Latest News

Showing posts with label Lok Sabha Election 2024. Show all posts
Showing posts with label Lok Sabha Election 2024. Show all posts

Friday, May 24, 2024

कांग्रेस ने ओबीसी का हक मारा, प्रियंका चुनाव लड़ने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहीं : डा. महेंद्रनाथ पांडेय

वाराणसी: केंद्रीय मंत्री व चंदौली सांसद डा. महेंद्रनाथ पांडेय ने कहा कि कर्नाटक में कांग्रेस ने ओबीसी का हक मारने का काम किया है। बीजेपी गरीबों व समाज के सभी वर्गों के हित में काम करने वाली पार्टी है। प्रियंका गांधी आज तक चुनाव लड़ने का हिम्मत नहीं जुटा पाई। डा. पांडेय ने वाराणसी में जनसभा के बाद मीडिया से बातचीत के दौरान ये बाते कहीं। 


यह भी पढ़ें: नगर निगम में शुरू हुआ शक्ति रसोई, शुद्ध खाने की मिलेगी सुविधा

उन्होंने विपक्षी दलों पर सीधा हमला बोला। धर्म आधारित आरक्षण पर बोले कि पहले भी देश के एक प्रधानमंत्री संसाधनों पर पहला हक अल्पसंख्यकों का बता चुके हैं, जबकि बीजेपी का मानना है कि देश के संसाधनों पर पहला हक गरीबों व जरूरतमंदों का है। इसी मूलमंत्र के साथ मोदी सरकार ने काम किया है। केंद्रीय मंत्री ने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने कर्नाटक में ओबीसी समाज का हक मारने का काम किया है। ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल में एक वर्ग विशेष के आगे नतमस्तक हो चुकी हैं। 

यह भी पढ़ें: नगर आयुक्त ने किया राजस्व एवं विधि विभाग का किया औचक निरीक्षण

उन्होंने प्रियंका व डिंपल के वाराणसी में प्रस्तावित रोड-शो पर कहा कि दोनों महिला नेत्रियां पहले भी काफी प्रयोग कर चुकी हैं, लेकिन उसका हश्र सभी देख चुके हैं। प्रियंका आज तक चुनाव लड़ने की हिम्मत नहीं जुटा पाईं। कांग्रेस ने अमेठी से किशोरी लाल शर्मा को बली का बकरा बना दिया। उन्होंने कहा कि सपा गुंडों व अपराधियों की पार्टी रही है। ऐसे में अखिलेश की रैलियों में पैसे देकर जो भीड़ जुटाई जाती है, उससे इससे अधिक अनुशासन की उम्मीद करना बेमानी है।

यह भी पढ़ें: जागरूकता रैली में ग्राम रोजगार सेवकों ने बुलंद किया नारा, चुनाव नहीं मतदान करें नये भारत का निर्माण करें

जागरूकता रैली में ग्राम रोजगार सेवकों ने बुलंद किया नारा, चुनाव नहीं मतदान करें नये भारत का निर्माण करें

वाराणसी: विकास खण्ड चिरईगांव में ग्राम रोजगार सेवक संघ के तत्वावधान में ग्राम रोजगार सेवकों ने बृहस्पतिवार को मतदाता जागरूकता रैली निकाली।


यह भी पढ़ें: नगर आयुक्त ने केबल ऑपरेटरों के साथ की बैठक, पोलो के तारों का होगा अलग डिजाइन

मतदाता जागरूकता रैली को खण्ड विकास अधिकारी विमल प्रकाश पाण्डेय ने ब्लाक मुख्यालय पर हरी झंडी दिखाकर मतदाता जागरूकता रैली को रवाना किया। 

यह भी पढ़ें: इस राशि सहित इन तीन जातकों को मिलेंगे नए मौके, पढ़ें मेष से लेकर मीन तक का हाल

संगठन के जिलाध्यक्ष अतुल कुमार सिंह के नेतृत्व में निकाली गयी मतदाता जागरूकता बाइक रैली ब्लॉक मुख्यालय से प्रारंभ होकर यह रैली बारियासनपुर, सींवों, गौराकलां, तोफापुर, पचरांव, जाल्हूपुर, भगतुआं, शिवदशा,  बर्थराकलां, डुबकिया, उमरहा होते हुए ग्राम रोजगार सेवक संघ के कार्यालय पर पहुंची।

यह भी पढ़ें: शत प्रतिशत मतदान के लिए सामूहिक हनुमान चालीसा में जुटेंगे एक लाख लोग

मतदाता जागरूकता रैली के दौरान ग्राम रोजगार सेवकों ने पहले मतदान फिर जलपान, जन जन की है पुकार मतदान हमारा अधिकार, चुनाव नहीं मतदान करें नये भारत का निर्माण करें जैसे नारों के माध्यम से लोगों को जागरूक करते हुए मतदान करने की अपील की।

यह भी पढ़ें: अनुप्रिया पटेल के बयान से बढ़ी राजा भैया की NDA से दूरी, कर सकते है सपा के समर्थन का ऐलान

इस दौरान कल्लू कन्नौजिया, अतुल कुमार, काशी नाथ मिश्रा, शिवजतन यादव, अजित, अभिषेक मिश्रा, राजनरायण, सुरेन्द्र, मनोज आदि रोजगार सेवकों ने जागरूकता रैली में प्रतिभाग किया।

यह भी पढ़ें: द्वितीय प्रशिक्षण में अनुपस्थित कर्मचारियों का सीडीओ ने वेतन रोकते हुए कार्यवाही को निर्देशित किया

Thursday, May 23, 2024

अनुप्रिया पटेल के बयान से बढ़ी राजा भैया की NDA से दूरी, कर सकते है सपा के समर्थन का ऐलान

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में राजा भैया की पार्टी ने सपा को समर्थन देने का ऐलान किया है। पार्टी के प्रतापगढ़ के जिला अध्यक्ष राम अचल वर्मा ने कहा- कल हजारों कार्यकर्ता अखिलेश यादव की जनसभा में शामिल होंगे। इससे पहले राजा भैया ने कहा था, उनकी पार्टी का किसी को समर्थन नहीं है। जनता जिसे चाहे उसे अपना आशीर्वाद यानी वोट दे सकती है। पहले चर्चा थी कि राजा भैया भाजपा का समर्थन कर सकते हैं। वजह थी, राज्यसभा चुनाव में राजा भैया और उनकी पार्टी के विधायक ने भाजपा प्रत्याशी को वोट दिया था।


यह भी पढ़ें: द्वितीय प्रशिक्षण में अनुपस्थित कर्मचारियों का सीडीओ ने वेतन रोकते हुए कार्यवाही को निर्देशित किया

अनुप्रिया पटेल के बयान से चिढ़ गए राजा भैया

18 मई (शनिवार) को अनुप्रिया पटेल ने कुंडा में रैली की थी। इसमें उन्होंने कहा था- कोई भी राजा लोकतंत्र में रानी के पेट से पैदा नहीं होता। वह EVM से पैदा होता है। कुंडा किसी की जागीर नहीं। यह कुंडा की जनता ने बता दिया। देश संविधान से चलता है, न कि किसी हुकूमत से। आज भाजपा की सरकार में गुंडा माफिया कांप रहे हैं। योगी सरकार में पूरा उत्तर प्रदेश अपराध मुक्त हो चुका है। आज व्यापारी जहां खुशहाल है। गुंडा टैक्स मांगने वाले लोग या तो जेल में है या फिर प्रदेश छोड़कर भाग चुके हैं।

