि वह करीब 22 साल से फाइलेरिया हाथीपांव से ग्रसित हैं। कई वर्षों तक उपचार कराया, दवा भी खाई लेकिन आराम नहीं मिला। 

यह भी पढ़ें: थाने की कार ने घर के बाहर सो रही महिला को कुचला, मौत 

प्लेटफॉर्म के साथ जुड़ने के बाद फाइलेरिया के बारे में सम्पूर्ण जानकारी मिली। अब वह किट के जरिये  अपने सूजे हुये पैरों की साफ-सफाई और देखभाल करती हैं। साथ ही योगा व सामान्य व्यायाम भी कर रही हैं। इसके अलावा समुदाय में फाइलेरिया से बचाव के बारे में जागरूक भी कर रहे हैं। इस मौके पर हेल्थ सुपरवाइज़र दुर्गेश रावत, हेल्थ विजिटर गिरजा पाण्डेय, एएनएम अर्चना सिंह, आशा कार्यकर्ता, सीफार के जिला प्रतिनिधि एवं अन्य लोग उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें: आंसर शीट में 'जय राम जी' लिखने वाला हुआ पास, RTI में खुलासे के बाद प्रोफेसर पर एक्शन

Thursday, April 25, 2024

जीवन रक्षक साबित हो रही हैं 102/108 एंबुलेंस

वाराणसी: गर्मी के दिन में आम जन मानस के लिए जीवन रक्षक साबित हो रही हैं 102/108 एंबुलेंस। 



आम जन मानस कि देखभाल करते हुए सुरक्षित हॉस्पिटल पहुंचा रहे एंबुलेंस कर्मचारी। 


जिला प्रभारी अंकुश शुक्ला ने सख्त आदेश दिया है कि किसी भी कीमत पर आम जनमानस को कोई दिक्कत ना हो और उनको बेहतर से बेहतर सेवा दी जाय।

Wednesday, April 17, 2024

सीडीओ हिमांशु नागपाल ने पिंडरा स्वास्थ्य केंद्र का किया निरीक्षण, मिली अनियमितताओं पर मांगी रिपोर्ट

वाराणसी: मुख्य विकास अधिकारी हिमांशु नागपाल द्वारा दिनांक 17 अप्रैल 2024 को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पिंडरा का आकस्मिक निरीक्षण किया। 


यह भी पढ़ें: बभनपुरा ग्राम सभा में डॉ. अंबेडकर की मूर्ति स्थापित कर चुनाव आचार संहिता का खुलेआम उल्लंघन, स्थानीय पुलिस छिपाने में जुटी

निरीक्षण के समय जीवन रक्षक महत्वपूर्ण दवाइयां दवा स्टोर रूम में न रखकर एक कमरे में बेतरतीब ढंग से जमीन पर रखी पाई गई, दवाइओ का अंकन स्टॉक रजिस्टर में नहीं पाया गया। 

यह भी पढ़ें: घर के बाहर फायरिंग पर सलमान के पिता सलीम खान ने तोड़ी चुप्पी, कहा- उन्हें सिर्फ पब्लिसिटी चाहिए

जांच हेतु आवश्यक किट उपलब्ध नहीं पाया गया। जीवन रक्षक दवाइयां एवं अन्य करण हेतु जिले से प्राप्त फंड के संबंध में एमएमओआईसी पिंडरा द्वारा कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया गया। स्वास्थ्य केंद्र में अव्यवस्था के संबंध में एमओआईसी को फटकार लगाई गई। 

यह भी पढ़ें: लंका पुलिस ने स्टिंग ऑपरेशन की धमकी देकर गुजरने वाले वाहनों और पुलिस कर्मियों को लूटने वाले फर्जी पत्रकारों को किया गिरफ्तार

मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देशित किया गया कि टीम गठित कर जनपद स्तर से एमओआईसी पिंडरा को प्राप्त फंड के उपयोग की जांच कर रिपोर्ट एक सप्ताह के भीतर प्रस्तुत करना सुनिश्चित करेंगे।

यह भी पढ़ें: तीन समाचार पत्र विक्रेताओं को तेज रफ्तार कार ने कुचला, दो की मौत, एक की हालत गंभीर 

Friday, April 12, 2024

EMRI ग्रीन हेल्थ सर्विस 108 तथा 102 एंबुलेंस के जिला प्रभारी अंकुश शुक्ला ने स्टाफ को त्वरित कार्य के लिए दिया निर्देश

वाराणसी: उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से आम जन मानस को पहुचाई जाने वाले निःशुल्क एम्बुलेंस सेवा लोगो के लिए वरदान साबित हो रही है। 


