Latest News

Varanasi News
Purvanchal News

Gallery

Breaking News

Election

News

Recent Posts

Tuesday, June 18, 2024

पत्नी के गम में आईपीएस अधिकारी ने की आत्महत्या

गुवाहाटी: असम के गृह सचिव शिलादित्य चेतिया ने मंगलवार को लंबी बीमारी के चलते अपनी पत्नी के निधन के बाद गुवाहाटी के एक निजी अस्पताल में कथित तौर पर आत्महत्या कर ली। पुलिस ने यह जानकारी दी। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि 2009 बैच के भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के अधिकारी चेतिया ने गहन चिकित्सा कक्ष (आईसीयू) के अंदर अपनी सरकारी रिवॉल्वर से कथित तौर पर खुद को गोली मार ली, जहां उनकी पत्नी की मौत हो गई थी।


यह भी पढ़ें: विगत 10 वर्षों में बदलते काशी को दुनिया के लोगों ने देखा है- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

असम के डीजीपी ने क्या कहा?
असम के पुलिस महानिदेशक जीपी सिंह ने अधिकारी की मौत के बारे में लोगों को जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कैंसर के कारण उनकी पत्नी की मौत के कुछ ही मिनटों बाद उन्होंने आत्महत्या कर ली। डीजीपी जीपी सिंह ने कहा कि अधिकारी की दुखद मौत से पूरा असम पुलिस परिवार गहरे शोक में है।

विगत 10 वर्षों में बदलते काशी को दुनिया के लोगों ने देखा है- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

वाराणसी: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कार्यक्रम में दुनिया के सबसे लोकप्रिय राजनेता, भारत के प्रधानमंत्री तथा वाराणसी के लोकप्रिय सांसद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मां गंगा का यशस्वी पुत्र बताते हुए काशी एवं उत्तर प्रदेश के अन्नदाता किसानों एवं काशीवासियों की ओर से उनका अभिनंदन किया। उन्होंने कहा कि देश की आजादी के 62 वर्ष बाद यह अवसर पहली बार आया है कि अपनी लोकप्रियता के आधार पर तीसरी बार नरेंद्र मोदी ने देश के प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली है। इनके नेतृत्व में एक नए भारत का दर्शन लोग कर रहे हैं। भारत दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनाने की ओर अग्रसर है। 


यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री ने वाराणसी से पीएम-किसान की 17वीं किस्त किया जारी, मतदाताओं का लोकतंत्र के उत्सव को सफल बनाने के लिए जताया आभार

उन्होंने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि वर्ष 2014 में देश के अन्नदाता किसान राजनीतिक एजेंडा का हिस्सा बने और किसानों के उत्थान के लिए किये जा रहे कार्यों का परिणाम अब लोग देख रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि विगत 10 वर्षों में बदलते काशी को दुनिया के लोगों ने देखा है। हजारों करोड़ रुपए के विकास कार्य यहां कराए गए हैं। दुनिया के लोग काशी को नये कलेवर में बदलता हुआ देख रहे हैं। मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को उन्हीं के काशी में अन्नदाता किसानों एवं काशीवासियों के ओर से बधाई दी। उन्होंने कहा कि जब तीसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ मोदी जी ने ली, तो उन्होंने सबसे पहला कार्य और सबसे पहले किसी एक फाइल पर हस्ताक्षर किया तो किसानों के लिए किया। किसानों के लिए समर्पित और आज देश के करोड़ों किसानों को प्रधानमंत्री मोदी द्वारा प्रधानमंत्री किसान सम्मन निधि की नई सौगात के साथ अभियान का शुभारंभ होने जा रहा है। 

यह भी पढ़ें: यूपी के साथ-साथ दिल्ली, पंजाब, हरियाणा के लोगों को इस तारीख को मिलेगी तपन से मुक्ति

मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने भीषण आग बरसाती गर्मी की चर्चा करते हुए कहा कि प्रकृति व परमात्मा का संगम आज काशी में देखने को मिला है। जब गत दिनों की भीषण गर्मी के बावजूद आज काशी में प्रधानमंत्री की किसान सम्मान सम्मेलन कार्यक्रम के दौरान अचानक मौसम परिवर्तन के रूप में देखने को मिला है। इससे पूर्व केंद्रीय कृषि मंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने भी प्रधानमंत्री का स्वागत करते हुए सम्मेलन में आए किसानों को संबोधित किया।

यह भी पढ़ें: वायनाड छोड़ रायबरेली के हुए राहुल, अब प्रियंका गांधी लड़ेंगी उपचुनाव

बताते चले कि विकसित भारत का संकल्प पूरा करने के लिए कृषि सबसे महत्वपूर्ण आधार है और कृषि भारतीय अर्थव्यवस्था की नींव है। रोजगार के सबसे ज्यादा अवसर कृषि के माध्यम से ही सृजित होते हैं। कृषि और किसान पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सर्वोच्च प्राथमिकता रहे हैं, जिसके चलते किसानों के कल्याण के लिए अनेकों कदम उठाए गये और अभी भी प्रधानमंत्री ने पद ग्रहण करने के बाद सबसे पहले किसान सम्मान निधि की 17वीं किस्त किसानों को जारी करने को लेकर हस्ताक्षर किए। 

गौरतलब है कि किसान सम्मान निधि 24 फरवरी 2019 को शुरू की गई एक केंद्रीय क्षेत्र की योजना है।लाभार्थियों के पंजीकरण और सत्यापन में पूर्ण पारदर्शिता बनाए रखते हुए केंद्र सरकार ने देश भर में लगभग 11 करोड़ से अधिक किसानों को 3.04 लाख करोड़ रुपये से अधिक का वितरण किया है और इसके साथ ही, योजना की शुरुआत से लाभार्थियों को हस्तांतरित कुल राशि 3.24 लाख करोड़ रुपये से अधिक हो जाएगी। आज अन्नदाताओं की खुशहाली के साथ विकसित भारत के संकल्प की सिद्धि का भी श्री गणेश हुआ। 

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में हुए सड़क हादसे पर सीएम योगी ने जताया शोक, सीएम के निर्देश पर अधिकारियों की टीम रुद्रप्रयाग रवाना

इससे पूर्व प्रधानमंत्री का जनसभा स्थल पर भव्य स्वागत किया गया। केन्द्रीय कृषि मंत्री शिवराज सिंह चौहान व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अंग वस्त्र भेटकर प्रधानमंत्री को सम्मानित किया। वहीं तीन किसानों ने भी उनका सम्मानित किया। कार्यक्रम में 732 कृषि विज्ञान केंद्रों (केवीके), 1 लाख से अधिक प्राथमिक कृषि सहकारी समितियों और देश भर के 5 लाख कॉमन सर्विस सेंटरों के 2.5 करोड़ से अधिक किसान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ऑनलाइन शामिल रहे।

मेहंदी गंज में इनकी भी रही उपस्थिति

भाजपा क्षेत्रीय अध्यक्ष दिलीप पटेल, एमएलसी अश्वनी त्यागी, पूर्व विधायक जगदीश पटेल, पूर्व विधायक सुरेंद्र नारायण सिंह, अशोक चौरसिया, सुशील त्रिपाठी, राजेश राजभर, क्षेत्रीय मीडिया प्रभारी नवरतन राठी, सह मीडिया प्रभारी संतोष सोलापुरकर, प्रवीण सिंह गौतम, संजय सोनकर, जेपी दूबे, सुरेंद्र पटेल, सुरेश सिंह, विपिन सिंह, अनिल श्रीवास्तव, श्रीप्रकाश शुक्ला, देवेंद्र मोर्या, विनय मोर्या, विनिता सिंह, वंश नारायण पटेल, पवन सिंह, संजय सिंह, अरविंद प्रधान, अरविंद पाण्डेय, अमित पाठक, कुशाग्र श्रीवास्तव आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें: सावधान रहें सुरक्षित रहें इस बार टूटेगा गर्मी का सारा रिकॉर्ड