यह भी पढ़ें: संभल कर रहें ये चार राशियां, आ सकती है मुसीबत, पढ़ें कहीं आप तो नहीं

अनुप्रिया पटेल के बयान पर राजा भैया ने किया था पलटवार

अनुप्रिया पटेल के बयान पर पलटवार करते हुए राजा भैया ने 20 मई को कहा था- EVM से राजा नहीं, जनप्रतिनिधि पैदा होता है। उसकी उम्र सिर्फ 5 साल होती है। अगर, EVM से पैदा होने वाले लोग खुद को राजा मान लेंगे, तो लोकतंत्र की मूल भावना ही हार जाएगी।

यह भी पढ़ें: नगर आयुक्त अक्षत वर्मा ने किया सफाई व्यवस्था का निरीक्षण

Tuesday, May 21, 2024

लोकसभा सामान्य निर्वाचन-2024 के संबंध में प्रत्याशियों के साथ प्रेक्षकों की बैठक संपन्न

वाराणसी: सामान्य प्रेक्षक अमित सिंह नेगी, व्यय प्रेक्षक अजीत दान तथा पुलिस प्रेक्षक संजय कुमार सैन तथा जिलाधिकारी एस राजलिंगम की अध्यक्षता में कमिश्नरी सभागार में वाराणसी लोकसभा निर्वाचन से चुनाव लड़ रहे प्रत्याशी/ प्रतिनिधिगणों के साथ बैठक आयोजित हुई जिसमें स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं पारदर्शी चुनाव की दिशा में प्रशासन द्वारा लगातार किये जा रहे प्रयासों को रखते हुये सभी से आदर्श आचार संहिता का अनुपालन प्रत्येक दशा में सुनिश्चित करने को कहा गया। 


यह भी पढ़ें: इन तीन राशि के जातकों के लिए टेंशन भरा रहेगा मंगलवार, जानें क्या कहते हैं सभी राशियों के सितारे

जिला निर्वाचन अधिकारी एस राजलिंगम द्वारा मतदान कर्मियों के लिए पोस्टल बैलेट, इडीसी द्वारा मतदान आदि प्रविधानो, बूथों पर वेबकास्टिंग, माइक्रो ऑब्जर्वर की नियुक्ति, ईवीएम की सुरक्षा, संरक्षा तथा परिवहन के विषय में स्पष्ट जानकारी उपस्थित प्रत्याशियों/ प्रतिनिधियों को प्रदान की गई। 

सामान्य प्रेक्षक ने बताया कि प्रशासन द्वारा एकल खिड़की व्यवस्था (सिंगल विंडो सिस्टम)  है। इस विंडो से राजनीतिक दलों, उनके उम्मीदवारों को चुनावी सभाओं, रैलियों, जुलूसों, लाउडस्पीकर, वाहनों के प्रयोग आदि की अनुमति मिलेगी। समस्त पार्टी/ प्रत्याशी आदर्श आचार संहिता अनुपालन सुनिश्चत करेंगे ताकि किसी भी स्तर पर स्वतन्त्र एवं निष्पक्ष चुनाव प्रभावित न हो। कहा कि यदि कहीं भी आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन पाया जाता है तो तुरंत सूचित करें। उन्होंने प्रत्याशियों द्वारा अधिकृत पोलिंग एवं मतगणना एजेंटों को चुनाव प्रक्रिया संबंधी समस्त आवश्यक जानकारियां मुहैया कराते हुए उनको भी प्रशिक्षण दिए जाने को कहा जाये ताकि किसी भी स्तर पर दिक्कतों का सामना न करना पड़े। इवीएम शिफ्टिंग तथा उनके मूवमेंट की पूरी जानकारी प्रत्याशियों/उनके अधिकृत प्रतिनिधियों को मुहैया करायी जायेगी ताकि किसी भी स्तर पर किसी को कोई संदेह नहीं होने पाये। 

यह भी पढ़ें: Rajasthan Board 12th Result 2024: राजस्थान बोर्ड 12वीं रिजल्ट में किसने किया टॉप? यहां देखें लेटेस्ट अपडेट

उन्होंने  उपस्थित प्रत्याशियों/ प्रतिनिधियों को निर्वाचन/आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन से संबंधित शिकायतों के लिए सी विजिल एप एवं कंट्रोल रूम  न0 1950 का उपयोग करने एवं इनके व्यापक प्रचार प्रसार के विषय में भी अपील की। व्यय प्रेक्षक द्वारा लोकसभा चुनाव के दौरान प्रत्याशियों के खर्चों का पूरा व्यवस्थित ब्यौरा रखने तथा निर्धारित तिथियों को उनका मिलान सुनिश्चित किए जाने को कहा गया। पुलिस प्रेक्षक संजय कुमार सैन ने कहा कि लोकसभा चुनाव शांतिपूर्ण एवं भयमुक्त वातावरण में पूरी कुशलता के साथ सम्पन्न कराया जायेगा। 

इस दौरान मुख्य विकास अधिकारी हिमांशु नागपाल ने अवगत कराते हुए कहा कि वोटिंग के दौरान वृद्धजन, गर्भवती महिलाओं, दिव्यांगजनों को प्राथमिकता प्रदान की जाएगी। उनके द्वारा मतगणना के दौरान निर्वाचन आयोग के निर्देशों के अनुपालन के संबंध भी प्रत्याशियों/प्रतिनिधियों को अवगत कराया गया। बैठक के दौरान प्रत्याशियों/प्रतिनिधियों द्वारा अपनी जिज्ञासाएं/ सवाल रखे गए जिनका समुचित समाधान किया गया। 

यह भी पढ़ें: पुलिस आयुक्त मोहित अग्रवाल ने किया पहड़िया मंडी स्थित स्ट्रांग रूम 

बैठक में उप जिला निर्वाचन अधिकारी/एडीएम प्रशासन विपिन कुमार, एडीएम (एफआर) वंदिता श्रीवास्तव, एडीएम प्रोटोकाल प्रकाश चंद्र, सचिव वाराणसी विकास प्राधिकरण, अपर नगर आयुक्त दुष्यंत मौर्य, जिला सूचना अधिकारी सुरेंद्र नाथ पाल, जिला विज्ञान अधिकारी प्रसन्न पांडेय, समस्त सहायक रिटर्निग अधिकारी सहित अन्य संबंधित अधिकारी गण उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें: आगरा में आग उगल रहा सूरज, कानपुर बना प्रदेश का सबसे गर्म शहर, जानिए आज कैसा रहेगा उत्तर प्रदेश का मौसम

Monday, May 20, 2024

पुलिस आयुक्त मोहित अग्रवाल ने किया पहड़िया मंडी स्थित स्ट्रांग रूम का किया निरीक्षण

वाराणसी: दिनांक 19-05-2024 को पुलिस आयुक्त कमिश्नरेट वाराणसी मोहित अग्रवाल द्वारा निर्वाचन आयोग से प्राप्त सुरक्षा सम्बन्धित गाईड लाईन के अनुरूप मतदान के बाद ईवीएम व वीवीपैट के भण्डारण हेतु बनाये गये पहड़िया मंडी स्थित स्ट्रांग रूम का निरीक्षण किया गया। 