यह भी पढ़ें: 108 एंबुलेंस में मरीज का ट्रीटमेंट करते हुए अस्पताल पहुंचाया

आपको बता दें कि ई. एम. आर. आई. ग्रीन हेल्थ सर्विस 108 तथा 102 एंबुलेंस के द्वारा मरीज को तुरंत सेवा दे रही है।  जिसमें मरीज की देखभाल करते हुए इमरजेंसी मेडिकल टेक्नीशियन ( ई .एम. टी.) मरीजों की देखभाल करते हुए अस्पताल पहुंचा रहे हैं जिससे प्रदेश के जनमानस को लाभ पहुंच रहा है।

यह भी पढ़ें: विदेशी मेहमानों के वाराणसी आगमन /भ्रमण कार्यक्रम के दृष्टिगत जिलाधिकारी और पुलिस आयुक्त किया निरिक्षण

इसी क्रम में EMRI ग्रीन हेल्थ सर्विस 108 तथा 102 एंबुलेंस के जिला प्रभारी अंकुश शुक्ला द्वारा अपने स्टाफ को त्वरित कार्य करने के लिए तैयार रहने का निर्देश दिया गया।

यह भी पढ़ें: इस राशि के जातकों के लिए खुशियां लेकर आएगा नवरात्रि का चौथा दिन, मां कुष्मांडा भर देंगी खाली झोली

108 एंबुलेंस में मरीज का ट्रीटमेंट करते हुए अस्पताल पहुंचाया

वाराणसी: उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से आम जन मानस को पहुचाई जाने वाले निःशुल्क एम्बुलेंस सेवा लोगो के लिए वरदान साबित हो रही है। 


यह भी पढ़ें: विदेशी मेहमानों के वाराणसी आगमन /भ्रमण कार्यक्रम के दृष्टिगत जिलाधिकारी और पुलिस आयुक्त किया निरिक्षण

आपको बता दें कि आज दिनांक 12 अप्रैल को हरहुआ सरकारी अस्पताल से एक मरीज को गंभीर अवस्था में दिन दयाल हॉस्पिटल के लिए रेफर किया गया था।

यह भी पढ़ें: इस राशि के जातकों के लिए खुशियां लेकर आएगा नवरात्रि का चौथा दिन, मां कुष्मांडा भर देंगी खाली झोली

उस मरीज को एम्बुलेंस में मौजूद ईएमटी ने सकुशल हॉस्पिटल पहुचाया बल्कि उसको वहा भर्ती भी करवाया जहाँ उसका इलाज चल रहा है।

यह भी पढ़ें: वाराणसी के कृषि वैज्ञानिकों का सेमिनार में बेहतरीन प्रदर्शन

जिला प्रभारी विकास तिवारी ने बताया कि मरीज की हालत अभी ठीक है और उसका इलाज चल रहा है. मरीज जल्द ही स्वस्थ होकर अपने घर जाने लायक हो जायेगा।

यह भी पढ़ें: आरटीआई लगाने से नाराज ग्राम प्रधान ने पत्रकार पर किया जानलेवा हमला, एफ.आई.आर. दर्ज

वाराणसी के कृषि वैज्ञानिकों का सेमिनार में बेहतरीन प्रदर्शन

वाराणसी: सैम हिंगिंगबाटम राज्य कृषि विश्वविद्यालय नैनी एवं "उपकार" लखनऊ के संयुक्त तत्वावधान में बीते बुधवार को प्रयागराज में राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन किया गया। "मधुमक्खी पालन की प्रगति" थीम पर आयोजित राष्ट्रीय  सेमिनार में कृषि विज्ञान केंद्र वाराणसी के कृषि वैज्ञानिकों ने बेहतरीन प्रदर्शन किया।


यह भी पढ़ें: आरटीआई लगाने से नाराज ग्राम प्रधान ने पत्रकार पर किया जानलेवा हमला, एफ.आई.आर. दर्ज

आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय अयोध्या के अधीन कृषि विज्ञान केंद्र वाराणसी के कृषि प्रसार वैज्ञानिक डॉ. राहुल कुमार सिंह द्वारा "सतत विकास के लिए अच्छी मधुमक्खी पालन प्रथाएँ" विषय पर एवं कृषि वैज्ञानिक डॉ.प्रतीक्षा सिंह ने "शहद का प्रसंस्करण एवं मूल्य संवर्धन" विषय पर बेहतरीन व्याख्यान दिया गया।

यह भी पढ़ें: लंका पुलिस ने यात्री का रूपयों से भरा बैग लेकर भागने वाला आटो चालक गिरफ्तार