प्रधानमंत्री ने वाराणसी से पीएम-किसान की 17वीं किस्त किया जारी, मतदाताओं का लोकतंत्र के उत्सव को सफल बनाने के लिए जताया आभार

वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने दो दिवसीय वाराणसी दौरे के दौरान मंगलवार को राजातालाब के मेहदीगंज में आयोजित किसान सम्मान सम्मेलन में पीएम- किसान के अंतर्गत 20 हजार करोड़ रुपए की 17 वीं किस्त जारी किया. साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने कृषि सखियों के रूप में 30,000 से अधिक स्वयं सहायता समूहों को प्रमाण पत्र प्रदान किया। इस प्रकार तीसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद अपने सबसे पहले कार्यक्रम में पीएम किसान की बहुप्रतीक्षित 17वीं किस्त, 20,000 करोड़ रुपये से अधिक की राशि, 9.26 करोड़ से अधिक लाभार्थी किसानों को प्रधानमंत्री ने मंगलवार को वाराणसी से बटन के एक क्लिक से वितरित किया। जैसे ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने डिजिटल बटन को क्लिक किया, किसानों के बैंक खातों में खटाखट- खटाखट, दनादन-दनादन उनकी सम्मान राशि पहुंच गई। जिससे कार्यक्रम में शामिल किसानों के चेहरे खुशी से खिल उठे।


यह भी पढ़ें: यूपी के साथ-साथ दिल्ली, पंजाब, हरियाणा के लोगों को इस तारीख को मिलेगी तपन से मुक्ति

इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विशाल किसान सम्मेलन में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि भोजपुरी में कहा कि "चुनाव के बाद आज हम पहली बार बनारस आयल हईं। काशी के जनता जनार्दन के हमार प्रणाम"। बाबा विश्वनाथ और मां गंगा के आशीर्वाद से काशीवासियों के असीम प्यार से मुझे तीसरी बार देश का प्रधान सेवक बनने का सौभाग्य मिला है। उन्होने कहा कि काशी के लोगों ने मुझे लगातार तीसरी बार अपना प्रतिनिधि चुनकर धन्य कर दिया है। जैसे माँ गंगा ने मुझे गोद ले लिया है। मैं यहीं का हो गया। 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत के मतदाताओं की संख्या सबसे ज्यादा जी 7 के सारे मतदाताओं को मिला दें, तो भी भारत के वोटर की संख्या उनसे डेढ़ गुना ज्यादा है। यूरोप के तमाम देशों को जोड़ दें, यूरोपीय यूनियन के सारे मतदाताओं को जोड़ दें तो भी भारत के वोटर की संख्या उनसे ढाई गुना ज्यादा है। मैं आपका ऋणी हूं। उन्होंने कहा कि भारत में 18वीं लोकसभा के लिए हुआ यह चुनाव भारत के लोकतंत्र की विशालता को, भारत के लोकतंत्र के समर्थक को, भारत के लोकतंत्र की व्यापकता को, भारत के लोकतंत्र की जड़ों की गहराई को दुनिया के सामने पूरे समर्थ के साथ प्रस्तुत करता है। इस चुनाव में देश के 64 करोड़ से ज्यादा लोगों ने मतदान किया। पूरी दुनिया में इससे बड़ा चुनाव कहीं और नहीं होता है, जहां इतनी बड़ी संख्या में लोग वोटिंग में हिस्सा लेते।  

यह भी पढ़ें: वायनाड छोड़ रायबरेली के हुए राहुल, अब प्रियंका गांधी लड़ेंगी उपचुनाव