निरीक्षण के दौरान अपर पुलिस आयुक्त (कानून एवं व्यवस्था) एस. चन्नप्पा, पुलिस उपायुक्त वरूणा श्याम नारायण सिंह, अपर पुलिस उपायुक्त वरूणा सरवणन टी. व अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे। साथ ही साथ पुलिस आयुक्त मोहित अग्रवाल ने गाइड लाइन के अनुरूप दिशा निर्देश दिया. जो निम्नवत है. 
  • सीपीएफ पीएसी व सिविल पुलिस की त्रि-स्तरीय सुरक्षा मे रहेगा स्ट्रांग रूम
  • स्ट्रांग रूम सीसीटीवी की निगरानी में
  • सुरक्षाकर्मियों को सतर्कता बनाये रखने के निर्देश
  • स्ट्रांग रूम में अनाधिकृत लोगों का वर्जित रहेगा प्रवेश
  • राजपत्रित अधिकारी द्वारा प्रत्येक तीन घंटे पर किया जायेगा निरीक्षण

निरीक्षण के दौरान पुलिस आयुक्त द्वारा स्ट्रांग रूम में सीसीटीवी कैमरों की व्यवस्था, गार्ड रूम के लिए आवश्यक व्यवस्था हेतु निर्देश दिये गए। ईवीएम को स्ट्रांग रूम तक ले जाने कि व्यवस्थाओं, बिजली आपूर्ति, अग्नि सुरक्षा उपायों और स्ट्रांग रूम पर रखे गये आधिकारिक रजिस्टरों के रख-रखाव व अद्यतनीकरण के बारें में जानकारी ली।


पहड़ियां मंडी स्थित स्ट्रांग रूम के निरीक्षण के दौरान बैरियर, बैरिकेटिंग, पार्किंग आदि सुरक्षा व्यवस्थाओं का जायजा लिया एवं सम्बन्धित अधिकारियों को सभी व्यवस्थाओं को समय से पूर्ण किये जाने हेतु निर्देश दिये।

Sunday, May 19, 2024

सीएम केजरीवाल आज बड़े नेताओं, विधायकों और सांसदों के साथ बीजेपी दफ्तर पहुंचेंगे

नई दिल्ली: मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को कहा कि वह और आम आदमी पार्टी के नेता रविवार को बीजेपी ऑफिस जाएंगे ताकि प्रधानमंत्री जिसे चाहें उसे जेल भेज सकें. अरविंद केजरीवाल ने अपनी पार्टी की सांसद स्वाति मालीवाल पर कथित हमले के सिलसिले में अपने सहयोगी बिभव कुमार की गिरफ्तारी के कुछ घंटों बाद एक प्रेस कान्फ्रेंस में दावा किया कि भाजपा कह रही है कि वह हाल ही में ब्रिटेन से लौटे आम आदमी पार्टी के सांसद राघव चड्ढा और दिल्ली के मंत्रियों आतिशी और सौरभ भारद्वाज को भी जेल भेजेंगे.


यह भी पढ़ें: ई-रिक्शा, टैम्पो का अवैध पर्ची काटते नगर आयुक्त ने पकड़ा रंगे हांथ, दो स्टैंडो की जांच में पायी गई अनियमितता

'आम आदमी पार्टी' के राष्ट्रीय संजोयक अरविन्द केजरीवाल ने कहा कि उनके नेताओं को जेल भेजकर उनकी पार्टी को कुचला नहीं जा सकता. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर मनीष सिसोदिया, सत्येंद्र जैन और संजय सिंह जैसे आम आदमी पार्टी के नेताओं को जेल भेजने का खेलखेलने का आरोप लगाते हुए अरविन्द केजरीवाल ने कहा, “मैं अपने सभी बड़े नेताओं, विधायकों और सांसदों के साथ कल दोपहर 12 बजे भाजपा मुख्यालय आ रहा हूं. जिसे भी जेल में डालना हो, एक ही बार में डाल दीजिए.

यह भी पढ़ें: कार्डियोलॉजिस्ट प्रो ओमशंकर के अनशन को ऑल इंडिया प्रोफेशनल कांग्रेस और एनएसयूआइ ने दिया समर्थन

'आम आदमी पार्टी' ऐसे कुचलने वाली नहीं है- मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कहा, “आप सोचते हैं कि आप के नेताओं को जेल में डालकर उसे कुचल देंगे, आप ऐसे कुचलने वाली नहीं है. आप एक बार कोशिश करिये और देखिए.अरविन्द केजरीवाल ने कहा कि आप एक विचार है, जिसके तार देश भर के लोगों से जुड़े हैं. अरविन्द केजरीवाल ने कहा, “आम आदमी पार्टी के जितने नेताओं को आप जेल में डालेंगे उससे 100 गुना ज्यादा नेता यह देश पैदा करेगा.

यह भी पढ़ें: कैंसर की बीमारी से बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील मोदी का निधन, लंबे समय से थे बीमार

मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने दावा किया कि आप की 'गलती' यह थी कि दिल्ली में उसकी सरकार ने अच्छे स्कूल बनाए, मोहल्ला क्लीनिक स्थापित किए, मुफ्त इलाज मुहैया कराया और शहर में 24 घंटे मुफ्त बिजली आपूर्ति सुनिश्चित की, जो भाजपा नहीं कर सकी. कथित दिल्ली आबकारी नीति घोटाले से जुड़े धनशोधन मामले में गिरफ्तार किए गए अरविंद केजरीवाल को लोकसभा चुनाव में प्रचार करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने एक जून तक अंतरिम जमानत दे दी है. उन्हें आम चुनाव के आखिरी चरण के मतदान के एक दिन बाद दो जून को आत्मसमर्पण करना होगा और वापस जेल जाना होगा.

यह भी पढ़ें: कालभैरव का आशीर्वाद लेकर पुष्य नक्षत्र में नामांकन करेंगे पीएम 

Sunday, May 12, 2024

कालभैरव का आशीर्वाद लेकर पुष्य नक्षत्र में नामांकन करेंगे पीएम

वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी 13 मई यानी कल पहुंचने वाले हैं. भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के कार्यकर्ता और आमजन उनका बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं. पीएम मोदी एक रोड शो और अपना नामांकन दाखिल करेंगे. इस दौरान पीएम मोदी दो दिवसीय यात्रा की तैयारियों की निगरानी के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शहर में पहुंचे हुए हैं और उन्होंने आज काल भैरव मंदिर में पूजा-अर्चना की. वहीं, पीएम मोदी की सुरक्षा के लिए एसपीजी की एक टीम शुक्रवार को ही वाराणसी पहुंच गई।

फाइल फोटो

यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री के खिलाफ चुनाव लड़ने की तैयारी करने वाले मुर्दें को पुलिस ने लिया हिरासत में