मधुमक्खी पालन (वीकीपिंग)पर आयोजित इस राष्ट्रीय सेमिनार की अध्यक्षता विश्वविद्याय के कुलपति राजेंद्र बी.लाल ने की।मुख्यातिथि के रूप में महानिदेशक- "उपकार" लखनऊ के ड. संजय सिंह एवं  विशिष्ठ अतिथि के रूप में अपर निदेशक कृषि प्रसार डॉ. राम रतन सिंह उपस्थित रहे।मुख्य वक्ता के रूप में सेमिनार में प्रतिभाग कर रहे कृषि विज्ञान केंद्र, वाराणसी के कृषि वैज्ञानिकों ने मधुमक्खी पालन के वैज्ञानिक पद्धति, इससे मिलने वाले उत्पाद जैसे शहद, पराग, प्रोपोलिश, मोम, राज अवलेह, मौन विष की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए इसके प्रसंस्करण एवं मूल्य संवर्धन पर अपना प्रस्तुतीकरण  दिया। 

यह भी पढ़ें: नगर आयुक्त ने शहीद उद्यान का किया औचक निरीक्षण, कर्मचारियों की ली उपस्थिति

वाराणसी के कृषि वैज्ञानिकों के व्याख्यान की  सराहना फीडबैक के रूप में राष्ट्रीय सेमिनार के प्रतिभागियों ने की।प्रयागराज में आयोजित राष्ट्रीय  सेमिनार में कई  प्रदेशों के सौ से ज्यादा की संख्या में किसानों के साथ ही कृषि विज्ञान के  विद्यार्थियों व प्रमुख कृषि वैज्ञानिकों ने प्रतिभाग किया।कृषि विज्ञान केंद्र वाराणसी पर प्रशिक्षण ले रही छात्रा शिवानी सिंह द्वारा इस सेमिनार में पोस्टर का प्रस्तुतीकरण किया गया। राष्ट्रीय सेमिनार में वाराणसी के कृषि वैज्ञानिकों के बेहतर प्रस्तुतीकरण पर केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष डा. नरेंद्र रघुवंशी, डा.एनके सिंह, श्रीप्रकाश, डा. अमितेश, डा. मनीष,राणा पियूष, अरविंद गौतम आदि ने प्रतिभागी वैज्ञानिकों को शुभकामनाएं दी हैं।

यह भी पढ़ें: लोकसभा की 80 सीटों पर यूपी में कब कहां होगा मतदान, देखें पूरा शेड्यूल

Friday, April 5, 2024

सीएचसी चोलापुर में प्रथम हृदयाघात रोगी का किया गया ईलाज

वाराणसी: जिले में जनपद स्तरीय चिकित्सालयों सहित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में  गंभीर बीमारियों के इलाज की व्यवस्थाएं की गई हैं। स्वास्थ्य विभाग एवं आईसीएमआर के संयुक्त तत्वाधान में योजनाबद्ध तरीके से हार्ट अटैक से होने वाली मौत से निपटने की तैयारी की गई है।


यह भी पढ़ें: यूपी हेल्थ रैंकिंग डैशबोर्ड में वाराणसी एक बार फिर पहले स्थान पर

 मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ संदीप चौधरी ने बताया कि 62 वर्षीय हड़ीयाडीह निवासी एक व्यक्ति के सीने में तेज दर्द के साथ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चोलापुर में शुक्रवार को उपचार के लिए लाए गए। चिकित्सालय के अधीक्षक डॉ आर बी यादव एवं डॉ संतोष यादव एवं पैरामेडिकल चिकित्सा कर्मियों के द्वारा तत्काल ईसीजी करके रोगी के स्थिति के बारे में संपूर्ण जानकारी की गई तथा विंडो पीरियड के अंतर्गत ही रोगी को थ्रंबोलाइज्ड कर जान बचाई गई।

यह भी पढ़ें: वाराणसी में पेड न्यूज देने वाले नेताओं पर एमसीएमसी की पैनी रहेगी नजर

सीएमओ ने बताया कि अब तक जनपद में विभिन्न चिकित्सालयों में संचालित हार्ट अटैक सेंटर पर  59 आए  रोगियों की जान बचाई जा चुकी है। इस प्रकार जनपद में संचालित सामुदायिक स्वास्थ्य केद्रों में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चोलापुर  हृदयाघात के रोगियों का इलाज करने वाली पहली सीएससी बन गई है । अब तक कल 59 हृदयाघात के रोगियों का इलाज जनपद स्तरीय चिकित्सालय एवं सहित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर किया जा चुका है जिसमें 29 रोगियों का पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय पांडेपुर, 25‌ रोगियों का  श्री शिव प्रसाद गुप्त मंडली चिकित्सालय कबीर चौरा एवं चार रोगियों का स्वामी विवेकानंद मेमोरियल राजकीय चिकित्सालय भेलूपुर में इलाज किया जा चुका है। 