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि इस चुनाव में 31 करोड़ से ज्यादा महिलाओं ने हिस्सा लिया है। यह एक देश में महिला वोटर की संख्या के हिसाब से पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा है। यह संख्या अमेरिका के पूरे आबादी के आसपास है। भारत के लोकतंत्र की यही खूबसूरती यही ताकत पूरी दुनिया को आकर्षित भी करती है। प्रभावित भी करती है। उन्होने बनारस के हर मतदाता का भी लोकतंत्र के उत्सव को सफल बनाने के लिए आभार जताते हुए कहा कि यह बनारस के लोगों के लिए भी गर्व की बात है, काशी के लोगों ने तो सिर्फ एमपी नहीं बल्कि तीसरी बार पीएम भी चुना है। इसलिए काशीवासियों को प्रधानमंत्री ने डबल बधाई दी। उन्होने कहा कि इस चुनाव में देश के लोगों ने जो जनादेश दिया है, वह वाकई अभूतपूर्व है। एक नया इतिहास रचा। दुनिया के लोकतांत्रिक देश में ऐसा बहुत कम ही देखा गया है कि कोई चुनी हुई सरकार लगातार तीसरी बार वापसी करें। जनता ने यह भी करके दिखाया है। ऐसा भारत में 60 साल पहले हुआ था, तब से भारत में किसी सरकार ने इस तरह हैट्रिक नहीं लगाई। 

उन्होने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि लोगों ने यह सौभाग्य हमें, अपने सेवक मोदी को दिया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि भारत जैसे देश में जहां युवा आकांक्षा इतनी बड़ी है, जहां जनता के आधार सपने हैं, वहां लोग अगर किसी सरकार को 10 साल के काम के बाद फिर सेवा का अवसर देते हैं, तो यह बहुत बड़ा विश्वास है। उन्होने कहा कि नौजवान, नारी शक्ति और गरीब सभी को भारत का मजबूत स्तंभ माना है। अपने तीसरे कार्यकाल की शुरुआत मैंने सरकार बनते ही सबसे पहले फैसला किसान और गरीब परिवारों से जुड़ा फैसला लिया। देश भर में गरीब परिवारों के लिए तीन करोड़ घर बनाने हों या फिर पीएम किसान सम्मन निधि को आगे बढ़ाना हो यह फैसला करोड़ों लोगों की मदद करेंगा। किसान सम्मान सम्मेलन कार्यक्रम भी विकसित भारत के इसी रास्ते को सशक्त करने वाला है। 

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में हुए सड़क हादसे पर सीएम योगी ने जताया शोक, सीएम के निर्देश पर अधिकारियों की टीम रुद्रप्रयाग रवाना