प्रधानमंत्री कल शाम पांच बजे रोड शो करेंगे और रात वाराणसी में ही बिताएंगे।इसके अलगे दिन मंगलवार को पीएम सुबह 10 बजकर 15 मिनट पर काल भैरव के दर्शन कर पूजा-अर्चना करेंगे।इसके बाद 10 बजकर 45 मिनट पर एनडीए नेताओं के साथ एक बैठक करेंगे और चुनावी रणनीति पर चर्चा करेंगे. साथ ही साथ सियासी माहौल को टटोलेंगे। पीएम 11 बजकर 40 मिनट पर अपना नामांकन दाखिल करेंगे. इसके बाद 12 बजकर 15 मिनट पर पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक को संबोधित करेंगे. फिर पीएम झारखंड में चुनाव प्रचार के लिए निकल जाएंगे।

यह भी पढ़ें: 97 UP बटालियन का वार्षिक प्रशिक्षण शिविर आयोजन  

पीएम मोदी का ऐसे होगा स्वागत

इस बीच, बीजेपी ने रोड शो की तैयारियों के लिए कमर कस ली है, जो लंका स्थित मालवीय प्रतिमा से काशी विश्वनाथ धाम तक ‘मिनी इंडिया’ की झलक पेश करेगा. तमाम राज्यों के लोग पारंपरिक पोशाक में पीएम का स्वागत करेंगे. उत्तर प्रदेश के मंत्री दयाशंकर मिश्र सक्रिय रूप से कई सामाजिक संगठनों और समाज के लोगों से संपर्क कर उन्हें पीएम के रोड शो में भाग लेने के लिए आमंत्रित कर रहे हैं।शनिवार को उन्होंने माहेश्वरी समाज, जैन समाज, यादव समाज, वाराणसी स्पोर्ट्स एसोसिएशन, श्री गोवर्धन माता उत्सव समिति, भूमिहार समाज, मारवाड़ी समाज, शिक्षक, केंद्रीय ब्राह्मण सभा, रोटरी क्लब और किन्नर समाज सहित कई सामाजिक संगठनों और समाजों को संबोधित किया। उन्हें पीएम के रोड शो में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया है।

उन्होंने कहा कि पीएम के नामांकन से पहले आयोजित रोड शो में काशी की जनता एकजुट होकर अनेकता में एकता का संदेश देते हुए उनका भव्य स्वागत करेगी पर सामाजिक संगठन एवं सोसायटी के लिए अलग-अलग बिंदु निर्धारित किए गए हैं. रोड शो मार्ग के सभी बिंदुओं पर, तमाम समुदायों का प्रतिनिधित्व करने वाले लोग अपनी वेशभूषा के माध्यम से अपनी-अपनी संस्कृतियों का प्रदर्शन करेंगे. पीएम के स्वागत में शंखनाद, ढोल की थाप, नृत्य, संगीत और पुष्प वर्षा की जाएगी।

यह भी पढ़ें: इन चार राशियों पर बरसेगी सूर्य की कृपा, पढ़ें आज का राशिफल 

पीएम के रोड शो में शामिल होने की अपील

पीएम के रोड शो को सफल बनाने के लिए शनिवार को जन प्रतिनिधि और पार्टी कार्यकर्ता सड़कों पर उतरे. वे प्रमुख बाजारों में व्यापारियों और दुकानदारों के पास पहुंचे और उन्हें रोड शो में आमंत्रित किया. बीजेपी के एक नेता ने कहा कि पार्टी का मानना है कि रोड शो को ऐतिहासिक बनाने के लिए बूथ स्तर पर कार्यकर्ताओं का सक्रिय होना जरूरी है. शहर के महत्वपूर्ण पॉइंट पर बूथ कार्यकर्ताओं को तैनात किया जाएगा।

बन रहा ये खास संयोग

भौम पुष्य नक्षत्र पद, प्रतिष्ठा और ऐश्वर्यकारक योग का निर्माण करेगा। इस दिन अभिजीत मुहूर्त, आनंद और सर्वार्थसिद्धि योग निर्मित हो रहा है। आनंद योग दोपहर 1:05 बजे तक, सर्वार्थ सिद्धि योग पुष्य नक्षत्र में 13 मई को सुबह 11:23 बजे से 14 मई को शाम 5:49 बजे तक रहेगा।

इसी तरह सर्वार्थ सिद्धि योग आश्लेषा नक्षत्र में 14 मई को दोपहर 1:05 बजे से 15 मई की सुबह 5:49 बजे तक रहेगा। अमृत काल सुबह 6:13 बजे से 7:56 बजे तक रहेगा। सूर्य 14 मई को 5:55 तक मेष राशि में और इसके बाद वृषभ राशि में प्रवेश करेंगे। वहीं, चंद्रमा संपूर्ण दिन व रात कर्क राशि पर संचार करेगा।

यह भी पढ़ें: कार चालक ही निकला लूट की घटना का मास्टर माइन्ड चौबेपुर पुलिस और एस0ओ0जी0 ने किया सफल अनावरण 

राज सत्ता के संयोग का करेगी निर्माण

पं. द्राविड़ के अनुसार राहुकाल अपराह्न 3:39 बजे से शाम 5:18 बजे तक रहेगा। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार गंगा सप्तमी और भौम पुष्य नक्षत्र का संयोग ग्रहों की स्थिति सर्वोत्तम स्थितियों का निर्माण कर रही हैं। इस दिन कोई भी कार्य करने से अभीष्ट की सिद्धि होती है। मंगलवार को पुष्य नक्षत्र राज सत्ता के संयोग का निर्माण करेगी। पुष्य नक्षत्र में यदि किसी काम को किया जाए तो उसमें सफलता तय मानी जाती है।

यह भी पढ़ें: चौबेपुर पुलिस ने छेड़खानी व दुष्कर्म के प्रयास से सम्बन्धित वांछित अभियुक्त अमन सिंह किया गिरफ्तार 

प्रधानमंत्री के खिलाफ चुनाव लड़ने की तैयारी करने वाले मुर्दें को पुलिस ने लिया हिरासत में

वाराणसी: प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र उनके खिलाफ चुनाव लड़ने के लिए जैसे प्रत्याशियों की बाढ़ आ गयी है। कई प्रकार के लोग प्रधानमंत्री के खिलाफ चुनाव लड़ने को उतावले हैं और नामांकन पत्र भरने में सफल न होने पर जिला प्रशासन के खिलाफ अनाप - शनाब और अनर्गल बयान बाजी करते नजर आ रहे हैं।


यह भी पढ़ें: 97 UP बटालियन का वार्षिक प्रशिक्षण शिविर आयोजन  

इसी क्रम में चौबेपुर थाना क्षेत्र के छितौनी ग्रामसभा निवासी संतोष मूरत सिंह उर्फ "मैं जिंदा हूं" नामक कागजी मुर्दा भी प्रधानमंत्री के खिलाफ चुनाव लड़ने की हसरत मन में पाले हुए हैं। हालांकि छितौनी निवासी संतोष मूरत उर्फ मैं जिंदा हूं" को सरकारी अभिलेखों में मृत घोषित कर दिया गया है। बिगत कई वर्षों से वह स्वयं को जिंदा घोषित होने के लिए तरह तरह के हथकंडे अपनाते रहते हैं। सरकारी अभिलेखों में जिंदा होने के लिए संतोष सिंह अपने गले में "मैं जिंदा हूँ" की तख्ती लटकाकर वाराणसी मुख्यालय से लेकर दिल्ली के जंतर मंतर तक कई बार धरना प्रदर्शन कर चुके हैं।