यह भी पढ़ें: चलती बस में अचानक लगी आग, पुलिस ने सभी यात्रियों को सकुशल निकाला

सीएमओ ने बताया कि थ्रांबोलिसिस थेरेपी के अंतर्गत एक विशेष प्रकार का इंजेक्शन लगाकर मरीज के नसों में रक्त के अवरुद्ध प्रवाह को दूर करने की प्रक्रिया को पूर्ण किया जाता है। हार्ट अटैक आने या मरीज में हृदयाघात की समस्या दिखाई देने पर उसे थ्रंबोलाइसिस थेरेपी दी जाती है, इससे मरीज ठीक हो जाता है। आवश्यकता पड़ने पर इससे मरीज को समय मिल जाता है तथा मरीज नजदीकी बड़े केंद्र पर जाकर आवश्यकतानुसार एंजियोप्लास्टी या अन्य जरूरी उपचार करा सकता है। सीएमओ ने बताया कि जनपद में हृदयाघात परियोजना को बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के कार्डियोलॉजी विभाग के प्रो धर्मेंद्र जैन के सहयोग से चलाया जा रहा है। बीएचयू ‘हब’ एवं जनपद के राजकीय चिकित्सालय एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ‘स्पोक’ के रूप में कार्य कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें: इन राशियों के लिए करियर और बिजनेस के मामले में बढिया रहेगा शुक्रवार, इन जातकों पर बरसेगी लक्ष्मी जी की कृपा

यूपी हेल्थ रैंकिंग डैशबोर्ड में वाराणसी एक बार फिर पहले स्थान पर

वाराणसी: उत्तर प्रदेश की हेल्थ रैंकिंग डैशबोर्ड में एक बार फिर से वाराणसी ने 69 फीसदी स्कोर हासिल कर प्रदेश में पहला स्थान प्राप्त किया है। इस वित्तीय वर्ष में जनपद ने हेल्थ रैंकिंग डैशबोर्ड में नौवीं बार पहला स्थान प्राप्त किया है। 


यह भी पढ़ें: वाराणसी में पेड न्यूज देने वाले नेताओं पर एमसीएमसी की पैनी रहेगी नजर

मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डॉ संदीप चौधरी ने बताया कि हाल ही में प्रदेश की हेल्थ रैंकिंग डैशबोर्ड (फरवरी 2024) में सभी जनपदों की रैंकिंग प्रदर्शित की गई है, जिसमें वाराणसी एक बार फिर से पहले स्थान पर है। इस तरह वाराणसी ने इस वित्तीय वर्ष नौवीं बार प्रदेश में प्रथम स्थान प्राप्त किया है। इस वित्तीय वर्ष में वाराणसी की अभी तक की उपलब्धि 77 प्रतिशत जबकि फरवरी माह की उपलब्धि 69 प्रतिशत है। प्रदेश की फरवरी माह की उपलब्धि 55 प्रतिशत और वित्तीय वर्ष की 59 फीसदी है। इस तरह से देखा जाए तो वाराणसी की स्थिति प्रदेश की उपलब्धि से काफी बेहतर है। उन्होंने बताया कि मंथली हेल्थ रैंकिंग डैशबोर्ड के अनुसार सिजेरियन प्रसव, नियमित व सम्पूर्ण टीकाकरण, परिवार नियोजन के स्थायी साधनों, गर्भावस्था में प्रसव पूर्व जांच (हीमोग्लोबिन), गृह आधारित नवजात शिशु देखभाल, टीबी नोटिफिकेशन, गर्भावस्था के दौरान एचआईवी की जांच समेत 16 संकेतकों पर बेहतर प्रदर्शन किया है। सीएमओ ने कहा कि जनपद के सभी राजकीय चिकित्सालयों, सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों, आयुष्मान आरोग्य मंदिर (हेल्थ एंड वेलनेस सेंट) एवं स्वास्थ्य उपकेन्द्रों पर मातृ-शिशु स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण कार्यक्रम की गुणवत्तापूर्ण चिकित्सकीय व स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान की जा रही हैं। इसके लिए उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी (आरसीएच) डॉ एचसी मौर्य और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के जिला कार्यक्रम प्रबंधक (डीपीएम) संतोष कुमार सिंह के सहयोगात्मक पर्यवेक्षण में टीम ने अच्छा प्रदर्शन किया है।