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि काशी के साथ-साथ काशी से ही देश के गांव से जुड़े करोड़ों किसान हमारे साथ जुड़े हुए हैं और यह सारे हमारे किसान माताएं, भाई-बहन की शोभा बढ़ा रहे हैं। उन्होने अपनी काशी से हिंदुस्तान के कोने-कोने में गांव-गांव में आज टेक्नोलॉजी से जुड़े हुए सभी किसान भाई बहनों का अभिवादन किया। उन्होने कहा कि देश भर के करोड़ों किसानों के बैंक खाते में पीएम किसान सम्मन निधि के 20,000 करोड़ रुपए पहुंचे हैं। आज 3 करोड़ बहनों को लखपति दीदी बनाने की तरफ भी बहुत बड़ा कदम उठाया गया है। उन्हें सम्मान और आय के नए साधन दोनों सुनिश्चित करेंगे। उन्होने सभी किसान परिवारों को, माता बहनों को बहुत-बहुत शुभकामनाएं देते हुए कहा कि पीएम किसान सम्मान निधि आज दुनिया की सबसे बड़ी डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर स्कीम बन चुका है। अभी तक देश के करोड़ों किसान परिवारों की बैंक खाते में 3:15 लाख करोड़ रुपये जमा हो चुके हैं। यहां वाराणसी जिले के किसानों के खाते में भी 700 करोड़ रुपये जमा हुए। प्रसन्नता व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि पीएम किसान सम्मान निधि में सभी लाभार्थी तक लाभ पहुंचाने के लिए टेक्नोलॉजी का बेहतर इस्तेमाल हुआ है। कुछ महीने पहले ही भारत संकल्प यात्रा के दौरान भी एक करोड़ से अधिक किसान इस योजना से जुड़े। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि किसान आत्मनिर्भर बन रहा है और कृषि निर्यात में अग्रणी बना है। इसके लिए उन्होने बनारस का लंगड़ा आम, जौनपुर की मूली, गाजीपुर की भिंडी की चर्चा करते हुए कहा कि ऐसे अनेक उत्पाद आज विदेशी मार्केट में पहुंच रहे हैं। वन जिला वन प्रोडक्ट और जिला स्तर पर एक्सपोर्ट हब बनने से एक्सपर्ट बढ़ रहा है और उत्पादन भी एक्सपोर्ट क्वालिटी का होने लगा। उन्होंने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि अब हमें ग्लोबल मार्केट में देश को नई ऊंचाई पर ले जाना और मेरा तो सपना है कि दुनिया की हर डाइनिंग टेबल पर भारत का कोई न कोई खजाना डिफेक्ट वाले मंत्र को बढ़ावा देना। मोटे अनाज श्री अन्न का उत्पादन हो, औषधीय गुण वाली फसल हो या फिर प्राकृतिक खेती की तरफ बढ़ना। पीएम किसान समृद्धि के माध्यम से किसानों के लिए एक बड़ा सपोर्ट सिस्टम विकसित किया जा रहा है। 

यह भी पढ़ें: सावधान रहें सुरक्षित रहें इस बार टूटेगा गर्मी का सारा रिकॉर्ड

उन्होने कार्यक्रम में बड़ी संख्या में उपस्थित महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा कि इनके बिना खेती की कल्पना भी नहीं संभव है। इसलिए अब खेती को नई दिशा देने में भी माता बहनों की भूमिका का विस्तार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हमने आशा कार्यकर्ता के रूप में बहनों का काम देखा। डिजिटल इंडिया बनाने में बहनों की भूमिका अच्छी है। अब हम कृषि सखी के रूप में खेती को नई ताकत मिलते हुए देखेंगे। आज कार्यक्रम के दौरान 30,000 सहायता समूह को कृषि सखी के रूप में प्रमाण पत्र दिए गए। अभी 12 राज्यों में यह योजना शुरू हुई है। आने वाले समय में पूरे देश में हजारों समूह को इससे जोड़ा जाएगा। यह अभियान तीन करोड़ लखपति दीदी बनाने में भी मदद करेगा।  

इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उप मुख्यमंत्री द्वय केशव प्रसाद मोर्या, ब्रजेश पाठक, केंद्रीय मंत्री शिवराज सिंह चौहान, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह चौधरी, प्रदेश के कैबिनेट मंत्री सुर्य प्रताप शाही, जयवीर सिंह अनिल राजभर, राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार रविन्द्र जायसवाल, डॉ दयाशंकर मिश्र दयालु, विधायक डॉ अवधेश सिंह, विधायक टी.राम, विधायक सुनील पटेल, भाजपा जिलाध्यक्ष एवं एमएलसी हंसराज विश्वकर्मा, जिला पंचायत अध्यक्ष पूनम मोर्या, मंचासिंन रहे।

यह भी पढ़ें: मेरठ के मदरशो में छात्रवृत्ति वितरण में 3 करोड़ रुपये गबन के मामले में तत्कालीन जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी को मिली अग्रिम जमानत

यूपी के साथ-साथ दिल्ली, पंजाब, हरियाणा के लोगों को इस तारीख को मिलेगी तपन से मुक्ति

नई दिल्ली: पंजाब, हरियाणा, दिल्ली और यूपी सहित देश के ज्यादातर हिस्सों में भीषण गर्मी का प्रकोप जारी है. उत्तर-पश्चिम भारत के बड़े हिस्से में 17 जून, 2024 को भी गर्मी का सितम जारी रहा. इस बीच मौसम विभाग ने बताया कि लोगों को 18 जून, 2024 को भी इससे राहत नहीं मिलेगी. 