यह भी पढ़ें: इन चार राशियों पर बरसेगी सूर्य की कृपा, पढ़ें आज का राशिफल 

संतोष सिंह इन दिनों वाराणसी संसदीय क्षेत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ लोकसभा चुनाव लड़ने की तैयारी में जुटे हुए है। उन्होंने बताया कि वे शनिवार को सुबह अपने पैतृक निवास छितौनी से जिला मुख्यालय के लिए निकले थे इसी बीच भगतुआ में जाल्हूपुर पुलिस चौकी प्रभारी शशि प्रकाश सिंह अपने हमराहियों के साथ पहुंचे और उन्हें हिरासत में ले लिया है।    

यह भी पढ़ें: कार चालक ही निकला लूट की घटना का मास्टर माइन्ड चौबेपुर पुलिस और एस0ओ0जी0 ने किया सफल अनावरण 

पुलिस बोली पूंछताछ के लिए उठाया-

चौकी प्रभारी शशि प्रताप सिंह का कहना है कि संतोष मूरत सिंह उर्फ "मैं जिंदा हूं" को उच्च अधिकारियों के निर्देश पर पूछताछ के लिए बुलाया गया है। उनके पुराने रिकॉर्ड को ध्यान में रखते हुए जब भी वाराणसी में किसी वीआईपी का आगमन होता है तो संतोष मूरत को पूछताछ के लिए बुलाया जाता है।

यह भी पढ़ें: चौबेपुर पुलिस ने छेड़खानी व दुष्कर्म के प्रयास से सम्बन्धित वांछित अभियुक्त अमन सिंह किया गिरफ्तार 

अभिलेखों में मुर्दा पर गिरफ्तारी के लिए जिंदा!  

संतोष मूरत सिंह उर्फ मैं जिंदा हूं का कहना है कि कहने को मैं सरकारी अभिलेखों में मुझे मुर्दा दिखाया जाता है यानि मैं कागजी मुर्दा हूं लेकिन गिरफ्तारी के लिए मैं कैसे जिंदा हो जाता हूं यह बात मुझे आज तक समझ में नहीं आयी। उन्होंने बताया का वे आवेदन पत्र लेने से पहले ही 25 हजार रुपए का ट्रेज़री चालान जमा कर चुके हैं। अब जिला प्रशासन उन्हें नामांकन करने से रोकना चाहता है। संतोष की मानें तो पुलिस अब तक उन्हें 109 बार अनावश्यक रूप से हिरासत में ले चुकी है। लोकसभा क्षेत्र वाराणसी से नामांकन करने के लिए उन्होंने लोगो से भिक्षा मांगकर ट्रेजरी चालान जमा किया है और नामांकन पत्र लेने के लिए जिला मुख्यालय जा रहा था लेकिन पुलिस बीच रास्ते से ही उन्हें चौकी पर उठा लायी। संतोष का कहना है कि जिला प्रशासन गलत तरीकों को अपनाकर लोकतांत्रिक अधिकारों से उन्हें वंचित करने के साथ ही चुनाव लड़ने से उन्हें‌ रोंका जा रहा है जो कि सरासर ग़लत एवं नियम बिरूद्ध है। कुल मिलाकर कागजी मुर्दे (संतोष मूरत सिंह) की प्रधानमंत्री के खिलाफ चुनाव मैदान में उतरने की हसरत संभवत: अधूरी ही रह जायेगी।

यह भी पढ़ें: बीडीओ ने 6 ग्राम पंचायत सचिवों का रोका वेतन, आंगनवाड़ी केंद्र का निर्माण कार्य प्रारंभ न होने पर हुई कार्रवा

Thursday, May 9, 2024

चुनाव प्रचार का अधिकार संवैधानिक अधिकार नहीं..., ED ने किया अरविंद केजरीवाल की अंतरिम जमानत अर्जी का विरोध

नई दिल्ली: आबकारी नीति घोटाला मामले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग केस में गिरफ्तार दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की अंतरिम जमानत अर्जी पर सुप्रीम कोर्ट का शुक्रवार को फैसला आने से पहले ईडी ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर किया है। इस हलफनामे में ईडी ने कहा है कि चुनाव प्रचार के लिए केजरीवाल को जमानत नहीं दी जा सकती है। चुनाव प्रचार का अधिकार ना तो संवैधानिक अधिकार है और ना ही कानूनी अधिकार। सुप्रीम कोर्ट में ईडी की ओर से दाखिल नए हलफनामा में केजरीवाल की अंतरिम जमानत की मांग वाली अर्जी का विरोध किया गया। सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान टिप्पणी की थी कि आम चुनाव के मद्देनजर वह केजरीवाल की अंतरिम जमानत अर्जी पर विचार करेंगे। इसके बाद अंतरिम जमानत पर सुनवाई हुई थी। पिछले सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखते हुए कहा था कि वह शुक्रवार को फैसला देंगे।


यह भी पढ़ें: विकास कार्यों में धांधली की जांच करने मुस्तफाबाद पहुंचे अधिकारी

ईडी ने दाखिल किया हलफनामा

ईडी ने अंतरिम जमानत अर्जी का विरोध करते हुए हलफनामा दायर किया है और कहा है कि चुनाव प्रचार का जो अधिकार है वह ना तो मौलिक अधिकार है और ना ही यह संवैधानिक अधिकार है। ईडी ने कहा कि यहां तक कि चुनाव प्रचार का अधिकार कानूनी अधिकार के दायरे में भी नहीं है। साथ ही ईडी ने कहा है कि कोई भी राजनीतिक व्यक्ति किसी भी साधारण व आम जनता से ज्यादा अधिकार का दावा नहीं कर सकता है। कोई राजनीतिक व्यक्ति इस बात का अधिकार नहीं रखता है कि उसे किसी आम जनता से अलग ट्रीट किया जाए और ना ही वह आम जनता से ज्यादा अधिकार रखने का दावा कर सकता है।

यह भी पढ़ें: इस राशि के जातकों के लिए गुरुवार का दिन भारी, पढ़ें मेष से लेकर मीन तक का राशिफल

'केजरीवाल को जमानत मिली तो नजीर होगी'

ईडी ने अपने हलफनामे में यह भी कहा है कि कोई भी राजनीतिक पार्टी के नेता को चुनाव प्रचार के लिए अंतरिम जमानत नहीं गई है चाहे वह पॉलिटिकल लीडर खुद चुनाव ही क्यों ना लड़ रहे हों। यहां तक कि कंटेस्ट करने वाले कैंडिडेट को भी चुनाव प्रचार के लिए अंतरिम जमानत नहीं दी जाती रही है। सुप्रीम कोर्ट में ईडी ने कहा कि अगर केजरीवाल को चुनाव के आधार पर अंतरिम जमानत दी जाती है तो इससे एक नजीर पेश होगा और इस कारण वैसे राजनीतिक शख्स जिनके खिलाफ क्रिमिनल केस है उन्हें भी अंतरिम जमानत की इजाजत मिलेगी और चुनाव के नाम पर वह छानबीन के दायरे से बाहर होंगे। सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस संजीव खन्ना की अगुवाई वाली बेंच इस मामले में शुक्रवार को फैसला देने वाली है।