यह भी पढ़ें: चलती बस में अचानक लगी आग, पुलिस ने सभी यात्रियों को सकुशल निकाला 

सीएमओ ने बताया कि मंथली हेल्थ रैंकिंग डैशबोर्ड में ब्लॉक स्तर पर बड़ागांव पीएचसी को पहला, सेवापुरी पीएचसी को दूसरा, अराजीलाइन सीएचसी को तीसरा, हरहुआ पीएचसी को चौथा, मिसिरपुर (काशी विद्यापीठ) सीएचसी को पाँचवाँ, पिंडरा पीएचसी को छठवाँ, चोलापुर सीएचसी को सातवाँ, चिरईगांव पीएचसी को आठवाँ और शहरी इकाई को नौवाँ स्थान मिला है। जिन ब्लॉक की स्थिति निराशाजनक है उन्हें कार्य के प्रति गंभीरता दिखाने के लिए निर्देशित किया गया है।

यह भी पढ़ें: इन राशियों के लिए करियर और बिजनेस के मामले में बढिया रहेगा शुक्रवार, इन जातकों पर बरसेगी लक्ष्मी जी की कृपा

Monday, April 1, 2024

सीएचसी चोलापुर व आयुष्मान आरोग्य मंदिर करधना प्रथम हुए ‘एनक्वास’ सर्टिफ़ाइड

वाराणसी: जनपद का मिनी जिला चिकित्सालय कहे जाने वाले सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चोलापुर और सेवापुरी ब्लॉक के आयुष्मान भारत – आयुष्मान आरोग्य मंदिर करधना प्रथम को नेशनल क्वालिटी एश्योरेंस स्टैंडर्ड (एनक्वास) का दर्जा प्राप्त हुआ है। भारत सरकार के निर्धारित सभी स्वास्थ्य मानकों को पूरा कर सीएचसी चोलापुर ने 82.7 प्रतिशत और आयुष्मान आरोग्य मंदिर करधना प्रथम ने 88 प्रतिशत अंक प्राप्त किए हैं। इस उपलब्धि से वाराणसी में सीएचसी स्तर का पहला सीएचसी चोलापुर और करधना प्रथम, दूसरा आयुष्मान आरोग्य मंदिर बन गया है, जिसे ‘एनक्वास’ सर्टिफ़ाइड होने का दर्जा प्राप्त हुआ है।


यह भी पढ़ें: 1st अप्रैल इन 4 राशियों के लिए है वरदान, जानें सभी के लिए कैसा रहेगा महीने का पहला दिन

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ संदीप चौधरी ने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि यह वाराणसी जनपद में चिकित्सा व स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि है। इससे पहले वाराणसी के राजकीय चिकित्सालयों और प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को एनक्वास मिल चुका है लेकिन जनपद के किसी भी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को यह उपलब्धि पहली और आयुष्मान आरोग्य मंदिर को दूसरी बार हासिल हुई है।

यह भी पढ़ें: व्यासजी के तहखाने में पूजा पर रोक लगाने की मांग पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज

सीएमओ ने सीएचसी चोलापुर के अधीक्षक डॉ आरबी यादव समेत समस्त अधिकारी व स्वास्थ्यकर्मियों एवं करधना प्रथम आयुष्मान आरोग्य मंदिर की सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी (सीएचओ) अंजनी भारती, सुधा, एएनएम, समस्त आशा कार्यकर्ताओं और ग्राम प्रधान निसार अहमद को बधाई दी। इस कार्य में चिकित्साधिकारी डॉ० यतीश भुवन पाठक, जिला कार्यक्रम प्रबन्धक संतोष कुमार सिंह, क्वालिटी एश्योरेंस मंडलीय सलाहकार डॉ० तनवीर सिद्दकी, स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी शिखा श्रीवास्तव, प्रभारी चिकित्साधिकारी सेवापुरी डॉ मनोज वर्मा, बीपीएम अनूप कुमार मिश्रा, बीसीपीएम सीमा यादव एवं अन्य संबन्धित सहयोगी स्टाफ ने महत्वपूर्ण योगदान दिया। इसमें सहयोगी संस्था न्यूट्रीशन इंटरनेशनल, यूपीटीएसयू एवं जपाईगो के जनपद प्रतिनिधियों ने भी अहम भूमिका निभाई। 

यह भी पढ़ें: मुख्तार केस में एक जेलर की भूमिका की जांच की मांग

सीएमओ ने कहा कि सीएचसी चोलापुर और आयुष्मान आरोग्य मंदिर करधना प्रथम, अब जनपद के लिए मॉडल केंद्र बन गए हैं। चिकित्सकों, स्टाफ नर्स समेत सीएचओ, एएनएम, आशा कार्यकर्ताओं को भारत सरकार के निर्धारित सभी मानकों के लिए बेहतर तरीके से प्रशिक्षित किया गया था, जिससे वह उन मानकों को पूरा कर सकें। उन्होंने किशोरी के परामर्श से लेकर गर्भावस्था, प्रसव पूर्व जांच व देखभाल, प्रसव पश्चात देखभाल, नवजात शिशु देखभाल, सम्पूर्ण टीकाकारण, परिवार नियोजन की स्थायी व अस्थायी सेवाएँ, संचारी व गैर संचारी रोगों की स्क्रीनिंग, जांच, परामर्श आदि के साथ ही जागरूकता पर पूरा ध्यान दिया।