यह भी पढ़ें: वायनाड छोड़ रायबरेली के हुए राहुल, अब प्रियंका गांधी लड़ेंगी उपचुनाव

IMD ने कहा कि उत्तर भारत के कई हिस्सों में अगले 2 दिनों के दौरान सीवियर हीटवेव की स्थिति जारी रहने की संभावना है. इसके बाद इसमें धीरे-धीरे कमी आ सकती है. यानी कि 19 और 20 जून से भीषण गर्मी से कुछ राहत मिलने की उम्मीद है. 

IMD ने सोमवार को अपने पूर्वानुमान में बताया कि दो दिनों के बाद उत्तर-पश्चिम भारत की ओर बढ़ रहे पश्चिमी विक्षोभ (वेस्टर्न डिस्टर्बन्स) के प्रभाव से गर्मी में धीरे-धीरे कमी आएगी. तो वहीं, मानसून की दस्तक से भी थोड़ी राहत मिल सकती है. 

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में हुए सड़क हादसे पर सीएम योगी ने जताया शोक, सीएम के निर्देश पर अधिकारियों की टीम रुद्रप्रयाग रवाना

किन राज्य में हीटवेव रहेगी?
IMD ने कहा कि पंजाब, हरियाणा, दिल्ली और यूपी के कई हिस्सों, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पूर्वी मध्य प्रदेश, बिहार और झारखंड के कुछ हिस्सों में आज उष्ण लहर से लेकर गंभीर उष्ण लहर (Severe Heatwave) की स्थिति होने की संभावना है. 

किन राज्यों में बारिश होगी?
IMD ने बताया कि पूर्वोत्तर के राज्य असम, अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड, त्रिपुरा और सिक्किम के कई हिस्सों में अगले 3 दिनों के दौरान भारी से बहुत भारी बारिश हो सकती है. 

यह भी पढ़ें: सावधान रहें सुरक्षित रहें इस बार टूटेगा गर्मी का सारा रिकॉर्ड

कहां कैसा मौसम रहा?
IMD कार्यालय ने कहा कि यूपी, हरियाणा, दिल्ली, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश, झारखंड और बिहार में अधिकांश स्थानों पर अधिकतम तापमान सामान्य से काफी ऊपर रहा. उत्तराखंड के देहरादून में अधिकतम तापमान 43.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो इस मौसम के सामान्य से 9.5 डिग्री अधिक है, जबकि हिमाचल प्रदेश के ऊना में अधिकतम तापमान 44 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.  तो वहीं, झारखंड के डाल्टनगंज में अधिकतम तापमान 46 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्य से 9.1 डिग्री अधिक था. 

कब कहां मानसून पहुंचेगा?
IMD ने बताया कि मानसून के यूपी में 20-30 जून तक और दिल्ली में 27 जून के आसपास पहुंचने की उम्मीद है. यहां के बाद मानसून पंजाब और हरियाणा में भी प्रवेश कर सकता है. 

यह भी पढ़ें: मेरठ के मदरशो में छात्रवृत्ति वितरण में 3 करोड़ रुपये गबन के मामले में तत्कालीन जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी को मिली अग्रिम जमानत

Monday, June 17, 2024

वायनाड छोड़ रायबरेली के हुए राहुल, अब प्रियंका गांधी लड़ेंगी उपचुनाव

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने सोमवार को मीडिया बातचीत में बताया कि कि राहुल गांधी रायबरेली से सांसद बने रहेंगे. तो वहीं उन्होंने उनके वायनाड सीट छोड़ने की घोषणा करने के साथ साथ यह भी कहा कि, प्रियंका गांधी वायनाड से उपचुनाव लड़ेंगी.


यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में हुए सड़क हादसे पर सीएम योगी ने जताया शोक, सीएम के निर्देश पर अधिकारियों की टीम रुद्रप्रयाग रवाना

कांग्रेस ने वायनाड से प्रियंका को उतारा

इस दौरान उन्होंने प्रियंका गांधी के एक पुराने स्लोगन 'लड़की हूं, लड़ सकती हूं' का प्रयोग करते हुए कहा कि वह वायनाड से उपचुनाव लड़ेंगी. इस तरह कांग्रेस ने एक ही दिन में दो बड़ी घोषणाएं की हैं. एक तो राहुल गांधी का निर्णय कि वह रायबरेली से ही सांसद बने रहेंगे और दूसरा कि कांग्रेस ने वायनाड उपचुनाव के लिए अपना प्रत्याशी भी उतार दिया है.

यह भी पढ़ें: सावधान रहें सुरक्षित रहें इस बार टूटेगा गर्मी का सारा रिकॉर्ड

पारिवारिक गढ़ रायबरेली से सांसद बने रहेंगे राहुल गांधी

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सोमवार को वायनाड लोकसभा सीट छोड़ने का फैसला किया और अपने पारिवारिक गढ़ रायबरेली में रहने का फैसला किया. विशेष रूप से, राहुल गांधी ने आम चुनावों में दोनों लोकसभा सीटों - केरल में वायनाड और उत्तर प्रदेश में रायबरेली पर प्रभावशाली अंतर से जीत हासिल की. नई दिल्ली में पार्टी प्रमुख मल्लिकार्जुन खड़गे के आवास पर कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व की चर्चा के बाद एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान इस फैसले की घोषणा की गई.

यह भी पढ़ें: मेरठ के मदरशो में छात्रवृत्ति वितरण में 3 करोड़ रुपये गबन के मामले में तत्कालीन जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी को मिली अग्रिम जमानत

Saturday, June 15, 2024

उत्तराखंड में हुए सड़क हादसे पर सीएम योगी ने जताया शोक, सीएम के निर्देश पर अधिकारियों की टीम रुद्रप्रयाग रवाना

लखनऊ: उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग में शनिवार को तीर्थयात्रियों को ले जा रहा वाहन सड़क दुर्घटना का शिकार हो गया। इसमें देर शाम तक 14 लोगों के मारे जाने की सूचना है, जिसमें उत्तर प्रदेश के भी यात्री शामिल हैं। 5 गंभीर रूप से घायल हैं तो 7 सामान्य घायल बताए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस हादसे पर दुख जताते हुए शोकाकुल परिजनों के प्रति अपनी संवेदनाएं व्यक्त की हैं। साथ ही मुख्यमंत्री योगी ने मुख्यमंत्री कार्यालय और राहत आयुक्त कार्यालय को तत्काल स्थानीय प्रशासन से संपर्क कर घायलों के समुचित उपचार और आवश्यक सुरक्षा सुनिश्चित कराने के निर्देश भी दिए हैं। मुख्यमंत्री के निर्देश पर जनपद सहारनपुर से वरिष्ठ अधिकारियों की टीम रुद्रप्रयाग के लिए रवाना हो गई है। उल्लेखनीय है कि दुर्घटनाग्रस्त वाहन में दिल्ली-एनसीआर (नोएडा) के तीर्थयात्री सवार थे। उत्तराखंड के सीएम पुष्कर धामी ने दुर्घटना की जांच के आदेश दिए हैं। 