यह भी पढ़ें: इन 4 राशियों की चमकेगी किस्मत, पढ़ें मेष से लेकर मीन तक का हाल

गिरफ्तारी को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती

केजरीवाल को 21 मार्च को ईडी ने गिरफ्तार किया था। गिरफ्तारी और रिमांड को केजरीवाल ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। निचली अदालत और हाई कोर्ट से मामले में राहत नहीं मिलने के बाद केजरीवाल ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि मामले की सुनवाई में वक्त लग रहा है ऐसे में वह आम चुनाव के मद्देनजर केजरीवाल की अंतरिम जमानत की अर्जी पर विचार करेंगे। इस दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि अगर वह अंतरिम जमानत पर केजरीवाल को रिलीज करेंगे तो वह इस दौरान सरकारी कामकाज नहीं करेंगे तब केजरीवाल की ओर से कहा गया था कि वह फाइल पर दस्तखत नहीं करेंगे बशर्ते कि एलजी फाइल पर दस्तखत ना होने के आधार पर काम ना रोकें।

यह भी पढ़ें: WBCHSE 12वीं का रिजल्ट आज, रोल नंबर के अनुसार ऑनलाइन wbchse.wb.gov.in पर देखें

Tuesday, May 7, 2024

मायावती ने भतीजे आकाश आनंद को सभी पदों से हटाया

लखनऊ: यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती ने अपने भतीजे आकाश आनंद को बीएसपी के कॉर्डिनेटर पद से हटा दिया है। इसका ऐलान उन्होंने खुद किया। इसके साथ ही मायावती ने भतीजे को अपने राजनीतिक उत्तराधिकारी से भी वंचित कर दिया है। सोशल मीडिया एक्स पर मायावती ने खुद इसके बारे में लिखकर लोगों को बताया है।


यह भी पढ़ें: वाराणसी संसदीय निर्वाचन क्षेत्र से पहले दिन दो प्रत्याशियों ने नामांकन किया

मायावती ने एक्स पर लिखा है, "विदित है कि बीएसपी एक पार्टी के साथ ही बाबा साहेब डा भीमराव अम्बेडकर के आत्म-सम्मान व स्वाभिमान तथा सामाजिक परिवर्तन का भी मूवमेन्ट है जिसके लिए मान्य. कांशीराम व मैंने खुद भी अपनी पूरी ज़िन्दगी समर्पित की है और इसे गति देने के लिए नई पीढ़ी को भी तैयार किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: मिर्जामुराद पुलिस ने दुष्कर्म के आरोपी अभियुक्त को किया गिरफ्तार

उन्होंने आगे लिखा, "इसी क्रम में पार्टी में, "अन्य लोगों को आगे बढ़ाने के साथ ही, आकाश आनन्द को नेशनल कोओर्डिनेटर व अपना उत्तराधिकारी घोषित किया, किन्तु पार्टी व मूवमेन्ट के व्यापक हित में पूर्ण परिपक्वता  आने तक अभी उन्हें इन दोनों अहम जिम्मेदारियों से अलग किया जा रहा है। जबकि इनके पिता आनन्द कुमार पार्टी व मूवमेन्ट में अपनी जिम्मेदारी पहले की तरह ही निभाते रहेंगे। अतः बीएसपी का नेतृत्व पार्टी व मूवमेन्ट के हित में एवं बाबा साहेब डा. अम्बेडकर के कारवाँ को आगे बढ़ाने में हर प्रकार का त्याग व कुर्बानी देने से पीछे नहीं हटने वाला है।"

यह भी पढ़ें: जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी ने चुनाव कंट्रोल रूम का किया औचक निरीक्षण

बता दें कि पिछले साल 10 दिसंबर 2023 को पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की एक बैठक में मायावती ने आकाश आनंद को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया था और उन्हें पार्टी का नेशनल कॉर्डिनेटर बनाया था। हालांकि, इस घोषणा से पहले भी आनंद अपनी बुआ के साथ पार्टी के कार्यक्रमों में नजर आते थे।28 वर्षीय आकाश आनंद की शुरुआती पढ़ाई-लिखाई नोएडा में हुई। उसके बाद उन्होंने लंदन से एमबीए की पढ़ाई की है। मार्च 2024 में आनंद की शादी बसपा के वरिष्ठ नेता अशोक सिद्धार्थ की बेटी प्रज्ञा से हुई है।

यह भी पढ़ें: नगर निगम सामाजिक संस्थाओं के माध्यम से करवा रहा है वाटर कूलर और पेयजल व्यस्था

वाराणसी संसदीय निर्वाचन क्षेत्र से पहले दिन दो प्रत्याशियों ने नामांकन किया

वाराणसी: संसदीय निर्वाचन क्षेत्र हेतु नामांकन प्रक्रिया शुरू होने के पहले दिन मंगलवार को कोली शेट्टी शिवकुमार ने निर्दल प्रत्याशी के रूप में अपना नामांकन दाखिल किया। वही अभिषेक प्रजापति ने बहादुर आदमी पार्टी से नामांकन किया। इसके अलावा 12 नामांकन फार्म लोगो ने लिए है। जबकि 55 ट्रेजरी चालान भी लोगो ने प्राप्त किया है।


यह भी पढ़ें: मिर्जामुराद पुलिस ने दुष्कर्म के आरोपी अभियुक्त को किया गिरफ्तार

नामांकन के पहले दिन नामांकन पत्र प्राप्त करने वाले विंध्याचल पासवान भारतीय रिपब्लिकन पार्टी, संजय कुमार तिवारी निर्दल, अभिषेक प्रजापति बहादुर आदमी पार्टी, नरसिंह निर्दल, रामकुमार जायसवाल निर्दल, अवचितराव शाम जन सेवा गोंडवाना पार्टी, पारस नाथ केसरी राष्ट्रीय समाजवादी जन क्रांति पार्टी, दयाशंकर कौशिक भारतीय जवान पार्टी, शंकर शर्मा निर्दल, सुनील कुमार इंडियन नेशनल समाज पार्टी, अजय भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस तथा रणवीर सिंह संजोग जनादेश पार्टी प्रमुख रहे।

यह भी पढ़ें: जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी ने चुनाव कंट्रोल रूम का किया औचक निरीक्षण

जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी ने चुनाव कंट्रोल रूम का किया औचक निरीक्षण

वाराणसी: जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी एस. राजलिंगम ने मंगलवार को विकास भवन स्थित सभागार में लोकसभा सामान्य निर्वाचन-2024 को सुचारू एवं सुव्यवस्थित ढंग से संपन्न कराए जाने हेतु बनाए गए कंट्रोल रूम का औचक निरीक्षण किया। 


यह भी पढ़ें: नगर निगम सामाजिक संस्थाओं के माध्यम से करवा रहा है वाटर कूलर और पेयजल व्यस्था

निरीक्षण के दौरान उन्होंने निर्वाचन से संबंधित प्राप्त होने वाले शिकायती प्रार्थना पत्रों का प्राथमिकता के आधार पर प्रभावी निस्तारण सुनिश्चित कराए जाने का संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया। इस दौरान उन्होंने शिकायती प्रार्थना पत्र से संबंधित पंजिका का भी अवलोकन किया।

यह भी पढ़ें: फतेहपुर सीकरी के प्रत्याशी का ऐलान, स्वामी प्रसाद पर जूता फेंकने वाले का हाथ और जुबान काटकर लाओ 11 लाख दूंगा...

जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी ने मीडिया प्रमाणन, सोशल मीडिया एवं आदर्श आचार संहिता उल्लघन आदि से संबंधित अब तक किए गए कार्यों की समीक्षा कर संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें: वीडीए कार्यालय में लगा स्वास्थ्य शिविर, सौ से अधिक कर्मियों की हुई स्क्रीनिंग 

इस दौरान मुख्य विकास अधिकारी हिमांशु नागपाल, अपर जिलाधिकारी (वित्त/राजस्व) बंदना श्रीवास्तव, प्रभारी सोशल मीडिया राजीव राय, सदस्य सचिव, एमसीएमसी/जिला सूचनाधिकारी सुरेंद्र नाथ पाल सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें: प्रमुख सचिव स्वास्थ्य ने एनक्वास सर्टिफाइड सीएचसी चोलापुर के अधीक्षक डॉ आरबी यादव को किया सम्मानित

फतेहपुर सीकरी के प्रत्याशी का ऐलान, स्वामी प्रसाद पर जूता फेंकने वाले का हाथ और जुबान काटकर लाओ 11 लाख दूंगा...

लोकसभा चुनाव 2024: चुनाव के बीच माहौल गरमा रहा है। आज तीसरे चरण के लिए मतदान होगा। ऐसे में कई प्रत्याशियों के बयान सामने आ रहे हैं। इस बीच राष्ट्रीय शोषित समाज पार्टी के प्रत्याशी ने एक वीडियो जारी कर हलचल पैदा कर दी है। फतेहपुर सीकरी से स्वामी प्रसाद की पार्टी के प्रत्याशी ने ऐलान किया है कि स्वामी पर जूता फेंकने वाले के हाथ काटने वाले को 11 लाख रुपये का इनाम दिया जाएगा। उन्होंने ये भी कहा है कि जूता फेंकने वाले ने निषाद समाज का अपमान किया है। पहले स्याही फेंकी फिर काले झंडे भी दिखाए थे।


यह भी पढ़ें: इन राशियों के सामने आ सकती हैं ये बड़ी चुनौतियां, पढ़ें आज का राशिफल                     

वीडियो में क्या बोले प्रत्याशी?

राष्ट्रीय शोषित समाज पार्टी के प्रत्याशी होतम सिंह का ये वायरल वीडियो 3 मई (शुक्रवार) का बताया जा रहा है। वायरल वीडियो में राष्ट्रीय शोषित समाज पार्टी के प्रत्याशी होतम सिंह निषाद बोल रहे है कि पहले तो आरोपी धर्मेंद्र धाकड़ ने हमारे नेता पर काली स्याही फेंकी, काले झंडे दिखाए, इससे भी जब उसका मन नहीं भरा तो उसने भरी सभा में जूता फेंका। ये ओबीसी समाज, निषाद समाज का अपमान है। उन्होंने कहा कि निषाद समाज दरिया में डुबाना जानता है और निकालना भी जानता है। सामंतवादी विचारधारा के लोगों को निषाद समाज के बेटे का सजाया हुआ मंच रास नहीं आया इसलिए ऐसा कृत्य किया है।

यह भी पढ़ें: वीडीए कार्यालय में लगा स्वास्थ्य शिविर, सौ से अधिक कर्मियों की हुई स्क्रीनिंग 

आपको बता दें कि तीन दिन पहले आगरा में एक जनसभा को संबोधित कर रहे स्वामी प्रसाद मौर्य पर एक युवक ने जूता फेंक दिया था। वीडियो में देखा जा सकता है कि पीछे से उठकर आए युवक ने उनके ऊपर जूता फेंक दिया हालांकि जूता मौर्य को नहीं लगा। पुलिस ने युवक को हिरासत में लिया था।

यह भी पढ़ें: प्रमुख सचिव स्वास्थ्य ने एनक्वास सर्टिफाइड सीएचसी चोलापुर के अधीक्षक डॉ आरबी यादव को किया सम्मानित

किसी और शख्स को लगा जूता

जब युवक ने जूता फेंका तो वह मौर्य के पास मोबाइल फोन पकड़े खड़े व्यक्ति को जा लगा। लोगों ने तुरंत उस व्यक्ति को पकड़ लिया और पुलिस को सौंपने से पहले उसकी पिटाई की। घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वीडियो में देखा जा सकता है कि मौर्य मंच पर भाषण दे रहे थे तभी एक शख्स अचानक उठा और अपना जूता निकालकर मौर्य पर फेंक दिया। हालांकि जूता उन्हें नहीं लगा। जनता ने उस शख्स को पकड़कर जमकर पिटाई की थी। बाद में पुलिस ने उसे शांति भंग करने के आरोप में जेल भेज दिया था।

वहीं, अब चुनाव से ठीक पहले फतेहपुर सीकरी लोकसभा से राष्ट्रीय शोषित समाज पार्टी के प्रत्याशी होतम सिंह के वीडियो ने माहौल को गर्म कर दिया है।

यह भी पढ़ें: रायबरेली से 'नकली' गांधी परिवार की विदाई तय- दिनेश प्रताप सिंह

Monday, May 6, 2024

रायबरेली से 'नकली' गांधी परिवार की विदाई तय- दिनेश प्रताप सिंह

लोक सभा चुनाव 2024: कांग्रेस ने रायबरेली और अमेठी के सस्‍पेंस से पर्दा उठा दिया. जहां रायबरेली से राहुल गांधी चुनाव लड़ रहे हैं तो अमेठी से किशोरी लाल शर्मा को पार्टी के उम्‍मीदवार हैं. सबसे बड़ी दिलचस्‍प बात यह है कि तीन मई को जब नामांकन की आखिरी तारीख थी तो उसी दिन अंतिम पलों में कांग्रेस की तरफ से यह बड़ा ऐलान किया गया. अमेठी की तरह रायबरेली भी हमेशा से कांग्रेस का गढ़ रहा है. दो मई को ही बीजेपी की तरफ से रायबरेली के लिए प्रत्‍याशी का ऐलान किया गया. यहां से बीजेपी ने दिनेश प्रताप सिंह को टिकट दिया है. अब यह तो वक्‍त ही बताएगा कि कौन किस पर भारी पड़ेगा लेकिन आंकड़ें कांग्रेस की तरफ इशारा कर रहे हैं.


यह भी पढ़ें: इन चार राशियों के लिए बेहतरीन रहेगा सोमवार, बरसेगी भोले नाथ की कृपा 

जिस दिनेश प्रताप सिंह को भाजपा ने अपना उम्मीदवार घोषित किया है, वह साल 2018 में कांग्रेस छोड़कर पार्टी में आए हैं. वह उत्तर प्रदेश के राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और भाजपा नेता हैं. 2019 में उनका मुकाबला रायबरेली में सोनिया गांधी से था. दिनेश प्रताप सिंह को उस चुनाव में हार का मुंह देखना पड़ा था. वह पिछले लोकसभा चुनाव में रायबरेली में दूसरे नंबर पर आए थे. दिनेश प्रताप सिंह पहली बार साल 2010 में और दूसरी बार 2016 में कांग्रेस से विधान परिषद के सदस्य बने थे. फिर उन्‍होंने पार्टी को अलविदा कह दिया और बीजेपी का दामन थाम लिया. साल 2022 में दिनेश प्रताप सिंह बीजेपी के टिकट पर रिकॉर्ड वोटों से जीतकर तीसरी बार एमएलसी बने थे. 