यह भी पढ़ें: इन तीन राशि के जातकों के लिए शनिवार रहेगा भारी, पढ़ें सभी राशियों का हाल

अधीक्षक डॉ आरबी यादव ने बताया कि सीएचसी चोलापुर ने भारत सरकार की ओर से निर्धारित मानकों क्रमशः दुर्घटना एवं आपातकालीन, ओपीडी, आईपीडी, लैब, फार्मेसी, सहायक सेवाएं, जनरल एडमिनिस्ट्रेशन एवं ब्लड स्टोरेज यूनिट में 82.7 प्रतिशत अंक प्राप्त किए हैं। मंडलीय सलाहकार डॉ तनवीर सिद्दकी ने बताया कि आयुष्मान आरोग्य मंदिर करधना प्रथम ने केयर इन प्रेग्नेंसी एंड चाइल्ड बर्थ, निओनेटल एंड इंफेंट हेल्थ सर्विसेज़, चाइल्डहुड एंड एडोलसेंट हेल्थ सर्विसेज़, फैमिली प्लानिंग, मैनेजमेंट ऑफ कम्यूनिकेबल डीजीज़, मैनेजमेंट ऑफ सिम्पल इलनेस इनक्लूडिंग माइनर एलीमेंट्स एवं मैनेजमेंट ऑफ नॉन कम्यूनिकेबल डीसीज़ पर बेहतर स्कोर प्राप्त हुए हैं।

यह भी पढ़ें: मुख़्तार ने जब-जब व्यापारियों से मांगी रंगदारी, ढाल बने अवधेश राय

Tuesday, March 19, 2024

स्वास्थ्य विभाग द्वारा ग्रामीण सफाई कर्मियों को दिया गया प्रशिक्षण

वाराणसी: मुख्य विकास अधिकारी हिमांशु नागपाल के निर्देशन में मंगलवार को ग्रामीण सफाई कर्मियो को स्वास्थ्य विभाग द्वारा प्रशिक्षण दिया गया।


यह भी पढ़ें: यात्रियों को अंतरराष्ट्रीय व राष्ट्रीय हवाई अड्डों पर मिले मानक के अनुरूप गुणवत्तापूर्ण खाद्य सामग्री

एक अप्रैल से शुरू होने वाले विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान के दृष्टिगत मुख्य विकास अधिकारी के निर्देशन में आयोजित दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम के प्रथम दिन ब्लाक स्तरीय स्वास्थ्य केंद्र हरहुआ, चोलापुर, चिरईगांव और काशी विद्यापीठ में स्वास्थ्य विभाग के  मलेरिया निरीक्षकों द्वारा एंटीलार्वा छिड़काव, फागिंग की तकनीकि का विस्तार से प्रशिक्षण दिया गया। 

यह भी पढ़ें: इलेक्टोरल बॉन्ड: भारत में साफ़-सुथरी राजनीति में सबसे बड़ा रोड़ा

संचारी रोग नियंत्रण अभियान के अंतर्गत मलेरिया, डेंगू आदि मच्छर जनित बीमारियों से बचाव के लिए माइक्रोप्लान के तहत प्रत्येक ग्राम पंचायत में साप्ताहिक स्तर पर एंटीलार्वा का छिड़काव किया जा रहा है। 

यह भी पढ़ें: शंकराचार्य जी महाराज के पदयात्रा के समर्थन में वकीलों ने की गौ पूजन व निकाली पदयात्रा

जिला मलेरिया अधिकारी  शरत चंद्र पांडेय द्वारा ब्लाक हरहुआ में प्रशिक्षण देते हुए जल भराव निस्तारण व श्रोत विनष्टीकरण के साथ ही सालिड वेस्ट मैनेजमेंट की डेगू नियंत्रण में प्राथमिक भूमिका पर प्रकाश डाला गया। दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में समस्त ब्लाक के 1323 सफाई कर्मियो का प्रशिक्षण पूरा कर लिया जाएगा।

यह भी पढ़ें: शंकराचार्य के पदयात्रा के समर्थन में भक्तों ने रामनगर में निकाली पदयात्रा

यात्रियों को अंतरराष्ट्रीय व राष्ट्रीय हवाई अड्डों पर मिले मानक के अनुरूप गुणवत्तापूर्ण खाद्य सामग्री