यह भी पढ़ें: सावधान रहें सुरक्षित रहें इस बार टूटेगा गर्मी का सारा रिकॉर्ड

सीएम ने लिया हादसे का संज्ञान, दिए निर्देश

सीएम योगी ने दुर्घटना पर शोक जताते हुए एक्स पर लिखा, "उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग में एक सड़क दुर्घटना में हुई जनहानि अत्यंत दुःखद व दुर्भाग्यपूर्ण है। मेरी संवेदनाएं शोकाकुल परिजनों के साथ हैं। प्रभु श्री राम से प्रार्थना है कि दिवंगत पुण्यात्माओं को सद्गति और घायलों को शीघ्र स्वास्थ्य लाभ प्रदान करें।" सीएम योगी ने हादसे का संज्ञान लेते हुए वरिष्ठ अधिकारियों को घायल यात्रियों के समुचित उपचार और आवश्यक सुरक्षा सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए अधिकारियों को स्थानीय प्रशासन के संपर्क में रहने को कहा गया है और पल पल की रिपोर्ट मुख्यमंत्री के संज्ञान में लाने के निर्देश दिए गए हैं।

यह भी पढ़ें: मेरठ के मदरशो में छात्रवृत्ति वितरण में 3 करोड़ रुपये गबन के मामले में तत्कालीन जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी को मिली अग्रिम जमानत

गुरुग्राम से तुंगनाथ जा रहे थे तीर्थयात्री, यूपी के यात्री भी थे सवार 

प्राप्त जानकारी के अनुसार,वाहन गुरुग्राम से तुंगनाथ जा रहा था। इसमें कुल 26 लोग सवार थे। वाहन शनिवार को रुद्रप्रयाग मुख्यालय के समीप रैंतोली के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया। वाहन हाईवे से करीब 200 मीटर गहरी खाई में जा गिरा, जिसके चलते 10 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि 14 लोगों को रेस्क्यू कर जिला अस्पताल रुद्रप्रयाग लाया गया। अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टर्स ने एक व्यक्ति को मृत घोषित कर दिया, जबकि एक व्यक्ति की मृत्यु इलाज के दौरान हो गई। 2 मृतकों की शिनाख्त नहीं हो पाई है।  7 घायलों की स्थिति की गंभीरता को देखते हुए उन्हें एयर लिफ्ट किया गया है। स्टेट इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर द्वारा अवगत कराया गया है कि गाड़ी का नंबर हरियाणा राज्य का था।

यह भी पढ़ें: डाक विभाग के इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक में मात्र ₹549 में होगा 10 लाख का दुर्घटना बीमा

सावधान रहें सुरक्षित रहें इस बार टूटेगा गर्मी का सारा रिकॉर्ड

वाराणसी: पुरे उत्तर प्रदेश सहित बिहार भी इस समय भीषण गर्मी और तपिश झेल रहा है. अचानक चलते चलते लोग गिरकर मर रहें है. अगर मौसम विभाग की माने तो अगले 48 घंटे में हीट वेव से तड़प उठेगा पश्चिमी उत्तर प्रदेश सहित पूर्वी उत्तर प्रदेश भी.


यह भी पढ़ें: मेरठ के मदरशो में छात्रवृत्ति वितरण में 3 करोड़ रुपये गबन के मामले में तत्कालीन जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी को मिली अग्रिम जमानत

वाराणसी में होगी भीषड़ तपिश वहीँ प्रयागराज मिर्ज़ापुर सोनभद्र सहित औरैईया इत्यादि शहर रिकॉर्ड तोड़ तपिश का सामना करेंगे. अगले 48घंटे अनावश्यक ना निकले घर से बाहर छोटे बच्चों एवं बुज़ुर्ग लोगों का रखे ख्याल. 

यह भी पढ़ें: डाक विभाग के इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक में मात्र ₹549 में होगा 10 लाख का दुर्घटना बीमा

पानी का अत्यधिक सेवन करें यदि घर से बाहर निकले तो सूती कपड़े से मुँह ढक कर फुल शर्ट पहने महिलाएं सूती सूट का प्रयोग करें नशा की वस्तुओं से दूर रहें शीतल पेय इस्तेमाल करें.

यह भी पढ़ें: स्वास्थ्य विभाग ने पंचायत घर के लिए आरक्षित जमीन पर कब्जा कर बना दिया स्वास्थ्य उपकेंद्र, पूर्व प्रधान व सचिव ने नहीं जताई कोई आपत्ति

Video