यह भी पढ़ें: BHU सर सुंदरलाल अस्पताल में बैग ले जाने पर रोक, चोरी हो रहे मेडिकल उपकरण

भाजपा को जीत की उम्मीद 
भाजपा की ओर से रायबरेली से उम्मीदवार बनाए जाने के बाद दिनेश प्रताप सिंह ने कहा, 'मैं देश को आश्वस्त करता हूं कि रायबरेली से 'नकली' गांधी परिवार की विदाई तय है. यह तय है कि बीजेपी का 'कमल' खिलेगा और कांग्रेस हारेगी.' दिनेश प्रताप सिंह इस बार जीत के लिए किस कदर आश्‍वस्‍त हैं इस बात का अंदाजा उनके एक बयान से ही लगाया जा सकता है. उन्‍होंने गुरुवार को कहा, 'मैंने चार बार की सांसद सोनिया गांधी के खिलाफ भी चुनाव लड़ा है. इसलिए प्रियंका, राहुल गांधी मेरे लिए महत्वपूर्ण नहीं हैं.  जो भी गांधी रायबरेली आएंगे, वे हारेंगे.'


यह भी पढ़ें: मंडलीय हॉस्पिटल के मरीजों को भी काशी विश्वनाथ मंदिर न्यास के ओर से कराया जाएगा भोजन

क्‍या कहता है इतिहास 
रायबरेली हमेशा से कांग्रेस का गढ़ रहा है. कांग्रेस की पूर्व अध्‍यक्ष सोनिया गांधी ने साल 2004 में रायबरेली से चुनाव लड़ा था. वहीं राहुल के लिए यह पहला मौका होगा जब वह रायबरेली से चुनाव लड़ेंगे. साल 1952 में पहली बार रायबरेली लोकसभा सीट अस्तित्‍व में आई थी. आंकड़ों के हिसाब से कांग्रेस अभी तक यहां पर सबसे सफल पार्टी रही है. लोकसभा चुनावों में जहां कांग्रेस को 17 बार जीत हासिल हुई और उसका विनिंग परसेंटेज 85 फीसदी रहा तो वहीं बीजेपी को सिर्फ दो बार ही जीत मिली है. बीजेपी की जीत का प्रतिशत सिर्फ 10 फीसदी ही है, जबकि एक बार जनता पार्टी के उम्‍मीदवार को जीत मिली है. 


यह भी पढ़ें: इन राशियों के लिए शनिवार रहेगा शानदार, पढ़ें क्या कहते हैं आपके सितारे

 

रायबरेली में कांग्रेस हावी 
सन् 1957 में यहां पर फिरोज गांधी को 162,595 वोटों से जीत मिली थी. 1971 में इंदिरा गांधी ने यहां पर चुनाव लड़ा और उन्‍हें 183,309 वोट मिले थे. 1977 में जो चुनाव हुए तो उसके नतीजों पर इमरजेंसी का असर नजर आया. वोटर्स ने जनता पार्टी के उम्‍मीदवार राजनारायण को विजयी करवाया. हालांकि 1980 में हुए उपचुनावों में कांग्रेस के अरुण नेहरु की जीत के साथ सीट फिर से कांग्रेस के पास आ गई.

 

1996 और 1998 के चुनावों में यहां पर बीजेपी उम्‍मीदवार अशोक सिंह को जीत मिली थी, लेकिन 1999 से यह सीट कांग्रेस के ही पास है. आंकड़े तो यही कहते हैं कि शायद राहुल को इस सीट पर कांग्रेस पार्टी के लिए बने मजबूत जनाधार का फायदा मिल जाए. दिनेश प्रताप सिंह का रिकॉर्ड यहां पर सेकेंड आने का रहा है. ऐसे में इस बार चुनाव में इस सीट पर रोमांचक मुकाबला देखने को मिल सकता है.

यह भी पढ़ें: अपर पुलिस आयुक्त, कानून एवं व्यवस्था डा0 एस चन्नप्पा ने चौबेपुर थाना क्षेत्र के संवेदनशील व अति संवेदनशील बूथों का निरीक्षण किया

Thursday, May 2, 2024

अपर पुलिस आयुक्त, कानून एवं व्यवस्था डा0 एस चन्नप्पा ने चौबेपुर थाना क्षेत्र के संवेदनशील व अति संवेदनशील बूथों का निरीक्षण किया

वाराणसी: दिनाँक-02.05.2024 को अपर पुलिस आयुक्त कानून एवं व्यवस्था डा0 एस चन्नप्पा द्वारा लोकसभा सामान्य निर्वाचन-2024 के दृष्टिगत चौबेपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत पड़ने वाले संवेदनशील व अति संवेदनशील बूथों का निरीक्षण किया गया।


यह भी पढ़ें: बैलगाड़ी से नामांकन करने पहुंचा प्रत्याशी, बना आकर्षण का केंद्र

निरीक्षण के दौरान चुनाव को शांतिपूर्ण एवं निष्पक्ष रूप से संपन्न कराने हेतु की जा रही चुनाव संबंधी तैयारियों/व्यवस्थाओं की समीक्षा की गई एवं बूथों का भौतिक निरीक्षण करके आवश्यक मूलभूत सुविधाएं जैसे बिजली, पानी, शौचालय आदि व मतदान केंद्रो पर सुगम आवागमन व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए। तथा चुनाव की संवेदनशीलता को देखते हुए विशेष सतर्कता बरतने हेतु थाना चौबेपुर में सहायक पुलिस आयुक्त सारनाथ, प्रभारी निरीक्षक चौबेपुर व समस्त चौकी प्रभारी के साथ बैठक की गई.

यह भी पढ़ें: एम्बुलेंस अधिकारियों ने एम्बुलेंस किया अकास्मिक निरीक्षण

बैठक  में आदर्श आचार संहिता के नियमों का पालन कराने तथा लोकसभा सामान्य निर्वाचन - 2024 को निष्पक्ष, शांतिपूर्ण व सकुशल संपन्न कराने व अन्य महत्वपूर्ण बिंदुओं पर विचार विमर्श किया गया. साथ ही साथ असामाजिक तत्वों के विरुद्ध आवश्यक निरोधात्मक कार्यवाही में तेजी लाने हेतु निर्देशित किया गया तथा असामाजिक तत्वों पर निगरानी किए जाने हेतु निर्देशित किया गया।

यह भी पढ़ें: छेड़छाड़ के मामले को चौबेपुर पुलिस ने बना दिया मारपीट का मामला, लड़कियों के बयान को किया नजरअंदाज 

साथ ही साथ डा0 एस चन्नप्पा  द्वारा थाना चौबेपुर का निरीक्षण किया गया, निरीक्षण के दौरान डा0 एस चन्नप्पा  द्वारा थाना कार्यलय के रजिस्टरो, अभिलेखों का अवलोकन किया गया तथा रजिस्टरों को अध्यावधिक करने हेतु सम्बन्धित को निर्देशित किया गया।

यह भी पढ़ें: दिल्ली-NCR के 100 स्कूलों को बम से उड़ाने की धमकी, ईमेल में क्या लिखा है?