वाराणसी: स्वास्थ्य महा निदेशालय, चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से आयोजित की जा रही स्वास्थ्य संगठनों के प्वाइंट ऑफ एंट्री (2023-24) की तीन दिवसीय वार्षिक समीक्षा बैठक का समापन मंगलवार को किया गया। समापन से पूर्व देश के विभिन्न राज्यों व संघ शासित प्रदेशों से आए अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों के प्रमुख अधिकारी, एपीएचओ, एआईआईएचपीएच के अधिकारी व स्टेकहोल्डर ने मंगलवार को शहरी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र शिवपुर कैम्पस में स्थित पब्लिक फूड एनालिसिस लैब का भ्रमण किया। इस दौरान वाराणसी मण्डल के सहायक खाद्य आयुक्त राजेंद्र सिंह के द्वारा समस्त अधिकारियों को हवाई अड्डों पर खाद्य सुरक्षा के मानकों, कार्य, प्रक्रिया आदि के बारे में विस्तार से जानकारी दी, जिससे यात्रियों को अंतरराष्ट्रीय व राष्ट्रीय हवाई अड्डों, बन्दरगाहों व भूमि सीमापार पर मानक के अनुरूप गुणवत्तापूर्ण खाद्य सामग्री प्रदान की जा सके।


यह भी पढ़ें: इलेक्टोरल बॉन्ड: भारत में साफ़-सुथरी राजनीति में सबसे बड़ा रोड़ा

इसके साथ ही बड़ा लालपुर स्थित ट्रेड फैसिलिटी सेंटर पर आयोजित हुये तीसरे दिन के सत्रों पर पब्लिक हेल्थ, हाइजीन और सैनीटेशन आदि पर गहन मंथन व चर्चा की गई। इस दौरान आरएमएल चिकित्सालय नई दिल्ली के माइक्रो बायोलॉजी विभाग की वरिष्ठ सलाहकार माला छाबरा ने निस्संक्रामक प्रोटोकॉल के बारे में विस्तार से जानकारी दी। बताया कि रोगाणुओं और सूक्ष्माणुओं को नष्ट करने के लिए निस्संक्रामकों (डिसइन्फेक्टेंट्स) का प्रयोग होता है। इससे संक्रामक रोगों को रोकने में सहायता मिलती है। इन्हें 'विसंक्रामक', 'विसंक्रामी' या 'संक्रमणहारी' भी कहते हैं। नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (एनसीडीसी) के संयुक्त निदेशक डॉ पूर्वा सरकाटे ने वेस्ट वॉटर मैनेजमेंट (अपशिष्ठ जल निगरानी) के बारे में विस्तार से चर्चा की। पीएचओ कोलकाता/निदेशक एआईआईपीएच प्रो डॉ रंजन दास ने साइंटिफिक रिपोर्टिंग और ऑपरेशनल रिसर्च के विषय पर विस्तृत चर्चा की। उन्होंने ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हाइजीन एंड पब्लिक हेल्थ (एआईआईएचपीएच) की कार्य प्रणाली, रिपोर्टिंग फ़ारमैट आदि के बारे में विस्तार से जानकारी दी। ज्वोइंट पब्लिक हैल्थ एंड सैनीटेशन कमिटी (जेपीएचएससी) के बारे में पीएचओ डॉ पूर्णिमा और एपीएचओ डॉ सुबीन ने जानकारी दी। बताया कि जल, स्वास्थ्य और स्वच्छता पर प्रोटोकॉल के कार्य के कार्यान्वयन के माध्यम से जल, स्वास्थ्य, और स्वच्छता में सुधार करना बेहद जरूरी है।

यह भी पढ़ें: शंकराचार्य जी महाराज के पदयात्रा के समर्थन में वकीलों ने की गौ पूजन व निकाली पदयात्रा

समस्त सत्रों का आयोजन एलपीएआई सचिव विवेक वर्मा, संयुक्त सचिव गुलाम मुस्तफा और अपर महा निदेशक डॉ एस सेंथुनाथन के नेतृत्व में किया गया। इसमें वाराणसी एपीएचओ डॉ प्रतीक, डॉ ज़री अंजुम, एनसीडीसी के शोध अधिकारी डॉ अवनीन्द्र द्विवेदी व समस्त स्टाफ ने महत्वपूर्ण सहयोग किया। समस्त कार्यक्रम का संचालन डॉ मीरा धुरिया ने किया। कार्यक्रम के अंत में समस्त अधिकारियों को प्रशस्ति पत्र व मोमेंटों देकर सम्मानित किया गया।

यह भी पढ़ें: शंकराचार्य के पदयात्रा के समर्थन में भक्तों ने रामनगर में निकाली पदयात्रा

Monday, March 18, 2024

मंडलीय अपर निदेशक ने केंद्र का भ्रमण कर मरीजों से ली उपचार व सुविधाओं की जानकारी

वाराणसी: चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, वाराणसी मंडल की अपर निदेशक डॉ मंजुला सिंह ने सोमवार को राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज चौकाघाट स्थित फाइलेरिया एकीकृत उपचार केंद्र का भ्रमण किया। इस दौरान उन्होंने केंद्र में भर्ती फाइलेरिया से ग्रसित रोगियों से मुलाकात कर उनके उपचार एवं अन्य सुविधाओं के बारे में जानकारी ली। आईएडी केंद्र की प्रभारी प्रज्ञा त्रिपाठी ने विगत एक वर्ष के अंदर केंद्र में भर्ती हुये कुल 185 मरीजों के विवरण एवं इलाज विधि के तरीके के बारे में विस्तार से जानकारी दी । बताया कि वर्तमान में केंद्र पर पाँच रोगियों का उपचार चल रहा है।


यह भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव के दृष्टिगत पुलिस आयुक्त कमिश्नरेट मोहित अग्रवाल द्वारा की गई समीक्षा गोष्ठी

अपर निदेशक ने कहा कि फाइलेरिया एकीकृत उपचार केंद्र का संचालन इंस्टीट्यूट ऑफ एप्लाइड डर्मेटलोजी (आईएडी) केरल एवं बिल एंड मिलिंडा गेट्स फ़ाउंडेशन (बीएमजीएफ़) के सहयोग से किया जा रहा है। इस केंद्र में गंभीर फाइलेरिया (हाथीपाँव) रोगियों का उपचार आयुर्वेदिक थेरेपी, ऐलोपैथ व योगा पद्धति से हो रहा है। खास बात यह है कि बिना किसी सर्जिकल प्रक्रिया से इसका उपचार संभव हो पा रहा है। यहाँ मौजूद आयुर्वेद और योगा पद्धति, हाथीपांव ग्रसित गंभीर रोगियों के सम्पूर्ण उपचार में मददगार साबित हो रही है और उन्हें सामान्य जीवन की ओर भी ले जा रही है। उन्होंने सभी ब्लॉक स्तरीय स्वास्थ्य केन्द्रों के अधीक्षक व प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों को निर्देशित किया है कि पूर्व से चिन्हित गंभीर (ग्रेड थ्री से ऊपर) फाइलेरिया रोगियों को आईएडी फाइलेरिया एकीकृत उपचार केंद्र पर संदर्भित करना सुनिश्चित करें।

यह भी पढ़ें: राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के प्रदेश अध्यक्ष जे एन तिवारी ने किया मतदाता जागरूकता कार्यक्रम की शुरुआत

इस दौरान अपर निदेशक ने कहा कि जरूरतमंद रोगियों तक इस केंद्र की जानकारी पहुंचाना आवश्यक है। इसके लिए जनपदों द्वारा चिन्हित रोगियों  की सूचना से भी केंद्र को अवगत कराया जाए जिससे कि रोगियों से संपर्क कर उनका यथोचित इलाज संभव हो सके। भ्रमण के दौरान बायोलॉजिस्ट व प्रभारी फाइलेरिया नियंत्रण इकाई डॉ अमित कुमार सिंह एवं आईएडी सेंटर की टीम के समस्त सदस्य मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें: पूर्व मंत्री और सपा नेता आजम खान को जबरन घर तोड़ने के मामले में 7 साल की सजा

रोज़ होती है सम्पूर्ण उपचार प्रक्रिया – भर्ती फाइलेरिया (हाथी पाँव) रोगियों की प्रतिदिन समय के अनुसार सम्पूर्ण उपचार प्रक्रिया होती है। इसमें रोगी की मेजरमेंट, साफ-सफाई, आयुर्वेदिक थेरेपी फांटा सोकिंग (घोल प्रक्रिया), योगा, कंप्रेशन और अंत में पुनः योगा व मसाज प्रतिदिन की जाती है।

यह भी पढ़ें: बिहार में एनडीए के सीटों का बटवारा हुआ कन्फर्म, पढ़िए किसको कितनी सीट मिली

यहाँ कर सकते हैं संपर्क – फाइलेरिया (हाथी पाँव) संबंधी स्क्रीनिंग, उपचार आदि के लिए चौकाघाट स्थित फाइलेरिया एकीकृत उपचार केंद्र वाराणसी के हेल्पलाइन नंबर 9567283334 पर प्रत्येक दिन सुबह नौ से सायं पाँच बजे तक संपर्क किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: नवनिर्वाचित एमएलसी धर्मेंद्र सिंह का महानगर कार्यालय पर हुआ जोरदार स्वागत